अगर आप आजीविका चलाने के लिए नौकरी करते हैं और आपको यह उम्मीद नहीं है कि वह नौकरी आपको अमीर बनाएगी, तब आप ज़रूर उस काम से प्रेम करते होंगे, है ना ? नहीं, यह कोई चालाकी भरा सवाल नहीं है। यह तो हमारी महत्वाकांक्षाओं की प्राथमिकता तय करने के बारे में है। अगर हम सिर्फ़ पैसे की खातिर काम करते हैं, तो इसमें समझदारी लगती है कि हम ज़्यादा से ज़्यादा कमाएँ, जितना हम कमा सकते हैं, जितना हम चाहते हैं।
आपने जरुर इस बिज़नेस का नाम तोह सुना ही होगा,इस बिज़नेस के द्वारा भी हम crorepati बन सकते है,इस बिज़नेस में हमें product को डायरेक्ट बेचना है,यानी हमें product को खरीदकर दुसरे लोगो को इस product को खरीदने के लिए सुझाव देना होगा,हमें ये काम अकेले नहीं करना होता बल्कि लोगो को काम पर रखकर ये काम करना होता है,इस बिज़नेस में ख़ास बात ये होती है की हम इस बिज़नेस में लोगो को काम पर रख सकते है,और हमें उन्हें पैसे देने के लिए महीने का खर्चा भुगतने की जरुरत भी नहीं होती.
author ने उस creature का नाम दिया है , Smokey creature  जो extra ordinary  persistent और dedicated भी है।  उसको हराना बहुत  मुश्किल है।  life मै successful बनाने के लिए खरगोश बनाने भी नहीं चलेगा , जो शुरू के  2-3 दिन तक  excites मै रहता है और बाद में  सब कुछ छोड़ देता है और नाही कछुए बनाने से चलेगा क्यों की कछुआ बनाने से वो average category में आ जायेगा।  लेकिन आजकल  average category मै  competition बहुत ज्यादा है।  इसलिए हमे इस competition  से उप्पर उठाने के लिए   smokey creature  बनाना पड़ेगा। ये smokey बनाना कोई मुश्किल काम नहीं है बस आपको proper exercise , proper nutritionऔर proper rest  इन तीनो गोल्डन rules को follow करके कोई भी आसानी से smokey बन सकता है।
आयकर विभाग के आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि शुक्रवार शाम तक पूरी तस्वीर साफ होगी। आयकर महानिदेशक अन्वेषण, पटना एस आर मल्लिक के निर्देश पर सहायक निदेशक आयकर अन्वेषण धनबाद सुनील किसन आगवणे के नेतृत्व में छापेमारी चल रही है। इसमें आयकर विभाग के झारखंड-बिहार के 110 अधिकारी एवं कर्मचारी तथा 125 पुलिसकर्मी शामिल हैं। संयुक्त निदेशक अन्वेषण रांची प्रणव कुमार कोले भी धनबाद पहुंचे हैं। धनबाद में नौ कंपनियों की जांच आयकर टीम कर रही है, जो अस्तित्व में हैं और इन्हीं के तहत कारोबार संचालित है।  
दीपिका की रिश्ते की बहन सुनयना कुरुविल्ला ने दूसरे एकल में जे लोक हो को हराकर भारत को मुकाबले में बनाए रखा था। खेलों में पदार्पण कर रही सुनयना मैच में पहले दो गेम गंवा चुकी थी और फिर पांचवें और निर्णायक गेम में भी 7-10 से पीछे थी लेकिन रैफरी के कुछ विवादास्पद फैसलों के बावजूद उन्होंने हार नहीं मानी। सुनयना ने अंतिम अंक तक संघर्ष करते हुए जे लोक हो को 5-11, 13-15, 11-6, 11-9, 14-12 से हराकर अपने करियर की सबसे बड़ी जीत दर्ज की। टेबल टेनिस में कॉमनवेल्थ गेम्स के गोल्ड मेडल विजेता अचंत शतर कमल और मनिका बत्रा ने एकल स्पर्धाओं के प्री-क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई। दोनों ने कल मिश्रित युगल में ऐतिहासिक गोल्ड मेडल जीता था।
अगर आप crorepati बनना चाहते है तोह ऑनलाइन बिज़नेस आपके लिए बहुत ही ज्यादा फायदेमंद सावित हो सकता है,आप अपना नेटवर्क पूरी दुनिया में फेला सकते हो,आप अपने प्रोडक्ट को पूरी दुनिया में बेच सकते हो,या फिर मेरे पास एक बहुत ही अच्छा रास्ता है,आप ऑनलाइन पर अपनी वेबसाइट बनाकर article लिखकर बहुत अच्छा पैसा कमा सकते है,और अपनी वेबसाइट में advertisement डालकर कुछ सालो में crorepati बन सकते है,में जल्द ही इसकी पूरी जानकारी आपको देने के लिए अपनी वेबसाइट में पोस्ट डालने वाला हु.

