मित्रों भारत को विश्व में सोने की चिड़िया कहा गया किन्तु एक बात सोचने वाली है कि यहाँ तो कोई सोने की खाने नहीं हैं फिर यहाँ विश्व का सबसे बड़ा सोने का भण्डार बना कैसे? यहाँ प्रश्न जरूर पैदा होते हैं किन्तु एक उत्तर यह मिलता है कि हम हमेशा से गरीब नहीं थे। अब जब भारत में सोना नहीं होता तो साफ़ है कि भारत में सोना आया विदेशों से। किन्तु हमने तो कभी किसी देश को नहीं लूटा। इतिहास में ऐसा कोई भी साक्ष्य नहीं है जिससे भारत पर ऐसा आरोप लगाया जा सके कि भारत ने अमुक देश को लूटा, भारत ने अमुक देश को गुलाम बनाया, न ही भारत ने आज कि तरह किसी देश से कोई क़र्ज़ लिया फिर यह सोना आया कहाँ से? तो यहाँ जानकारी लेने पर आपको कूछ ऐसे सबूत मिलेंगे जिससे पता चलता है कि कालान्तर में भारत का निर्यात विश्व का ३३% था। अर्थात विश्व भर में होने वाले कुल निर्यात का ३३% निर्यात भारत से होता था। हम ३५०० वर्षों तक दुनिया में कपडा निर्यात करते रहे क्यों की भारत में उत्तम कोटी का कपास पैदा होता था। तो दुनिता को सबसे पहले कपडा पहनाने वाला देश भारत ही रहा है। कपडे के बाद खान पान की अनेक वस्तुएं भारत दुनिया में निर्यात करता था क्यों कि खेती का सबसे पहले जन्म भारत में ही हुआ है। खान पान के बाद भारत में करीब ९० अलग अलग प्रकार के खनीज भारत भूमी से निकलते है जिनमे लोहा, ताम्बा, अभ्रक, जस्ता, बौक् साईट, एल्यूमीनियम और न जाने क्या क्या होता था। भारत में सबसे पहले इस्पात बनाया और इतना उत्तम कोटी का बनाया कि उससे बने जहाज सैकड़ों वर्षों तक पानी पर तैरते रहते किन्तु जंग नहीं खाते थे। क्यों की भारत में पैदा होने वाला लौह अयस्क इतनी उत्तम कोटी का था कि उससे उत्तम कोटी का इस्पात बनाया गया। लोहे को गलाने के लिये भट्टी लगानी पड़ती है और करीब १५०० डिग्री ताप की जरूरत पड़ती है और उस समय केवल लकड़ी ही एक मात्र माध्यम थी जिसे जलाया जा सके। और लकड़ी अधिकतम ७०० डिग्री ताप दे सकती है फिर हम १५०० डिग्री तापमान कहा से लाते थे वो भी बिना बिजली के? तो पता चलता है कि भारत वासी उस समय कूछ विशिष्ट रसायनों का उपयोग करते थे अर्थात रसायन शास्त्र की खोज भी भारत ने ही की। खनीज के बाद चिकत्सा के क्षेत्र में भी भारत का ही सिक्का चलता था क्यों कि भारत की औषधियां पूरी दुनिया खाती थी। और इन सब वस्तुओं के बदले अफ्रीका जैसे स्वर्ण उत्पादक देश भारत को सोना देते थे। तराजू के एक पलड़े में सोना होता था और दूसरे में कपडा। इस प्रकार भारत में सोने का भण्डार बना। एक ऐसा देश जहाँ गाँव गाँव में दैनिक जीवन की लगभग सभी वस्तुएं लोगों को अपने ही आस पास मिल जाती थी केवल एक नमक के लिये उन्हें भारत के बंदरगाहों की तरफ जाना पड़ता था क्यों कि नमक केवल समुद्र से ही पैदा होता है। तो विश्व का एक इ तना स्वावलंबी देश भारत रहा है और हज़ारों वर्षों से रहा है और आज भी भारत की प्रकृती इतनी ही दयालु है, इतनी ही अमीर है और अब तो भारत में राजस्थान में बाड़मेर, जैसलमेर, बीकानेर में पेट्रोलियम भी मिल गया है तो आज भारत गरीब क्यों है और प्रकृति की कोई दया नहीं होने के बाद यूरोप इतना अमीर क्यों?


इसमें कोई शक नहीं सॉफ्टवेयर उद्योग दिन-ब-दिन बढ़ रही है. आप एक डेवलपर हैं तो आप आवेदन कार्यक्रमों बना सकते हैं और विभिन्न चैनलों पर बेच सकते हैं. आप जावा प्रोग्रामिंग ज्ञान पर पता करने की जरूरत, .जाल, सी # आदि. आप व्यापार के लिए Android अनुप्रयोगों को विकसित कर सकते हैं, शिक्षा, सांख्यिकी, ज्योतिष. आप Android अनुप्रयोगों और सॉफ्टवेयर उपकरण बना सकते हैं.
