अपनी वेबसाइट बनाने में मदद के लिए ऑनलाइन पर्याप्त सामग्री उपलब्ध है. इसमें आपकी वेबसाइट के लिए डोमेन, टेम्पलेट्स और डिजाइन चुनना शामिल है. जब आप बेवसाइट बना लेते हैं तो आपकी बेवसाइट पर आने वाले ग्राहक गूगल एडसेंस पर जैसे ही साइन अप करते हैं तो आपकी वेबसाइट पर दिखाई देने वाले विज्ञापन पर क्लिक किए जाने से आपको पैसे कमाने में मदद मिलती है. आपकी वेबसाइट पर जितना अधिक ट्रैफिक मिलता है, उतना अधिक कमाई की संभावना अधिक होगी.


यूट्यूब को इन्टरनेट की दुनिया में कोन नहीं जानता ये एक ऐसा प्लेटफार्म है जहा पर आप किसी भी तरह की जानकारी ले सकते हो विडियो की मदद से और वीडियोस को शेयर कर सकते हो अगर आपके पास कोई टैलेंट है जैसे सिंगिंग डांसिंग , कुछ भी टैलेंट हो तो आप यूट्यूब पे शेयर करके कर सकते है और लोगो तक अपने टैलेंट को आसानी से पोहचा सकते है इसके अलावा आप यूट्यूब पे ऑनलाइन पैसे (online paise) भी कमा सकते है विडियो को मोनेटाइज कर के.
उदाहरण के तौर पर जब आप इसी वेबसाइट जैसे makehindi.com को ओपन करते हो तो इस पोस्ट के ऊपर नीचे विज्ञापन लगे होते है जब आप इनके विज्ञापन पर क्लिक करते है तो makehindi.com को इससे पैसे मिलते है. इसी तरह आप भी कर सकते हैं. आप अपनी खुद की वेबसाइट बनाकर उस पर गूगल ऐडसेन्स से विज्ञापन लगवा सकते है और वेबसाइट से पैसे कमा सकते हो. बता दे कि वेबसाइट से करोड़ों लोग करोड़ों रूपये कमा रहे है.
शंकर जी हमारे देश में राहुल गांधी कोई अकेला नेता नहीं है जो हमें उसी पर निर्भर होना पड़े| हमें राहुल गांधी की जरुरत नहीं है, हमें तो जरुरत है आप जैसे देश भक्तों की जो देश के लिये समर्पण का भाव रखते हैं, जो देश के इतिहास पर गर्व करते हैं, उसकी संस्कृती पर गर्व करते हैं, उसकी शक्ति पर गर्व करते हैं| केवल राहुल ही एक अकेला रास्ता नहीं है, यह देश इतना शक्तिशाली है कि खुद अपने लिये नए और उपयुक्त रास्ते बना सकता है| सबसे बड़ी शक्ति आवाम की है, आवाम खुद इतनी बड़ी शक्ति है कि बड़ी से बड़ी सत्ता को उखाड़ कर फेंक सकती है, बड़ी से बड़ी व्यवस्था को बदल सकती है| दुःख है तो बस इस बात का कि यह शक्ति बिखरी हुई है| जिस दिन यह शक्ति संगठित हो जाएगी तो जिस तरह अंग्रेज भागे थे हमारा देश छोड़ कर इन काले अंग्रेजो को भी हम देश से निकाल कर बाहर फेंक देंगे| जरुरत बस एक होने की है| आप और हम राष्ट्र आराधन करते रहें तो यह भी संभव है|

यह एक और सबसे अच्छा ऑनलाइन व्यवसाय है जो किसी को भी शुरू कर सकते है. वहाँ की तरह कई स्वतंत्र साइटों रहे हैं Upwork, Fiverr, फ्रीलांसर जहां आप एक स्वतंत्र और बोली परियोजनाओं के रूप में शामिल हो सकते हैं. लेकिन अगर आप एक क्षेत्र पर कुछ विशेष कौशल की आवश्यकता है. सबसे फ्रीलांसरों और अधिक परियोजनाओं को पाने के लिए इतने सारे कौशल का उल्लेख है, लेकिन इस तरह से वे ठेके ढीला. बस क्या तुम नहीं, अपने प्रासंगिक sills में विशेषज्ञता रहे हैं उल्लेख.