अगर हम marketing की बात करें तब relationship building बहुत ही जरुरी है. क्यूंकि अगर आपका page बहुत ज्यादा popular है तब तो आपके लिए बहुत ही अच्छी बात है क्यूंकि इससे दुसरे advitisers आपके page में अपना ad publish करने के लिए आपको पैसे देंगे इसके साथ आपका उसके साथ अच्छा relationship भी बन जायेगा और जिसका इस्तमाल आप भविष्य में कर सकते हैं. जिसे की sponsored post कहते हैं. इसके साथ साथ आप दुसरे brands के भी ad publish कर सकते हैं.
भारत को सबसे बड़ा झटका हॉकी में लगता जब गत चैंपियन टीम मलयेशिया के खिलाफ पेनल्टी शूटऑफ में हराकर एशियाई खेलों में गोल्ड मेडल की दौड़ से बाहर हो गई और तोक्यो ओलिंपिक 2020 में सीधे प्रवेश का मौका भी गंवा दिया। मलेशियाई टीम ने सडन डैथ में भारत को 7-6 से हराया। भारत ब्रॉन्ज के प्ले आफ में आठ बार के चैंपियन पाकिस्तान से भिड़ेगा। पाकिस्तान को एक अन्य सेमीफाइनल में जापान के खिलाफ 0-1 से हार का सामना करना पड़ा। मलयेशिया ने आठ साल पहले ग्वांग्झू में भारत को सेमीफाइनल में हराया था।
इसमें या तो आपको पहले से एक्सपर्ट होना पड़ेगा या फिर इससे जुडी हुई हर एक चीज़ की detail knowledge निकालनी पड़ेगी तभी आपका ये बिज़नेस चल पाएगा. आप godaddy से डोमेन खरीद सकते हैं या फिर दुसरे डोमेन registrar से जिसमे आपको 10 डॉलर से भी कम लगेंगे और उसके बाद आपको भविष्य में किसी जिसको जरुरत हो उसको आप ये डोमेन बेच सकते हैं अपने decide किये गए price के according.

यह भी समझने की आवश्यकता है कि निवेशक की उम्र के साथ साथ कैसे उसका रिस्क प्रोफ़ायल भी बदलता है। कम उम्र का निवेशक अधिक रिस्क ले कर आक्रामक रूप से निवेश कर सकता है क्योंकि उसके पास अधिक कमाई करने के लिए अभी बहुत समय है और हो सकता है कि उस पर बहुत अधिक जिम्मेदारियाँ ना हों। 40 से 50 की उम्र तक आते आते रिस्क लेने की क्षमता कम हो जाती है और ज़िम्मेदारियाँ बढ़ जातीं हैं। इस उम्र में डिफ़ेंसिव हो कर कैसे निवेश करें यह भी समझना आवश्यक है।

शारदीय नवरात्र के शुभारंभ के पहले दिन बुधवार को घट स्थापना की जाएगी। नवरात्र की अष्टमी 17 अक्तूबर को और नवमी 18 को मनाई जाएगी। शास्त्री उमाकांत अवस्थी ने बताया कि पवित्र स्थान की मिट्टी से वेदी बनाकर उसमें जौ और गेहूं बोएं। फिर उन पर कलश को विधिपूर्वक स्थापित करें।  कलश के ऊपर मूर्ति की प्रतिष्ठा करने का विधान है। मूर्ति न हो तो कलश के पीछे स्वास्तिक और उसके दोनों कोनों में दुर्गाजी का चित्र, पुस्तक व शालीग्राम को विराजित कर भगवान विष्णु का पूजन कर दें। 
माध्यमिक शिक्षा परिषद में सभी स्कूलों को ऑनलाइन करने की प्रक्रिया चल रही है। स्कूलों में सृजित पदों के सापेक्ष शिक्षकों व शिक्षणेत्तर कर्मचारियों की नियुक्ति, मान्यता, भवन आदि से संबंधित डाटा ऑनलाइन किया जा रहा है। प्रमुख सचिव के निर्देशों पर 25 जून तक यह कार्य पूर्ण किया जाना है। माध्यमिक शिक्षा परिषद ने इसके लिए वेबसाइट एचटीटीपी://स्कूल्स डॉट आरएमएसए-यूपी डॉट इन शुरू की है। मगर, डाटा ऑनलाइन करने में स्कूल रुचि नहीं दिखा रहे। गुरुवार तक कुछ स्कूलों ने ही वेबसाइट पर अपना ब्यौरा ऑनलाइन किया था। इंटर की मार्कशीट आने के बाद तय समय पर यह कार्य पूर्ण करने को माध्यमिक शिक्षा परिषद ने बीच का रास्ता निकाला है। विभाग स्कूलों को मार्कशीट नहीं दे रहा है। उन्हें पहले वेबसाइट पर अपने स्कूल से संबंधित जानकारी अपलोड करने को कहा जा रहा है। इसकी प्रति जमा करने पर उन्हें मार्कशीट दी जाएगी।