11. ऑनलाइन बिक्रीः ऐसे कई लोग हैं जो अपने प्रॉडक्ट को ईबे, अमेजन, फ्लिपकार्ट जैसी बड़ी शॉपिंग वेबसाइट्स पर बेचकर लाखों कमा रहे हैं. आपको सिर्फ एक अच्छा प्रॉडक्ट चाहिए, इसके बाद ऐसी किसी भी साइट पर साइनअप करें, अपने प्रॉडक्ट को प्राइस के साथ लिस्ट करें और बेचना शुरू कर दें. आपको किसी से बात करने की भी जरूरत नहीं. आपको ऑर्डर मेलबॉक्स के जरिए मिल जाएगा और कुरियर कंपनी के जरिए उसे डिलिवर कर दें, बस.
राजिव भाई दीक्षित के निधन पर मुझे भी बहुत दुःख हुआ, दो दिन तक तो किसी काम में मन ही नहीं लगा, मन में बेचैनी भी थी की एक और अनमोल रत्न भारत माँ ने खो दिया…मै उनसे कई बार मिला…उनके ज्ञान और व्यक्तित्व से बहुत प्रभावित हुआ…उन पर एक लेख लिखने की बहुत इच्छा है, किन्तु कुछ दिनों से अपने ऑफिस के काम से ट्यूर पर ही रहा तो अधिक समय न मिला…किन्तु अब जल्दी ही एक लेख राजिव भाई पर लिखने वाला हूँ…आशा है आपको पसंद आये…
भारत को सबसे बड़ा झटका हॉकी में लगता जब गत चैंपियन टीम मलयेशिया के खिलाफ पेनल्टी शूटऑफ में हराकर एशियाई खेलों में गोल्ड मेडल की दौड़ से बाहर हो गई और तोक्यो ओलिंपिक 2020 में सीधे प्रवेश का मौका भी गंवा दिया। मलेशियाई टीम ने सडन डैथ में भारत को 7-6 से हराया। भारत ब्रॉन्ज के प्ले आफ में आठ बार के चैंपियन पाकिस्तान से भिड़ेगा। पाकिस्तान को एक अन्य सेमीफाइनल में जापान के खिलाफ 0-1 से हार का सामना करना पड़ा। मलयेशिया ने आठ साल पहले ग्वांग्झू में भारत को सेमीफाइनल में हराया था।
रेगिस्तानी और derelict पार्क के केंद्र में एक अकेला, तीन मंजिला, जंगली अजगर पानीहीन स्लाइड, एक खाली ampitheatre, टूटे हुए आकर्षण और धुंधले पानी के पूल पर नीचे से नीचे दिखता है। इमारतों में जंग, छीलने वाले रंग और भित्तिचित्र शामिल हैं। खरपतवार और दाखलताओं ने पटाया स्लाइड के चारों ओर अपना रास्ता घायल कर दिया है। पार्क ने एक बार विदेशी मछली और मगरमच्छ के पूल से भरे एक्वैरियम का दावा किया। अचानक बंद होने के शुरुआती दिनों में, डरावनी खिंचाव को जोड़ने के लिए, भूखे मगरमच्छों की अफवाहें भी पार्किंग में आसानी से घूम रही थीं!
16 इसलिए तुम एक-दूसरे के सामने खुलकर अपने पाप मान लो और एक-दूसरे के लिए प्रार्थना करो, ताकि तुम अच्छे हो जाओ। जब नेक इंसान प्रार्थना में मिन्‍नतें करता है और जब ये प्रार्थनाएँ सुनी जाती हैं, तो उनका ज़बरदस्त असर हो सकता है। 17 एलिय्याह भी हमारे जैसी भावनाएँ रखनेवाला इंसान था, और फिर भी जब उसने प्रार्थना में बिनती की कि बारिश न हो, तो देश पर साढ़े तीन साल तक बारिश नहीं हुई। 18 और जब उसने फिर प्रार्थना की, तो आकाश से बारिश हुई और धरती ने अपनी पैदावार दी।
पिछले कुछ समय मेंऑनलाइन सर्वे जॉब की डिमांड बहुत तेजी से बढ़ती जा रही है. इसके तहत सर्वे कंपनियां यूजर्स को किसी प्रोडक्ट या सर्विस के लिए इनपुट प्रोवाइड करने का काम देती हैं. इस जॉब की सबसे अच्छी खासियत यह है कि इस सर्वे के लिए आपको कोई इंवेस्टमेंट नहीं करनी पड़ती. हर सर्वे के लिए कंपनी आपको पैसे या रिवार्ड पॉइंट्स देती है, जिनको आप किसी भी शॉपिंग वेबसाइट पर इस्तेमाल कर सकती हैं.