 आजकल बहुत से ऑनलाइन  फ्रॉड होते हैं ऐसे में हो सकता है कि आप भी किसीफ्रॉड में फस जाए इससे पहले आप यह खबर जरूर पढ़ें यदि आपके बच्चे हैं कोई फैमिली मेंबर व्हाट्सएप फेसबुक या और कोई चैटिंग साइट यूज करता है तो उसे सावधानी बरतने को कहे क्योंकि पिछले कुछ दिनों में 'ओलिविया होक्स' नाम का वॉट्सऐप फ्रॉड चर्चा में आया है, जिसे लेकर ओडिशा पुलिस की क्राइम ब्रांच ने चेतावनी जारी करते हुए सावधान रहने की हिदायत दी है।

Website – आपको एक वेबसाइट बनाना होगा और उसमे आर्टिकल्स लिखना होगा। वेबसाइट को आप FREE मेभी बना सकते हैं और वेबसाइट बनाना बहुत ही आसान है जोकि 10 मिनट में बन जाता है। आप वेबसाइट के नाम से घबराइए नहीं क्यूंकि ये बहुत ही आसान है और कोई भी इसे बना सकता है। आप इस आर्टिकल को पढ़ रहे हैं तो आप 100 % वेबसाइट भी बना सकते हैं| मैं आपको वेबसाइट बनाने का तरीका भी बताऊंगा ।
13 तुम में बुद्धिमान और समझदार कौन है? जो ऐसा हो, वह इस बात को अपने बढ़िया चालचलन के कामों से उस कोमलता के साथ दिखाए जो बुद्धि से पैदा होती है। 14 लेकिन अगर तुम्हारे दिलों में ज़बरदस्त ईर्ष्या और झगड़े की भावना हो, तो शेखी न मारो और सच्चाई के खिलाफ झूठ मत बोलो। 15 यह बुद्धि वह नहीं जो स्वर्ग से मिलती है, बल्कि यह दुनियावी, शारीरिक और शैतानी है। 16 इसलिए कि जहाँ ईर्ष्या और झगड़े होते हैं, वहाँ गड़बड़ी और हर तरह की बुराई होती है।
महत्वपूर्ण : प्रथम प्रश्नपत्र में तत्वों की दीर्घ आवर्त सारिणी व उनमें उपस्थित तत्वों के गुणों में अवर्तता रसायन की मूल अवधारणाएं, आधुनिक परमाणु संरचना, विभिन्न रासायनिक बंध, तथा द्वितीय प्रश्नपत्र में कार्बन यौगिकों का नामकरण, विभिन्न क्रियात्मक समूहों के सामान्य लक्षण, रासायनिक अभिक्रियाओं की क्रियाविधि तथा पर्यावरणीय अध्ययन को अच्छी तरह से तैयार करें।
अगर आपको लिखना पसंद है या आपकी लिखने की स्किल (Writing skill) अच्छी है तो आप ऑनलाइन किसी भी वेबसाइट के लिए आर्टिकल लिख कर घर पर ही काम करके बिना कोई पैसे खर्च करके इंटरनेट से पैसे कमा सकते है आज कल बहोत से ऐसे फ्रीलान्स कंटेंट राइटर ( Freelance content writer) का काम करके महीने के हजारो रूपये कमा रहे है अगर आपको ब्लॉग बनके और इसे मेन्टेन करके की कोई जानकारी नहीं है तो आप ऑनलाइन कंटेंट राइटर बन कर भी पैसे कमा सकते है
थॉमस रो ने सबसे पहले सूरत के एक महल नुमा घर को लूटा जो आज भी मौजूद है। फिर पड़ोस के गाँव में और फिर और आगे। खाली हाथ आये इन अंग्रजों के पास जब करोड़ों की संपत्ति आई तो इन्होने अपनी खुद की सेना बनायी। उसके बाद सन १७५७ में रोबर्ट क्लाइव बंगाल के रास्ते भारत आया उस समय बंगाल का राजा सिराजुद्योला था। उसने अंग्रेजों से संधि करने से मना कर दिया तो रोबर्ट क्लाइव ने युद्ध की धमकी दी और केवल ३५० अंग्रेज सैनिकों के साथ युद्ध के लिये गया। बदले में सिराजुद्योला ने १८००० की सेना