पैसा बर्बाद करने से बचने का एक और तरीका है, हर महीने की शुरुआत में एक साधारण बजट बनाना है (वेतन या मासिक आय आने से पहले). अपने द्वारा किए जाने वाले सभी आवश्यक खर्चों की सूची बनाएं. जैसे-जैसे महीना बढ़ता है, खर्चों को एक-एक करके दूर करें. यदि आप सूची में रहते हैं, तो आप कुछ पैसे बचाएंगे. यह पैसा जब सही तरीके से निवेश किया जाता है तो वह धन के निर्माण का कारण बन सकता है. जब आप थोड़ा पैसा बचाते हैं, तो इसे खर्च करने से बचें. इसके बजाय, अपने अनुशासन को पुरस्कृत करने के लिए इसका एक छोटा सा हिस्सा (5-10 फीसदी) खर्च करें. खर्च के साथ अपनी खुशी को जोड़ना बंद करो; इसके बजाय, बचत के साथ खुशी को जोड़ें. यदि आप खर्च करना बंद नहीं कर सकते हैं, तो आप जितना खर्च करेंगे उतना बचाने की कोशिश करें. यह भी मदद कर सकता है.

और आज इन्ही काले अंग्रेजों की संताने आज हम पर शाशन कर रही हैं। वरना क्या वजह है कि मध्य प्रदेश के इंदौर शहर में नयी दुनिया नामक एक अखबार की पुस्तक का विमोचन करने पहुंचे चिताम्बरम ने यह कहा कि भारत तो हज़ारों वर्षों से भयंकर गरीब देश है। और इन्ही काले अंग्रेजों की एक और संतान हमारे प्रधान मंत्री जी हैं। जब ये प्रधान मंत्री बनने के बाद पहली बार ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय गए तो वहां उन्हà ��ंने कहा कि भारत तो सदियों से गरीब देश रहा है, ये तो भला हो अंग्रेजों का जिन्होंने आकर हमें अँधेरे से बाहर निकाला, हमारे देश में ज्ञान का सूरज लेकर आये, हमारे देश का विकास किया आदि आदि। अगले दिन लन्दन के सभी बड़े बड़े अखबारों में हैडलाइन छपी थी की भारत शायद आज भी मानसिक रूप से हमारा गुलाम है। और ये वही काले अंग्रेज हैं जो खुद तो देश का पैसा स्विस बैंक में जमा करते गए किन्तु गुजरात जैसे प्रदेश में भी विकास करने वाले नरेन्द्र भाई मोदी पर पता नहीं क्या क्या घटिया आरोप लगाते रहे। मानसिक गुलामी की बाढ़ इतनी आगे बढी कि हमारा मीडिया भी उसमे गोते खाने लगा। देश पर २०० साल तक राज़ करने वाली ईस्ट इण्डिया कम्पनी को एक भारतीय उद्योगपति संजीव मेहता ने १५० लाख डॉलर मूल्य देकर खरीद लिया, जिस कम्पनी ने भारत को २०० साल गुलाम बनाया वह कम्पनी आज एक भारतीय की गुलाम हो गयी है, किन्तु देश के किसी भी चैनल पर इसे नहीं देखा गया क्यों कि हमारा टीआरपी पसाद मीडिया तो उस समय सानिया शोएब की कथित प्रेम कहानी को कवर करने में बिजी था न, उस समय देश से ज्यादा शायद ये दो प्रेम के पंछी मीडिया के लिये जरूरी थे।


यह काला धन कैसा कहलाता है, वह समझाऊँ। यदि बाढ़ का पानी अपने घर में घुस जाए तो अपने को खुशी होती है कि घर बैठे पानी आया। तो जब वह बाढ़ का पानी उतरेगा तब पानी तो चला जाएगा, और फिर जो कीचड़ रहेगा, उस कीचड़ को धोकर निकालते-निकालते तेरा दम निकल जाएगा। यह कालाधन बाढ़ के पानी की तरह है, वह रोम-रोम में काटकर जाएगा। इसलिए मुझे सेठों से कहना पड़ा कि, ‘सावधानी से चलना।’