केंद्रीय कृषि मंत्री ने बताया कि उद्यम विकास का मार्ग प्रशस्त करने के लिए आरकेवीवाई के दिशा निर्देशों में परिवर्तन किया जा रहा है। कृषि, सहकारिता एवं किसान कल्याण विभाग ने 2017-18 तक 24 मिलियन टन दलहन उत्पादन करने की कार्य योजना तैयार कर ली है। प्रति बूंद अधिक फसल का लक्ष्य प्राप्त करने के लिए नाबार्ड ने 5000 करोड़ रुपये की प्रारंभिक धनराशि के साथ एक समर्पित सूक्ष्म सिंचाई कोष बनाया गया है।
अगर आपको लेखन से प्यार है, तो कई साइट पैसे देकर ऑनलाइन बुक लिखवाने का काम देती हैं। राइटर बनकर आप भी अपनी बुक ऑनलाइन पब्लिश करा सकते हैं। इसकी एवज में उसकी रॉयल्टी से कमाई कर सकते हैं। इन साइट्स में से एक है अमेजन किंडल। वेबसाइट पर एक डायरेक्ट पब्लिशिंग नाम का फीचर कॉर्नर दिया गया है। यहां खुद को रजिस्टर करके आप बुक का कंटेंट किंडल बुकस्टोर पर डाल सकते हैं। बुक पब्लिश होने के बाद इसकी बिक्री पर आपको 70 फीसदी तक रॉयल्टी मिलती है। साइट और सेल्फ पब्लिश बुक की अधिक जानकारी के लिए https://kdp.amazon.com/ पर क्लिक करें। इस पर आप अपना अकाउंट भी बनाकर रेगुलर मेम्बर बन सकते हैं।
थॉमस रो ने सबसे पहले सूरत के एक महल नुमा घर को लूटा जो आज भी मौजूद है। फिर पड़ोस के गाँव में और फिर और आगे। खाली हाथ आये इन अंग्रजों के पास जब करोड़ों की संपत्ति आई तो इन्होने अपनी खुद की सेना बनायी। उसके बाद सन १७५७ में रोबर्ट क्लाइव बंगाल के रास्ते भारत आया उस समय बंगाल का राजा सिराजुद्योला था। उसने अंग्रेजों से संधि करने से मना कर दिया तो रोबर्ट क्लाइव ने युद्ध की धमकी दी और केवल ३५० अंग्रेज सैनिकों के साथ युद्ध के लिये गया। बदले में सिराजुद्योला ने १८००० की सेना भेजी और सेनापति बनाया मीर जाफर को। तब रोबर्ट क्लाइव ने मीर जाफर को पत्र भेज कर उसे बंगाल की राज गद्दी का लालच देकर उससे संधि कर ली। रोबर्ट क्लाइव ने अपनी डायरी में लिखा था कि बंगाल की राजधानी जाते हुए मै और मीर जाफर सबसे आगे, हमारे पीछे मेरी ३५० की अंग्रेज सेना और उनके पीछे बंगाल की १८००० की सेना। और रास्‍ते में जितने भी भारतीय हमें मिले उन्होंने हमारा कोई विरोध नहीं किया, उस समय यदि सभी भारतीयों ने मिल कर हमारा विरोध किया होता या हम पर पत्थर फैंके होते तो शायद हम कभी भारत में अपना साम्राज्य नहीं बना पाते। वो डायरी आज भी इंग्लैण्ड में है। मीर जाफर को राजा बनवाने के बाद धोखे से उसे मार कर मीर कासिम को राजा बनाया और फिर उसे मरवाकर खुद बंगाल का राजा बना। ६ साल लूटने के बाद उसका स्थानातरण इंग्लैण्ड हुआ और वहां जा कर जब उससे पूछा गया कि कितना माल लाये हो तो उसने कहा कि मै सोने के सिक्के, चांदी के सिक्के और बेश कीमती हीरे जवाहरात लाया हूँ। मैंने उन्हें गिना तो नहीं किन्तु इन्हें भारत से इंग्लैण्ड लाने के लिये मुझे ९०० पानी के जहाज़ किराये पर लेने पड़े। अब सोचो एक अकेला रोबर्ट क्लाइव ने इतना लूटा तो भारत में उसके जैसे ८४ ब्रीटिश अधीकारी आये जिन्होंने भारत को लूटा। रोबर्ट क्लाइव के बाद वॉरेन हेस्टिंग्स नामक अंग्रेज अधीकारी आया उसने भी लूटा, उसके बाद विलियम पिट, उसके बाद कर्जन, लौरेंस, विलियम मेल्टिन और न जाने कौन कौन से लुटेरों ने लूटा। और इन