जैसा की आप जानते हैं की Google पूरी दूनियां में सबसे बड़ी कंपनी है और इसके बहुत सारे सर्विसेज हैं जिसमे की Gmail YouTube भी शामिल हैं। Google का एक और service है जिसका नाम है Google Adsense जोकि हम सब को घर बैठे पैसा कमाई करने का मौका देता है। अगर आप Google Adsense के मेंबर बन जाते हैं जोकि बहुत ही आसान है, तो Google आपको advertisement देता है जिसे आप अपने website में लगाकर पैसा कमा सकते हैं। Google से पैसा कामना सबसे अच्छा और आसान तरीका है और लाखो लोग इससे घर बैठे पैसा कमा रहे हैं।

अच्छी तरह से संरक्षित शहर एक चट्टानी रिज पर बैठता है। इसकी छः किलोमीटर की दीवार की दीवार के भीतर सुंदर लाल बलुआ पत्थर से बने विस्तृत नक्काशीदार संरचनाओं का एक कॉर्नुकोपिया है। इनमें भारत की सबसे बड़ी मस्जिदों में से एक, तीन महल और अन्य प्रारंभिक मुगल संरचनाएं शामिल हैं, जो मुस्लिम और हिंदू वास्तुकला दोनों प्रभावों का प्रदर्शन करती हैं। यह त्याग किया हुआ शहर अभी भी अपने महलों और अदालतों की वायुमंडलीय सुंदरता के कारण कई आगंतुकों को आकर्षित करता है।
शारदीय नवरात्र के शुभारंभ के पहले दिन बुधवार को घट स्थापना की जाएगी। नवरात्र की अष्टमी 17 अक्तूबर को और नवमी 18 को मनाई जाएगी। शास्त्री उमाकांत अवस्थी ने बताया कि पवित्र स्थान की मिट्टी से वेदी बनाकर उसमें जौ और गेहूं बोएं। फिर उन पर कलश को विधिपूर्वक स्थापित करें।  कलश के ऊपर मूर्ति की प्रतिष्ठा करने का विधान है। मूर्ति न हो तो कलश के पीछे स्वास्तिक और उसके दोनों कोनों में दुर्गाजी का चित्र, पुस्तक व शालीग्राम को विराजित कर भगवान विष्णु का पूजन कर दें। 
मित्रों भारत को विश्व में सोने की चिड़िया कहा गया किन्तु एक बात सोचने वाली है कि यहाँ तो कोई सोने की खाने नहीं हैं फिर यहाँ विश्व का सबसे बड़ा सोने का भण्डार बना कैसे? यहाँ प्रश्न जरूर पैदा होते हैं किन्तु एक उत्तर यह मिलता है कि हम हमेशा से गरीब नहीं थे। अब जब भारत में सोना नहीं होता तो साफ़ है कि भारत में सोना आया विदेशों से। किन्तु हमने तो कभी किसी देश को नहीं लूटा। इतिहास में ऐसा कोई भी साक्ष्य नहीं है जिससे भारत पर ऐसा आरोप लगाया जा सके कि भारत ने अमुक देश को लूटा, भारत ने अमुक देश को गुलाम बनाया, न ही भारत ने आज कि तरह किसी देश से कोई क़र्ज़ लिया फिर यह सोना आया कहाँ से? तो यहाँ जानकारी लेने पर आपको कूछ ऐसे सबूत मिलेंगे जिससे पता चलता है कि कालान्तर में भारत का निर्यात विश्व का ३३% था। अर्थात विश्व भर में होने वाले कुल निर्यात का ३३% निर्यात भारत से होता था। हम ३५०० वर्षों तक दुनिया में कपडा निर्यात करते रहे क्यों की भारत में उत्तम कोटी का कपास पैदा होता था। तो दुनिता को सबसे पहले कपडा पहनाने वाला देश भारत ही रहा है। कपडे के बाद खान पान की अनेक वस्तुएं भारत दुनिया में निर्यात करता था क्यों कि खेती का सबसे पहले जन्म भारत में ही हुआ है। खान पान के बाद भारत में करीब ९० अलग अलग प्रकार के खनीज भारत भूमी से निकलते है जिनमे लोहा, ताम्बा, अभ्रक, जस्ता, बौक् साईट, एल्यूमीनियम और न जाने क्या क्या होता था। भारत में सबसे पहले इस्पात बनाया और इतना उत्तम कोटी का बनाया कि उससे बने जहाज सैकड़ों वर्षों तक पानी पर तैरते रहते किन्तु जंग नहीं खाते थे। क्यों की भारत में पैदा होने वाला लौह अयस्क