भेजी और सेनापति बनाया मीर जाफर को। तब रोबर्ट क्लाइव ने मीर जाफर को पत्र भेज कर उसे बंगाल की राज गद्दी का लालच देकर उससे संधि कर ली। रोबर्ट क्लाइव ने अपनी डायरी में लिखा था कि बंगाल की राजधानी जाते हुए मै और मीर जाफर सबसे आगे, हमारे पीछे मेरी ३५० की अंग्रेज सेना और उनके पीछे बंगाल की १८००० की सेना। और रास्‍ते में जितने भी भारतीय हमें मिले उन्होंने हमारा कोई विरोध नहीं किया, उस समय यदि सभी भारतीयों ने मिल कर हमारा विरोध किया होता या हम पर पत्थर फैंके होते तो शायद हम कभी भारत में अपना साम्राज्य नहीं बना पाते। वो डायरी आज भी इंग्लैण्ड में है। मीर जाफर को राजा बनवाने के बाद धोखे से उसे मार कर मीर कासिम को राजा बनाया और फिर उसे मरवाकर खुद बंगाल का राजा बना। ६ साल लूटने के बाद उसका स्थानातरण इंग्लैण्ड हुआ और वहां जा कर जब उससे पूछा गया कि कितना माल लाये हो तो उसने कहा कि मै सोने के सिक्के, चांदी के सिक्के और बेश कीमती हीरे जवाहरात लाया हूँ। मैंने उन्हें गिना तो नहीं किन्तु इन्हें भारत से इंग्लैण्ड लाने के लिये मुझे ९०० पानी के जहाज़ किराये पर लेने पड़े। अब सोचो एक अकेला रोबर्ट क्लाइव ने इतना लूटा तो भारत में उसके जैसे ८४ ब्रीटिश अधीकारी आये जिन्होंने भारत को लूटा। रोबर्ट क्लाइव के बाद वॉरेन हेस्टिंग्स नामक अंग्रेज अधीकारी आया उसने भी लूटा, उसके बाद विलियम पिट, उसके बाद कर्जन, लौरेंस, विलियम मेल्टिन और न जाने कौन कौन से लुटेरों ने लूटा। और इन सभी ने अपने अपने वाक्यों में भारत की जो व्याख्या की उनमे एक बात सबमे सामान है। सबने अपने अपने शब्दों में कहा कि भारत सोने की चिड़िया नहीं सोने का महासागर है। इनका लूटने का प्रारम्भिक तरीका यह था कि ये किसी धनवान व्यक्ति को एक चिट्ठी भेजते थे जिसमे एक करोड़, दो करोड़ या पांच करोड़ स्वर्ण मुद्राओं की मांग करते थे और न देने पर घर में घुस कर लूटने की धमकी देते थे। ऐसे में एक भारतीय सोचता कि अभी नहीं दिया तो घर से दस गुना लूट के ले जाएगा अत: वे उनकी मांग पूरी करते गए। धनवानों के बाद बारी आई देश के अन्य राज्यों के राजाओं की। वे अन्य राज परीवारों को भी ऐसे ही पत्र भेजते थे। कूछ राज परिवार जो कायर थे उनकी मांग मान लेते थे किन्तु कूछ साहसी लोग ऐसे भी थे जो उन्हें युद्ध के लिये ललकारते थे। फिर अंग्रेजों ने राजाओं से संधि करना शुरू कर दिया।
मुझे पूर्ण आशा है की मैंने आप लोगों को Facebook से पैसे कैसे कमाए के बारे में पूरी जानकारी दी और में आशा करता हूँ आप लोगों को Facebook से पैसे कमाने के तरीके के बारे में समझ आ गया होगा. मेरा आप सभी पाठकों से गुजारिस है की आप लोग भी इस जानकारी को अपने आस-पड़ोस, रिश्तेदारों, अपने मित्रों में Share करें, जिससे की हमारे बिच जागरूकता होगी और इससे सबको बहुत लाभ होगा. मुझे आप लोगों की सहयोग की आवश्यकता है जिससे मैं और भी नयी जानकारी आप लोगों तक पहुंचा सकूँ.