 आजकल बहुत से ऑनलाइन  फ्रॉड होते हैं ऐसे में हो सकता है कि आप भी किसीफ्रॉड में फस जाए इससे पहले आप यह खबर जरूर पढ़ें यदि आपके बच्चे हैं कोई फैमिली मेंबर व्हाट्सएप फेसबुक या और कोई चैटिंग साइट यूज करता है तो उसे सावधानी बरतने को कहे क्योंकि पिछले कुछ दिनों में 'ओलिविया होक्स' नाम का वॉट्सऐप फ्रॉड चर्चा में आया है, जिसे लेकर ओडिशा पुलिस की क्राइम ब्रांच ने चेतावनी जारी करते हुए सावधान रहने की हिदायत दी है।

शिकायत करते हैं कि वे पर्याप्त पैसा नहीं है कि कई लोगों के आसपास आप आज कर रहे हैं. लेकिन यहां तक कि अमीर लोग कहते हैं कि वहाँ है कोई अंत नहीं करने के लिए अधिक धन के लिए इच्छा के रूप में. यह आलेख आपको तीन तरीके कि आप आज अमीर पाने के लिए कार्रवाई कर सकते हैं दिखाने के लिए करना. सबसे पहले, विदेशी मुद्रा ट्रेडिंग मुद्रा व्यापार के रूप में भी जाना जाता आज अमीर पाने के लिए सर्वोत्तम तरीकों में से एक का प्रतिनिधित्व करता है. विदेशी मुद्रा व्यापार आम तौर पर एक अंतर के लिए अनुमति देता है 1:100 और एक पैसा दोनों जब एक मुद्रा बढ़ जाता है और गिर बनाने के लिए अनुमति देता है. के रूप में यह एक ट्रिलियन डॉलर बाजार है और दुनिया में सबसे बड़ा व्यापार बाजार का प्रतिनिधित्व करता है विदेशी मुद्रा ट्रेडिंग बेहोश दिल के लिए नहीं है. रस्सियों सीखने समय व्यतीत और फिर जानने के लिए कैसे अपने खाली नकदी के कुछ डालने से पहले व्यापार करने के लिए एक मिनी खाते के साथ शुरू करते हैं और हमेशा धन प्रबंधन अभ्यास. दूसरी बात, ईबे बेच आप अमीर पाने के लिए एक और तरीका का प्रतिनिधित्व करता है. ईबे बेच में महत्वपूर्ण आकर्षक आलों की पहचान है और भी अपने नीलामी लिस्टिंग पर प्रेरक प्रतिलिपि लिखने के लिए. लेकिन इस तरह के कौशल हासिल करने से पहले, सबसे ईबे विशेषज्ञों की व्याख्या करता है कि आप अपने ईबे रैंकिंग का निर्माण करना चाहिए जब आप खरीदारी करते हैं ताकि लोगों को तुम पर भरोसा करेंगे. जबकि पुराने दिनों में, ईबे एक जगह है जहाँ लोगों को चीजें है कि वे नहीं चाहते बेचने था, आज यह एक जगह है जहाँ बड़ी ईबे powersellers इतना है कि वे अपने ऑनलाइन स्टोर शेयर करने के लिए रसद गोदामों होने शुरू बेचने का प्रतिनिधित्व करता है. तीसरा, मताधिकार इमारत लोग हैं, जो एक दिया प्रणाली के भीतर अमीर पाने के लिए चाहते हैं के लिए एक व्यवहार्य विकल्प का प्रतिनिधित्व करता है. तथापि, नहीं सभी फ्रेंचाइजी बराबर पैदा होते हैं और आप रॉयल्टी की राशि और प्रदान की प्रशिक्षण की राशि की जांच करना चाहते हैं. कुछ समय बिताने की है कि आप अपने खुद के ब्रांड को स्थापित करना चाहते हैं यह सोच कर या इसे आप एक और लोकप्रिय ब्रांड की ब्रांड नाम पर लाभ उठाने करना चाहते हैं. अपना शोध करें और यह पता लगाना क्या मताधिकार अपने बजट के भीतर है और फिर अपने लक्ष्यों की योजना बना शुरू. अंत में, इस लेख आज अमीर कानूनी तौर पर प्राप्त करने के लिए तीन तरीके पर प्रकाश डाला. कुछ समय बिताने के लिए इस बारे में सोच और तरीके हैं जिनसे आप आज अमीर प्राप्त कर सकते हैं की खोज शुरू. अपने वित्तीय भविष्य के लिए आज कुछ कार्रवाई ले लो और अपने वित्तीय भाग्य की दिशा में कुछ प्रगति कर. Globalprosperity.com सभी अधिकार सुरक्षित 2007 आज अमीर हो जाओ करने के लिए तीन तरीके