इतनी उत्तम कोटी का था कि उससे उत्तम कोटी का इस्पात बनाया गया। लोहे को गलाने के लिये भट्टी लगानी पड़ती है और करीब १५०० डिग्री ताप की जरूरत पड़ती है और उस समय केवल लकड़ी ही एक मात्र माध्यम थी जिसे जलाया जा सके। और लकड़ी अधिकतम ७०० डिग्री ताप दे सकती है फिर हम १५०० डिग्री तापमान कहा से लाते थे वो भी बिना बिजली के? तो पता चलता है कि भारत वासी उस समय कूछ विशिष्ट रसायनों का उपयोग करते थे अर्थात रसायन शास्त्र की खोज भी भारत ने ही की। खनीज के बाद चिकत्सा के क्षेत्र में भी भारत का ही सिक्का चलता था क्यों कि भारत की औषधियां पूरी दुनिया खाती थी। और इन सब वस्तुओं के बदले अफ्रीका जैसे स्वर्ण उत्पादक देश भारत को सोना देते थे। तराजू के एक पलड़े में सोना होता था और दूसरे में कपडा। इस प्रकार भारत में सोने का भण्डार बना। एक ऐसा देश जहाँ गाँव गाँव में दैनिक जीवन की लगभग सभी वस्तुएं लोगों को अपने ही आस पास मिल जाती थी केवल एक नमक के लिये उन्हें भारत के बंदरगाहों की तरफ जाना पड़ता था क्यों कि नमक केवल समुद्र से ही पैदा होता है। तो विश्व का एक इ तना स्वावलंबी देश भारत रहा है और हज़ारों वर्षों से रहा है और आज भी भारत की प्रकृती इतनी ही दयालु है, इतनी ही अमीर है और अब तो भारत में राजस्थान में बाड़मेर, जैसलमेर, बीकानेर में पेट्रोलियम भी मिल गया है तो आज भारत गरीब क्यों है और प्रकृति की कोई दया नहीं होने के बाद यूरोप इतना अमीर क्यों?
यह भी समझने की आवश्यकता है कि निवेशक की उम्र के साथ साथ कैसे उसका रिस्क प्रोफ़ायल भी बदलता है। कम उम्र का निवेशक अधिक रिस्क ले कर आक्रामक रूप से निवेश कर सकता है क्योंकि उसके पास अधिक कमाई करने के लिए अभी बहुत समय है और हो सकता है कि उस पर बहुत अधिक जिम्मेदारियाँ ना हों। 40 से 50 की उम्र तक आते आते रिस्क लेने की क्षमता कम हो जाती है और ज़िम्मेदारियाँ बढ़ जातीं हैं। इस उम्र में डिफ़ेंसिव हो कर कैसे निवेश करें यह भी समझना आवश्यक है।
तस्करीका मुख्य योजनाकार गोरे भनेर चिनिने चूडामणि उप्रेती हुन् । आफ्नो सुन हराएपछि उनले बनलाई नियन्त्रणमा लिएर धापासीस्थित थ्री मोटर्स ग्यारेजमा लगे । अनेक यातना पाएर ड्युटीमा फर्किएका बन अचानक २२ माघमा विमानस्थलभित्रै दुर्घटनामा मारिए । सिसिटिभी फुटेज भन्छ, ‘उताबाट उच्चगतिमा आइरहेको इन्धन ट्याङकरमुनि छिरेका बनले आत्महत्या गरेका हुन ।’ तर अनौठो, यो विषयमा विमानस्थल प्रशासन र प्रहरी संगठनले यो विषयमा गम्भीर अनुसन्धान गरेन । उनको मृत्युलाई सामान्य दुर्घटनाका रुपमा प्रहरी बुलेटिनबाट प्रचार गरियो ।
5 इसलिए अगर तुम में से किसी को बुद्धि की कमी हो तो वह परमेश्‍वर से माँगता रहे क्योंकि परमेश्‍वर अपने सभी माँगनेवालों को उदारता से और बिना डाँटे-फटकारे बुद्धि देता है और माँगनेवाले को यह दी जाएगी। 6 लेकिन वह विश्‍वास के साथ माँगता रहे, और ज़रा भी शक न करे, क्योंकि जो शक करता है वह समुद्र की लहरों की तरह होता है जो हवा से यहाँ-वहाँ उछलती रहती हैं। 7 दरअसल ऐसा इंसान यह उम्मीद न करे कि वह यहोवा* से कुछ भी पाएगा। 8 वह इंसान अपने फैसलों में दुचित्ता और सारी बातों में डाँवाडोल है।