दोस्तों यदि आप किसी एक क्षेत्र में विशेष जानकारी रखते हैं चाहे वह किसी भी क्षेत्र की क्यों ना हो तो आप एक कंसलटेंट का काम कर सकते हैं यानी आप लोगों को उस क्षेत्र में सलाह दे सकते हैं. इसके लिए आपको हो सकता है कुछ समय जरूर लगेगा पैसे कमाने के लिए जैसे-जैसे आपके नेटवर्क बढ़ते जाएंगे वैसे-वैसे आपकी इनकम बढ़ती जाएगी. इसके लिए आपको इंटरनेट की दुनिया में अपनी पहचान बनानी होगी तभी लोग आपसे सलाह लेना शुरू करेंगे पहले अपने पर्सनल नेटवर्क में सलाह देना शुरु कीजिए फिर उनसे कहना शुरू करें कि वह अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को बताएं कि आप क्या करते हैं.
आज के वक्त में इंटरनेट के जरिए भी ट्यूशन कारोबार अच्छा चल रहा है। ई-ट्यूटर भी ऑनलाइन कमाई के चर्चित तरीकों में से एक है। इनमें तमाम इंस्टीट्यूट से लेकर ऑनलाइन वेबसाइट भी अलग-अलग विषयों के लोगों को पेड ई-ट्यूटर रखती हैं।www.tutorvista.com औरwww.2tion.net जैसी प्रमुख वेबसाइट्स पिछले कुछ समय से भारत में ये सुविधा दे रही है। यूजर्स ऐसी ही साइटों पर खुद को रजिस्टर कर चंद घंटे पढ़ाकर मोटी कमाई कर सकते हैं।
उसके बाद १८७० में अंग्रेजों के विरुद्ध क्रान्ति छेड़ी हमारे देश के गौरव स्वामी दयानंद सरस्वती ने, उनके बाद लोकमान्य तिलक, लाला लाजपतराय, वीर सावरकर जैसे वीरों ने। फिर गांधी जी, भगत सिंह, उधम सिंह, चंद्रशेखर जैसे बीरों ने। अंतिम लड़ाई लड़ने वालों में नेताजी सुभाष चन्द्र बोस रहे हैं। सन १९३९ में द्वितीय विश्व युद्ध के समय जब हिटलर इंग्लैण्ड को मारने के लिये तैयार खड़ा था तो अंग्रेज साकार ने भारत से एक हज़ार ७३२ करोड़ रुपये ले जा कर युद्ध लड़ने का निश्चय किया और भारत वासियों को वचन दिया कि युद्ध के बाद भारत को आज़ाद कर दिया जाएगा और यह राशि भारत को लौटा दी जाएगी। किन्तु अंग्रेज अपने वचन से मुकर गए।
मित्रों जैसा कि आप सब लोग जानते ही होंगे कि विश्व में इस समय करीब २०० देश हैं। संयुक्त राष्ट्र संघ के पिछले वर्ष के एक सर्वेक्षण के अनुसार विश्व में ८६ महा दरिद्र देश हैं और उनमे भारत १७वे स्थान पर आता है। अर्थात ६९ महा दरिद्र देश भारत से ज्यादा अमीर हैं। केवल १६ महा दरिद्र देश विश्व में ऐसे हैं जो भारत के बाद आते हैं। दुनिया का सबसे अमीर देश इसके अनुसार स्वीटजरलैंड है। मित्रों अब प्रश्न यहाँ से उठता है कि स्वीटजरलैंड सबसे अमीर कैसे है? मेरे एक परीचित एवं अग्रज तुल्य देश के एक वैज्ञानिक श्री राजिव दीक्षित से मिली एक जानकारी के अनुसार स्वीटजरलैंड में कुछ भी नहीं होता। कुछ भी का मतलब कुछ भी नहीं। वहां किसी प्रकार का कोई व्यापार नहीं है, कोई खेती नहीं, कोई छोटा मोटा उद्योग भी नहीं है। फिर क्या कारण है कि स्वीटजरलैंड दुनिया का सबसे अमीर देश है?