मित्रों भारत को विश्व में सोने की चिड़िया कहा गया किन्तु एक बात सोचने वाली है कि यहाँ तो कोई सोने की खाने नहीं हैं फिर यहाँ विश्व का सबसे बड़ा सोने का भण्डार बना कैसे? यहाँ प्रश्न जरूर पैदा होते हैं किन्तु एक उत्तर यह मिलता है कि हम हमेशा से गरीब नहीं थे। अब जब भारत में सोना नहीं होता तो साफ़ है कि भारत में सोना आया विदेशों से। किन्तु हमने तो कभी किसी देश को नहीं लूटा। इतिहास में ऐसा कोई भी साक्ष्य नहीं है जिससे भारत पर ऐसा आरोप लगाया जा सके कि भारत ने अमुक देश को लूटा, भारत ने अमुक देश को गुलाम बनाया, न ही भारत ने आज कि तरह किसी देश से कोई क़र्ज़ लिया फिर यह सोना आया कहाँ से? तो यहाँ जानकारी लेने पर आपको कूछ ऐसे सबूत मिलेंगे जिससे पता चलता है कि कालान्तर में भारत का निर्यात विश्व का ३३% था। अर्थात विश्व भर में होने वाले कुल निर्यात का ३३% निर्यात भारत से होता था। हम ३५०० वर्षों तक दुनिया में कपडा निर्यात करते रहे क्यों की भारत में उत्तम कोटी का कपास पैदा होता था। तो दुनिता को सबसे पहले कपडा पहनाने वाला देश भारत ही रहा है। कपडे के बाद खान पान की अनेक वस्तुएं भारत दुनिया में निर्यात करता था क्यों कि खेती का सबसे पहले जन्म भारत में ही हुआ है। खान पान के बाद भारत में करीब ९० अलग अलग प्रकार के खनीज भारत भूमी से निकलते है जिनमे लोहा, ताम्बा, अभ्रक, जस्ता, बौक् साईट, एल्यूमीनियम और न जाने क्या क्या होता था। भारत में सबसे पहले इस्पात बनाया और इतना उत्तम कोटी का बनाया कि उससे बने जहाज सैकड़ों वर्षों तक पानी पर तैरते रहते किन्तु जंग नहीं खाते थे। क्यों की भारत में पैदा होने वाला लौह अयस्क इतनी उत्तम कोटी का था कि उससे उत्तम कोटी का इस्पात बनाया गया। लोहे को गलाने के लिये भट्टी लगानी पड़ती है और करीब १५०० डिग्री ताप की जरूरत पड़ती है और उस समय केवल लकड़ी ही एक मात्र माध्यम थी जिसे जलाया जा सके। और लकड़ी अधिकतम ७०० डिग्री ताप दे सकती है फिर हम १५०० डिग्री तापमान कहा से लाते थे वो भी बिना बिजली के? तो पता चलता है कि भारत वासी उस समय कूछ विशिष्ट रसायनों का उपयोग करते थे अर्थात रसायन शास्त्र की खोज भी भारत ने ही की। खनीज के बाद चिकत्सा के क्षेत्र में भी भारत का ही सिक्का चलता था क्यों कि भारत की औषधियां पूरी दुनिया खाती थी। और इन सब वस्तुओं के बदले अफ्रीका जैसे स्वर्ण उत्पादक देश भारत को सोना देते थे। तराजू के एक पलड़े में सोना होता था और दूसरे में कपडा। इस प्रकार भारत में सोने का भण्डार बना। एक ऐसा देश जहाँ गाँव गाँव में दैनिक जीवन की लगभग सभी वस्तुएं लोगों को अपने ही आस पास मिल जाती थी केवल एक नमक के लिये उन्हें भारत के बंदरगाहों की तरफ जाना पड़ता था क्यों कि नमक केवल समुद्र से ही पैदा होता है। तो विश्व का एक इ तना स्वावलंबी देश भारत रहा है और हज़ारों वर्षों से रहा है और आज भी भारत की प्रकृती इतनी ही दयालु है, इतनी ही अमीर है और अब तो भारत में राजस्थान में बाड़मेर, जैसलमेर, बीकानेर में पेट्रोलियम भी मिल गया है तो आज भारत गरीब क्यों है और प्रकृति की कोई दया नहीं होने के बाद यूरोप इतना अमीर क्यों?