सभी ने अपने अपने वाक्यों में भारत की जो व्याख्या की उनमे एक बात सबमे सामान है। सबने अपने अपने शब्दों में कहा कि भारत सोने की चिड़िया नहीं सोने का महासागर है। इनका लूटने का प्रारम्भिक तरीका यह था कि ये किसी धनवान व्यक्ति को एक चिट्ठी भेजते थे जिसमे एक करोड़, दो करोड़ या पांच करोड़ स्वर्ण मुद्राओं की मांग करते थे और न देने पर घर में घुस कर लूटने की धमकी देते थे। ऐसे में एक भारतीय सोचता कि अभी नहीं दिया तो घर से दस गुना लूट के ले जाएगा अत: वे उनकी मांग पूरी करते गए। धनवानों के बाद बारी आई देश के अन्य राज्यों के राजाओं की। वे अन्य राज परीवारों को भी ऐसे ही पत्र भेजते थे। कूछ राज परिवार जो कायर थे उनकी मांग मान लेते थे किन्तु कूछ साहसी लोग ऐसे भी थे जो उन्हें युद्ध के लिये ललकारते थे। फिर अंग्रेजों ने राजाओं से संधि करना शुरू कर दिया।
दोस्तों हमने आज आपको हमारी इस पोस्ट मे बताया की Google se Paise Kaise Kamaye हमने हमारी इस पोस्ट को आसान से आसान भाषा मे लिखने की कोशिस की है, अगर आपको हमारी पोस्ट पसंद आई हो कृपया करके इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर कीजिये, आप हमारी वेबसाइट पर बेल आइकॉन को प्रेस करके हमारी हर एक नयी आने वाली पोस्ट से जुड़े रह सकते है, हमने आपको हमारी पिछली पोस्ट मे यह भी बताया था Whatsapp se Paise Kaise Kamaye और यह भी बताया था की Whatsapp Kaise Download Kare
पछिल्लो समय आर्थिक गतिविधिमा आएको सुधारका कारण रोजगारी, उत्पादन तथा उत्पादकत्व बढ्दा प्रतिव्यक्ति आयमा सुधार आएको पूर्व अर्थसचिव डा. शान्तराज सुवेदीले बताए । ‘नेपालीको औसत आय बढ्नुमा पुनर्निर्माण, ठूला तथा राष्ट्रिय गौरवका आयोजनाका निर्माणले लिएको गति, सरकारी खर्चमा भएको बढोत्तरीले नेपालको कुल गार्हस्थ उत्पादन बढ्न जाँदा त्यसको प्रभाव प्रतिव्यक्ति आयमा देखियो’, पूर्व अर्थसचिव डा. सुवेदीले अन्नपूर्णसँग भनेका छन्, ‘पछिल्लो समय विद्युत् आपूर्ति बढ्न जाँदा उद्योग क्षेत्रको उत्पादन बढ्नुका साथै निर्माणमा प्रगति हुँदै गएको छ ।’
उसके बाद १८७० में अंग्रेजों के विरुद्ध क्रान्ति छेड़ी हमारे देश के गौरव स्वामी दयानंद सरस्वती ने, उनके बाद लोकमान्य तिलक, लाला लाजपतराय, वीर सावरकर जैसे वीरों ने। फिर गांधी जी, भगत सिंह, उधम सिंह, चंद्रशेखर जैसे बीरों ने। अंतिम लड़ाई लड़ने वालों में नेताजी सुभाष चन्द्र बोस रहे हैं। सन १९३९ में द्वितीय विश्व युद्ध के समय जब हिटलर इंग्लैण्ड को मारने के लिये तैयार खड़ा था तो अंग्रेज साकार ने भारत से एक हज़ार ७३२ करोड़ रुपये ले जा कर युद्ध लड़ने का निश्चय किया और भारत वासियों को वचन दिया कि युद्ध के बाद भारत को आज़ाद कर दिया जाएगा और यह राशि भारत को लौटा दी जाएगी। किन्तु अंग्रेज अपने वचन से मुकर गए।
यदि आप एक अच्छे विडियो क्रिएटर बन जाते हैं, तो एक आप एक अच्छी इनकम कर सकते हैं. यूट्यूब येसा ही ऑनलाइन प्लेटफार्म प्रदान करता है, जहां से आप अपने वीडियो को क्रिएट कर अपलोड कर सकते हैं. यदि आपके विडियो के उपर एक अच्छा ट्रैफिक आने लगता है, तो यूट्यूब आपके चैनल को मोनेटाइजेशन कर देता है, यानि आपकी वीडियो पर यूट्यूब उस पर विज्ञापन दिखाना शुरु कर देता है.