5 उसी तरह, जीभ भी हमारे शरीर का एक छोटा-सा अंग है फिर भी यह बड़ी-बड़ी डींगें मारती है। देखो! पूरे जंगल में आग लगाने के लिए बस एक छोटी-सी चिंगारी काफी होती है। 6 जीभ भी एक आग है। यह हमारे शरीर के अंगों में बुराई की एक दुनिया है, क्योंकि यह पूरे शरीर को कलंकित कर देती है और इंसान की पूरी ज़िंदगी में* आग लगा देती है और यह गेहन्‍ना* की आग की तरह भस्म कर देती है। 7 हर तरह के जंगली जानवर, पक्षी, रेंगनेवाले जीव-जंतु और समुद्री जीवों को तो पालतू बनाया जा सकता है और इंसान ने उन्हें काबू में कर पालतू बनाया भी है, 8 मगर जीभ को कोई भी इंसान काबू में नहीं कर सकता। यह ऐसी खतरनाक और बेकाबू चीज़ है जो जानलेवा ज़हर से भरी है। 9 इसी से हम अपने पिता यहोवा का गुणगान करते हैं, और इसी से इंसानों को बद्‌-दुआ देते हैं जिन्हें “परमेश्‍वर की छवि में” बनाया गया है। 10 एक ही मुँह से गुणगान और बद्‌-दुआ दोनों निकलते हैं।
आपको इस बात से अवगत होना चाहिए कि बचाया गए धन से ही पैसा कमाया जाता है. इसलिए, आज रात बाहर खाने, उस नए महंगे फोन को खरीदने और लंबे सप्ताहांत पर अवांछित यात्रा आदि पर जाने जैसे तत्काल संतुष्टि देने से रोकें. “यह कहने के लिए फैशनेबल हो सकता है कि ‘मैं जिंदगी जीने के लिए यात्रा करता हूं’ या ‘अगर मैं ऐसा नहीं करता, तो जीवन का क्या मतलब है’ जैसे अनावश्यक व्यय के औचित्य को साबित करने में लग जाते हैं. एक भी पैसे को खर्च करने से पहले खुद से एक सवाल पूछें – क्या यह वाकई जरुरी है? अगर उत्तर तत्काल हां नहीं है, तो आपको इनसे बचना चाहिए. अपने सहकर्मी को देखकर दबाब न बनाएं. सिर्फ इसलिए कि आपके करीबी दोस्त, परिवार या परिचित कुछ कर रहे हैं, इसका मतलब यह नहीं है कि आपको भी इसपर खर्च करना होगा,राइट होरिजन के संस्थापक और सीईओ अनिल रेगो कहते हैं.

वेबसाइट को मोनेटाइजेशन के लिए सबसे अच्छा तरीका गूगल का एडसेंस प्रोग्राम है, जो विश्व का सबसे बढ़िया एड प्रोग्राम है. गूगल का एडसेंस आपके वेबसाइट के आर्टिकल पर विज्ञापन दिखाता है, जहां से घर बैठे पैसे कमाने के तरीके में बहुत ज्यादा पॉपुलर है. घर बैठे एक अच्छी इनकम कर सकते हैं. तो आप एक वेबसाइट कैसे शुरु करें और कैसे बनाएं इसके लिए बहुत सारे वीडियो भी यूट्यूब पर अवेलेबल है.

रेगिस्तानी और derelict पार्क के केंद्र में एक अकेला, तीन मंजिला, जंगली अजगर पानीहीन स्लाइड, एक खाली ampitheatre, टूटे हुए आकर्षण और धुंधले पानी के पूल पर नीचे से नीचे दिखता है। इमारतों में जंग, छीलने वाले रंग और भित्तिचित्र शामिल हैं। खरपतवार और दाखलताओं ने पटाया स्लाइड के चारों ओर अपना रास्ता घायल कर दिया है। पार्क ने एक बार विदेशी मछली और मगरमच्छ के पूल से भरे एक्वैरियम का दावा किया। अचानक बंद होने के शुरुआती दिनों में, डरावनी खिंचाव को जोड़ने के लिए, भूखे मगरमच्छों की अफवाहें भी पार्किंग में आसानी से घूम रही थीं!
इन्टरनेट से पैसे कमाने के लिए आपके ज्ञान ही जरुरी नहीं है अगर आपके पास कुछ अच्छा और अलग टैलेंट है तो आप इन्टरनेट से नाम भी कमा सकते है पोपुलर बन सकते और पैसे भी कमा सकते है आज कल बहोत सारे लोग यही काम कर रहे है इन्टरनेट सिर्फ जानकारी लेने के लिए नहीं बना है यहाँ पर आप अपने टैलेंट जैसे ऑनलाइन कुछ भी कर जैसे डांस सिखा के लोगो को पढ़ा के , गाना सुनाके लोगो को एंटरटेन करके भी अपने नाम कमा सकते है और सेलेब्रिटी भी बन सकते है और साथ ही साथ पैसे भी कमा सकते है तो आइये जान लेते है इंटरनेट से पैसे कमाने के अलग अलग तरीके.
×