ऐसे में लोग शॉर्टकट तलाशने शुरू कर देते हैं। लेकिन, हर किसी के हाथ तिजोरी की चाबी तो लग नहीं पाती। बस हाथ रह जाती है निराशा। लेकिन, निराश होने की कोई जरूरत नहीं है। आज के समय में कुछ भी असंभव नहीं है। बस सही दिशा में सही प्रयास करना जरूरी है। चलिए हम आपको बताते हैं कि कैसे बेहद आसान और विचित्र तरीके से आप कमा सकते हैं ढेर सारे रुपए। यदि आप कम समय में ज्यादा पैसा कमाना चाहते हो तो पार्ट टाइम बिजनेस एक बेहतर रास्ता हो सकता है। बशर्ते कि आप इसके स्टार्ट करने के बाद बीच में न बंद करें और इसके लिए अपनी रुटीन जॉब न छोड़ें।
आयकर विभाग के आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि शुक्रवार शाम तक पूरी तस्वीर साफ होगी। आयकर महानिदेशक अन्वेषण, पटना एस आर मल्लिक के निर्देश पर सहायक निदेशक आयकर अन्वेषण धनबाद सुनील किसन आगवणे के नेतृत्व में छापेमारी चल रही है। इसमें आयकर विभाग के झारखंड-बिहार के 110 अधिकारी एवं कर्मचारी तथा 125 पुलिसकर्मी शामिल हैं। संयुक्त निदेशक अन्वेषण रांची प्रणव कुमार कोले भी धनबाद पहुंचे हैं। धनबाद में नौ कंपनियों की जांच आयकर टीम कर रही है, जो अस्तित्व में हैं और इन्हीं के तहत कारोबार संचालित है।  
अगर आप अपनी जिंदगी में success होना चाहते है तोह एक लक्ष्य बनाइये,अगर आपकी जिंदगी में एक साथ बहुत कुछ चल रहा है,या फिर आप एक साथ कई लक्ष्य पूरा करने का प्रयत्न कर रहे है तोह आप कभी भी अमीर नहीं बन सकते.क्योकि करोरपति बनना कोई ऐसा काम नहीं की आप एक हाथ में किताब लिए है और याद कर रहे है,दूसरी ओर टीवी देख रहे है,ऐसा करने पर हो सकता है आप exam में पास भी हो जाओ लेकिन दोस्तों अमीर बनने के लिए एक लक्ष्य का होना बहुत ही जरुरी है.