यदि आपके पास भी कोई ऐसा टैलेंट है या आपके पास ऐसी कोई प्रतिभा है जिसे आप दुनिया को दिखाना चाहते हैं और आपकी प्रतिभा लोगों के काम को आसान बनाती है तो आप एक YouTube चैनल बना सकते हैं जब आप अपनी वीडियो यूट्यूब पर अपलोड करेंगे तो लोगों को वह पसंद आनी चाहिए. जब आपकी वीडियो पर बहुत सारे व्यूज आने लगेंगे तो आप वीडियो को Google Adsense से कनेक्ट करके YouTube से पैसे कमा सकते है.

यह भी समझने की आवश्यकता है कि निवेशक की उम्र के साथ साथ कैसे उसका रिस्क प्रोफ़ायल भी बदलता है। कम उम्र का निवेशक अधिक रिस्क ले कर आक्रामक रूप से निवेश कर सकता है क्योंकि उसके पास अधिक कमाई करने के लिए अभी बहुत समय है और हो सकता है कि उस पर बहुत अधिक जिम्मेदारियाँ ना हों। 40 से 50 की उम्र तक आते आते रिस्क लेने की क्षमता कम हो जाती है और ज़िम्मेदारियाँ बढ़ जातीं हैं। इस उम्र में डिफ़ेंसिव हो कर कैसे निवेश करें यह भी समझना आवश्यक है।


तो मित्रों अब यदि इन काले अंग्रेजों से आज़ादी चाहिए तो फिर से कोई स्वतंत्रता संग्राम छेड़ना होगा, कोई क्रान्ति को जन्म देना होगा। फिर से किसी को मंगल पण्डे बनना होगा, किसी को भगत सिंह तो किसी को सुभाष चन्द्र बोस बनना होगा। क्यों कि जीवन जीने के केवल दो हे तरीके इस देश में बचे हैं कि या तो जो हो रहा है उसे सहते रहो, शान्ति के नाम पर यथास्थिति बनाए रखो, और सब कूछ सहते सहते मर जाओ या फिर खड़े हो जाओ एक संकल्प के साथ और आवाज़ उठाओ अन्याय के विरुद्ध, फिर से खड़ी करो एक क्रान्ति, और केवल मै और मेरा पारिवार की विचारधारा से भार आकर मेरा राष्ट्र की विचारधारा को अपनाओ। किन्तु आज इस देश में यथास्थिति वाले लोग अधिक है। उन्ही से पूछना चाहूँगा कि क्या ये दिन देखने के लिये ही तुम्हारे पूर्वजों ने जीवन का बलिदान दिया था, क्या उनका त्याग व्यर्थ जाएगा, क्या आज तुम्हारे पूर्वजों को तुम प र गर्व होगा, क्या आने वाली पीढी को तुम पर गर्व होगा, क्या अपनी आने वाली पीढ़ी के लिये विरासत में तुम इन काले अंग्रेजों को छोड़ के जाओगे? आचार्य विष्णु गुप्त (चाणक्य) ने कहा था कि जितनी हानि इस राष्ट्र को दुर्जनों कि दुर्जनता से हुई है उससे कहीं अधिक हानि इस राष्ट्र को सज्जनों कि निष्क्रियता से हुई है। क्या आप सज्जन हमेशा निष्क्रीय ही बने रहेंगे? अब कोई भी यह पूछ सकता है कि हम क्या करें? मित्रों करने को बहुत कूछ है करने की इच्छा शक्ति होनी चाहिए। यदि आप में इच्छा शक्ति है, यदि आप में ज्ञान है तो आप खुद अपने लिये राह बना सकते हैं। चाणक्य ने मगध सम्राट धननंद के दरबार में उसे ही ललकारते हुए कहा था कि मेरे ज्ञान में अगर शक्ति है तो मै अपना पोषण कर सकने वाले सम्राटों का निर्माण स्वयं कर लूँगा।
Paisa Kamaane Ke Galat Tarike Va Upay : इस दुनिया में हर व्यक्ति पैसा कामना चाहता है कोई अच्छे कामो से कमा लेता है तो जॉब करता है या कोई बिज़नेस करता है हर किसी का पैसे कमाने का अपना-2 तरीका होता है | इन तरीको में लोग 2 तरह की कमाई करते है जिसे हम कहते है 1 नंबर की कमाई व 2 नंबर की कमाई | एक नंबर की कमाई में वो रोज़गार आता है जो हम ईमानदारी से कमाते है व दो नंबर की कमाई में वह पैसा आता है जो हम दो नंबर से कमाते है यानि की बेईमानी से व गलत तरीके से कमाते है इसीलिए हम आपको गलत तरीके से पैसा कमाने के टोटके के कुछ उपाय व तरीको के बारे में बताते है जिन उपायों को पढ़ कर आप भी कमा सकते है व जान सकते है |

ऑनेस्टी इज़ द बेस्ट पॉलिसी और सत्य कभी भी असत्य नहीं बनता है। लेकिन श्रद्धा डगमगा गई है और काल भी ऐसा है। रात में किसकी सत्ता होती है? चोरों का साम्राज्य होता है। तब यदि अपनी दुकान खोलकर बैठें, तब तो वे सब उठा ले जाएँगे। यह काल तो चोरों का है। उससे क्या हमें अपनी पद्धति बदल देनी चाहिए? सुबह तक दुकान बंद रखो, लेकिन अपनी पद्धति तो नहीं ही बदलनी चाहिए। ये राशन के नियम हों, उसमें कोई ‘पोल’ (गड़़बड़़,गफलत,घोटाला) मारकर चलता बने, तो वह लाभ मानता है, और दूसरे क्यों नहीं मानते? यह तो, यदि घर में सभी असत्य बोलें तो किस पर विश्वास करें? और यदि एक पर विश्वास करें, तब तो सभी पर विश्वास करना चाहिए न? लेकिन यह तो घर में विश्वास, वह भी अंधा विश्वास करता है। किसी की सत्ता नहीं, कोई कुछ कह सके, ऐसा नहीं है। यदि खुद की सत्ता होती तब तो कोई स्टीमर डूबता ही नहीं। लेकिन ये तो लट्टू हैं, प्रकृति नचाए वैसे नाचते हैं। पर-सत्ता क्यों कहा है? अपने को पसंद हो वहाँ भी ले जाता है और नहीं पसंद हो, वहाँ भी ले जाता है। नहीं पसंद हो, वहाँ पर तो वह अनिच्छा से भी जाता है, इसलिए वह परसत्ता ही है न!


तुरंत के इन फ़ैसलों के बाद आपको शेयर बाज़ार में अपने निवेश के तरीक़ों में बदलाव करना चाहिए. यह कुछ वक़्त के बाद भी किया जा सकता है. जैसे शेयर बाज़ार के ज़्यादा जोखिम वाले माहौल से पैसे निकालकर आप कम जोखिम वाले में निवेश कर सकते हैं. जैसे डेट फ़ंड या पेंशन फ़ंड या फिर सरकारी बॉन्ड्स में निवेश किया जा सकता है. इन पर बाज़ार की गिरावट का असर कम पड़ता है.
अगर आप अपनी जिंदगी में success होना चाहते है तोह एक लक्ष्य बनाइये,अगर आपकी जिंदगी में एक साथ बहुत कुछ चल रहा है,या फिर आप एक साथ कई लक्ष्य पूरा करने का प्रयत्न कर रहे है तोह आप कभी भी अमीर नहीं बन सकते.क्योकि करोरपति बनना कोई ऐसा काम नहीं की आप एक हाथ में किताब लिए है और याद कर रहे है,दूसरी ओर टीवी देख रहे है,ऐसा करने पर हो सकता है आप exam में पास भी हो जाओ लेकिन दोस्तों अमीर बनने के लिए एक लक्ष्य का होना बहुत ही जरुरी है.
आपके पास थोड़ा ज्ञान होना चाहिए आप अपने आप इस जगह से सीखते चले जायेंगे और पैसे भी कमाते रहेंगे तो आज हम आपको internet se paise kamane ke tarike बताने जा रहे है जिनसे ज्यादा पैसा कमाया जा सकता है और इन तरीको को बहुत लोग इस्तेमाल कर रहे हैं. अगर आप किसी चीज में माहिर हो या थोड़ा बहुत भी ज्ञान है जैसे आप वेब डेवलपर हो, आपकी टाइपिंग स्पीड अच्छी, आप एक एक्टर या आप एक वोइस एक्टर हो, आप एनीमेशन बना सकते हो, आप लोगो डिजाइन कर सकते हो, आप पेंटिंग कर सकते हो, आप कुछ भी ऐसा कर सकते हो जो विशेष हो तो आपके लिए ऑनलाइन पैसा कमाने की वेबसाइट बताने जा रहे हैं जिनसे आप पैसे कमा सकते हैं.

आज कल ज्यादातर लोग offline से ज्यादा online course लेना पसंद कर रहे हैं. आखिर ये online course होता क्या है? ये एक platform है जहाँ लोग पैसे खर्च करके अपना मन पसंद skill सिख सकते है. मान लीजिये आपको Photography में interest है. तो ये सिखने केलिए आपको एक academy को join करना होगा. अब ये तो मुमकिन नहिं के आप जो पढ़ना या सीखना चाहते हैं वो आपके घर के पास हो; इसके लिए आपको बाहर भी जाना पड़ सकता है. पर online tution के जरिये कोई भी घर बैठे अपना मन चाहा course ले सकता है.