अगर आप ऐसी जॉब के बारें में सोच रहे है। जिसमें बॉस की कोई टेंशन न हो। जब आपको अच्छा लगे, तब काम करें। जिस कंपनी या क्लांइट के साथ काम करने का मन हो उसके साथ करें। तो आप ऑनलाइन फ्रीलांसिंग कंपनियों को ज्वाइन कर सकते हैं। अगर आप इन कंपनियों को रोज 3 से 4 घंटे भी देते हैं तो आप 10 से 15 हजार आराम से घर बैठें कमा सकते हैं। आजकल ऐसा ही देखा जा रहा है कि लोग अपने करियर ग्रोथ के लिए पार्ट टाइम जॉब्स का सहारा ले रहे हैं। इससे वह कंपनी से दूर खुद की एक पहचान भी बना रहे हैं और साथ में पैसा भी कमा रहे हैं। अगर आप भी इस तरह की टेंशन फ्री जॉब करना चाहते हैं तो यहां ऐसी वेबसाइट्स के बारें में जानकारी दी जा रही है।
11 भाइयो, एक-दूसरे के खिलाफ बोलना बंद करो। जो कोई किसी भाई के खिलाफ बोलता है या उस पर दोष लगाता है वह परमेश्‍वर के कानून के खिलाफ बोलता है और उस कानून पर दोष लगाता है। अगर तू कानून पर दोष लगाता है, तो तू उस पर चलनेवाला नहीं बल्कि उसका न्यायी ठहरा। 12 कानून देनेवाला और न्यायी तो एक ही है, जो बचा भी सकता है और नाश भी कर सकता है। मगर तू कौन होता है जो अपने संगी पर दोष लगाता है?
अपनी वेबसाइट बनाने में मदद के लिए ऑनलाइन पर्याप्त सामग्री उपलब्ध है. इसमें आपकी वेबसाइट के लिए डोमेन, टेम्पलेट्स और डिजाइन चुनना शामिल है. जब आप बेवसाइट बना लेते हैं तो आपकी बेवसाइट पर आने वाले ग्राहक गूगल एडसेंस पर जैसे ही साइन अप करते हैं तो आपकी वेबसाइट पर दिखाई देने वाले विज्ञापन पर क्लिक किए जाने से आपको पैसे कमाने में मदद मिलती है. आपकी वेबसाइट पर जितना अधिक ट्रैफिक मिलता है, उतना अधिक कमाई की संभावना अधिक होगी.
पद्मावत चित्रपट प्रदर्शनास विरोध पाहता नागरिकांची गर्दी उसळण्याची शक्यता आहे. वाहनांच्या वर्दळीमुळे वाहतुकीची कोंडी होण्याची शक्यता आहे. त्यादृष्टीने शांतता व सुव्यवस्था राखण्याच्या दृष्टीने व नागरिकांच्या सुरक्षेच्या दृष्टीने २५ जानेवारी रोजी संबंधित चित्रपटगृहासमोरील मार्गावरील वाहतुकीत गरजेनुसार बदल करण्यात येणार आहे. त्यामुळे नागरिकांनी सहकार्य करावे, असे आवाहन वाहतूक शाखेचे पीआयअर्जुन ठोसरे यांनी केले.
जैसा की आप जानते हैं की Google पूरी दूनियां में सबसे बड़ी कंपनी है और इसके बहुत सारे सर्विसेज हैं जिसमे की Gmail YouTube भी शामिल हैं। Google का एक और service है जिसका नाम है Google Adsense जोकि हम सब को घर बैठे पैसा कमाई करने का मौका देता है। अगर आप Google Adsense के मेंबर बन जाते हैं जोकि बहुत ही आसान है, तो Google आपको advertisement देता है जिसे आप अपने website में लगाकर पैसा कमा सकते हैं। Google से पैसा कामना सबसे अच्छा और आसान तरीका है और लाखो लोग इससे घर बैठे पैसा कमा रहे हैं।
आज कल लोगो को जॉब करने का बिलकुल मन नहीं करता है कोई बिजिनेस करना चाहते है या घर बैठे जॉब करके इन्टरनेट से पैसे कमाना चाहता है लोग सोचते है इंटरनेट से पैसे कमाना बहोत तक और घर बैठे आसानी से डॉलर (Dollar) छाप सकते है लेकिन ये इतना आसान नहीं है अगर आपको इन्टरनेट से ऑनलाइन घर पर काम करके पैसे कमाने है तो इसके लिए आपको बहोत मेहनत करना होगा साथ ही साथ स्मार्ट वर्क (Smart Work) भी करना होगा तभी आप पैसे कम सकते है इन्टरनेट से इसके अलावा आपको कई चीजों का ज्ञान होना भी बेहद जरुर है तो इस आर्टिकल में हम आपको कुछ तरीके बताएँगे जो सभी लोग इस्तेमाल करने है इंटरनेट से पैसे कमाने के लिए तो चलिए आइये जान लेते है इंटरनेट से पैसे कमाने के कोन कोन से तरीके है (internet se ghar par online paise kamane ke tarike).  (How to make money online in hindi) हाउ टो मेक मनी ऑनलाइन
×