आपने जरुर इस बिज़नेस का नाम तोह सुना ही होगा,इस बिज़नेस के द्वारा भी हम crorepati बन सकते है,इस बिज़नेस में हमें product को डायरेक्ट बेचना है,यानी हमें product को खरीदकर दुसरे लोगो को इस product को खरीदने के लिए सुझाव देना होगा,हमें ये काम अकेले नहीं करना होता बल्कि लोगो को काम पर रखकर ये काम करना होता है,इस बिज़नेस में ख़ास बात ये होती है की हम इस बिज़नेस में लोगो को काम पर रख सकते है,और हमें उन्हें पैसे देने के लिए महीने का खर्चा भुगतने की जरुरत भी नहीं होती.
13 तुम में बुद्धिमान और समझदार कौन है? जो ऐसा हो, वह इस बात को अपने बढ़िया चालचलन के कामों से उस कोमलता के साथ दिखाए जो बुद्धि से पैदा होती है। 14 लेकिन अगर तुम्हारे दिलों में ज़बरदस्त ईर्ष्या और झगड़े की भावना हो, तो शेखी न मारो और सच्चाई के खिलाफ झूठ मत बोलो। 15 यह बुद्धि वह नहीं जो स्वर्ग से मिलती है, बल्कि यह दुनियावी, शारीरिक और शैतानी है। 16 इसलिए कि जहाँ ईर्ष्या और झगड़े होते हैं, वहाँ गड़बड़ी और हर तरह की बुराई होती है।
बनको ज्यान गयो, तर गोरेको सुन भेटिएन । बनको मृत्यु दुर्घटनामा दर्ज भएकोले गोरेलाई आफ्नो सुन खोज्न समय र सुविधा भयो । उप्रेतीले आफ्ना पूर्वलेखा सहयोगी सनम शाक्यले सुन लगेको शंका गरे । आफूसँग काम गरेर तीन महिनाअघि अलग्गिएका शाक्यले षड्यन्त्रपुर्वक सुन गायब बनाएका हुन सक्छन् भनेर उनलाई नियन्त्रणमा लिइयो । सनमसँगै टेकराज मल्ल, कृष्ण भनिने नरेन्द्र कार्की र मोहन काफ्लेलाई नियन्त्रणमा लिएर काठमाडौंबाट मोरङ पुर्याइयो । गाडिमा उनीहरुलाई त्यति टाढा पुर्याइँदा पनि पनि प्रहरीबाट कुनै हस्तक्षेप भएन ।
यदि आप उन लोगों में से एक हैं जो स्वेच्छा से या अनिच्छा से – समय पर अपने क्रेडिट कार्ड और उपयोगिता बिल का भुगतान नहीं करते हैं तो आप इसे जाने बिना बहुत सारे पैसे बर्बाद कर रहे हैं. उदाहरण के लिए, यदि आपके पास 2 क्रेडिट कार्ड हैं और आप समय पर देय न्यूनतम राशि को जमा करना भूल जाते हैं, तो आप अकेले देर से शुल्क में बहुत से पैसे का भुगतान करेंगे. मान लीजिए कि आप देर से शुल्क के रूप में हर महीने 1,000 रुपये का भुगतान कर रहे हैं. हालांकि, यदि हर महीने एक ही योजना में निवेश किया जाता है, जो सालाना 8 फीसदी देता हो तो यह वास्तव में आपको 30 सालों में में करीब 15 लाख रुपये ला सकता है. इस प्रकार, यह उल्लेख किए बिना पता चल जाता है कि समय पर हमारे बिलों का भुगतान नहीं करना सबसे बड़ी गलतियों में से एक है जिसे हम आम तौर पर करते हैं और जिसे पहले से बचा जाना चाहिए!
भाषा प्रवाह में कमी और पुनरावृति दोष को मै भी स्वीकार करता हूँ, क्यों कि मै अभी अभी लेखन से जुड़ा हूँ| पेशे से इंजीनियर हूँ अत: तकनीकी में रहते हुए लेखन से दूर रहा, किन्तु अब आगे लिखता रहूँगा| आशा है मेरे आने वाले लेख आपको पसंद आएं| और रही बात नरेन्द्र भाई मोदी की तो तिवारी जी विचारों में भिन्नता के कारण शायद आपका मेरा मतभेद रहे इस मामले में, क्यों कि मैंने खुद गुजरात के विकास को भली प्रकार से देखा है| राजस्थान का रहने वाला हूँ, गुजरात का पड़ोसी होने के कारण उसे काफी कुछ जानता हूँ|
केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री राधा मोहन सिंह ने आज नई दिल्ली में कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने वर्ष 2022 तक किसानों की आय दुगनी करने का लक्ष्य देश के सामने रखा है। इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए कृषि मंत्रालय लगातार काम कर रहा है। इस लक्ष्‍य को प्राप्त करने के लिए प्रधानमंत्री ने एक सात सूत्रीय कार्यनीति का भी आह्वान किया है जिसका विवरण निम्‍नानुसार है:
बेईमानी करने का दबाव इतना ज़बरदस्त है कि ज़रूरत पड़ने पर लोग इससे पीछे नहीं हटते। ऑस्ट्रेलिया में बिज़नेस मैनेजरों का एक सर्वे लिया गया जिसमें 10 में से 9 ने कहा कि रिश्‍वतखोरी और भ्रष्टाचार “गलत है मगर इसके बिना काम भी नहीं चलता।” उन्होंने यह भी कहा कि कोई कॉन्ट्रैक्ट हासिल करने या कंपनी के फायदे के लिए वे अपने उसूलों की बलि चढ़ाने को भी तैयार हैं।
सुन तस्करीका घटना पछिल्लो समय वृद्धि हुँदै गएका छन् । यसमाथि सरकारले अनुसन्धान बढाउँदै लगेपछि नयाँ–नयाँ रहस्यहरु सतहमा आएका छन् । बढ्दो सुन तस्करीलाई आज कान्तिपुर दैनिक र नयाँ पत्रिकाले केलाएका छन् । ‘सुन तस्करीको लहरो’ शीर्षकको मूल समाचारमा कान्तिपुरले लेखेको छ– उच्च प्रहरी अधिकारीसहित २० जनालाई पक्राउ गरी अनुसन्धान गरिरहेको विशेष समितिले घटना खोतल्दै जाँदा संगठित जालो क्रमशः खुल्दै गइरहेको छ ।’
तो मित्रों अब मुझे समझ आया कि भारत इतना गरीब कैसे हुआ, किन्तु एक प्रश्न अभी भी सामने है कि स्वीटजरलैंड जैसा देश आज इतना अमीर कैसे है जो आज भी किसी भी प्रकार का कार्य न करने पर भी मज़े कर रहा है। तो मित्रों यहाँ आप जानते होंगे कि स्वीटजरलैंड में स्विस बैंक नामक संस्था है, केवल यही एक काम है जो स्वीटजरलैंड को सबसे अमीर देश बनाए बैठा है। स्विस बैंक एक ऐसा बैंक है जो किसी भी व्यक्ति का कित ना भी पैसा कभी भी किसी भी समय जमा कर लेता है। रात के दो बजे भी यहाँ काम चलता मिलेगा। आपसे पूछा भी नहीं जाएगा कि यह पैसा आपके पास कहाँ से आया? और उसपर आपको एक रुपये का भी ब्याज नहीं मिलेगा। और ये बैंक आपसे पैसा लेकर भारी ब्याज पर लोगों को क़र्ज़ देता है। खाताधारी यदि अपना पैसा निकालने से पहले यदि मर जाए तो उस पैसा का मालिक स्विस बैंक होगा, क्यों कि यहाँ उत्तराधिकार जैसी कोई परम्परा नहीं है। और स्वीटजरलैंड अकेला नहीं है, ऐसे ७० देश और हैं जहाँ काला धन जमा होता है इनमे पनामा और टोबैको जैसे देश हैं।
9 जो भाई गरीब है वह इसलिए खुशी मनाए* कि उसे ऊँचा किया गया है+ 10 और जो अमीर है वह इसलिए खुशी मनाए कि उसे दीन किया गया है,+ क्योंकि वह ऐसे मिट जाएगा जैसे मैदान में उगनेवाला फूल। 11 जैसे सूरज के चढ़ने पर उसकी तपती धूप से पौधा मुरझा जाता है और उसका फूल सूखकर गिर जाता है और उसकी खूबसूरती मिट जाती है, ठीक वैसे ही अमीर आदमी भी ज़िंदगी की भाग-दौड़ में मिट जाएगा।+

Online पैसा Income कमाने के लिए Matrixmails बहुत अच्छी Website है। इस Website पर Daily Email पढ़ने, Ads और Offer्स पर क्लिक करने, और उनके द्वारा दिए गए Website पर विजिट करने के पैसे मिलते है। यह Website 2002 में लांच हुई थी। इसके साथ-साथ रेफर और इनवाइट Offer के माध्यम से दूसरे लोगों को बताकर Money Earn किया जा सकता है। इस प्रकार आप रोजाना कम से कम 2 से 3 घंटे काम करके ₹500 से लेकर ₹2000 तक कमा सकते हैं। Online पैसा income करने के लिए यह अच्छी Website है। Email पढ़ने का अच्छा सॉक है, तो आप Daily High Money Earn कर सकते है।
×