मेरा हमेशा से यही कोशिश रहा है की मैं हमेशा अपने readers या पाठकों का हर तरफ से हेल्प करूँ, यदि आप लोगों को किसी भी तरह की कोई भी doubt है तो आप मुझे बेझिजक पूछ सकते हैं. मैं जरुर उन Doubts का हल निकलने की कोशिश करूँगा. आपको यह लेख कैसे Facebook से पैसे कैसे कमाए कैसा लगा हमें comment लिखकर जरूर बताएं ताकि हमें भी आपके विचारों से कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिले.
इस वेबसाईट को बनाने का मेन उद्येश्य यह है कि, इस वेब पोर्टल में सीएससी (कॉमन सर्विस सेंटर) में भाग लेने के लिए सीएससी (सामान्य सेवा केंद्र), संरचना, पात्रता और योग्यता की सुविधाओं के बारे में आवश्यक जानकारी शामिल है। सीएससी के सभी जिला प्रबंधको का विवरण, इस वेबसाइट पर ईमेल आईडी, पता और फोन नंबर के साथ आपको महत्वपूर्ण जानकारी भी मिलेगी। मुझे कंप्यूटर, वेबसाईट, इंटरनेट, सीएससी, के बारे मे बहुत सी जानकारी है तो क्यो ना ओ जानकारी मे आपके साथ शेअर करू, और उस जानकारी का आप सबको फायदा हो, और हमारे सारे भाईओ और बहनो को तरक्की पर ले जाऊ अगर आप भी मेरे साथ साथ उचे शिखर पर जाते है तो मुझे भी बहुत अच्छा महसूस होगा अगर आप रोजाना हमारी वेबसाइट पर आते है तो आपको ढेर सारी जानकारी यहापर मिलती रहेगी और आपको इसका जरूर फायदा होगा इसलिए मैं आपको कहना चाहता हु की आप हमारी वेबसाइट पर उपलब्ध सभी जानकारी का अच्छेसे फायदा ले और आपको ऐसा लगता है की मैं ऐसे ही कोई आपके लिए अच्छी जानकारी दू तो आप मुझे सुजाव  भी दे सकते है मई जरूर आपके लिए कोशिश करूँगा की आपकी फरमाइश की हुयी जानकारी मैं आप तक पहुँचा सकु, और में आपके साथ एक बात और शेअर करना चाहता हु की हमारी वेबसाइट पर मौजूद आपने हमको आपकी दी हुयी जानकारी पूरी तरह से सुरक्षित है हम आपको कोई भी ईमेल आईडी या कोई भी ऐसे अन्य बाते जो आपने हमारे साथ शेअर की है ओ हम किसीके साथ शेअर नहीं करते मुझे उम्मीद है की आप हमारी वेबसाइट पर रोजाना आकर आपके काम की अच्छी जानकारी प्राप्त करोगे और आगे बढ़ोगे. धन्यवाद !
अगर आप अपने फ़ोन के ब्लैक एंड वाइट कीबोर्ड से दुखी है तो आप इसका इस्तेमाल कर न सिर्फ रंगीन कीबोर्ड इस्तेमाल कर सकते हैं, साथ ही पैसे भी कमा सकते है. यहां आपको केवल इस एप को इनस्टॉल करना होगा जिसके बाद आपको यह एप आपके चैट्स और आपके सर्च के आधार पर विज्ञापन दिखाएगा. हर विज्ञापन को देखने के आपको 1 रुपये मिलेगा जो कि आपके keettoo अकाउंट में ट्रांसफर हो जाएगा. इस एप को आप अपने paytm या mobikwik खाते से जोड़ सकते है.
मैंने श्री राजिव दीक्षित जी के दु:खद निधन के बारे में प्रवकता.कॉम की ओर से प्रस्तुत कोई लेख को देखने की अभिलाषा से वेबसाईट को खोजा| ऐसा कोई मृतविवरण तो नहीं मिला, संभवतः ठीक प्रकार से खोज न की हो लेकिन आपका लेख अवश्य देखने और पढ़ने को मिला| आपके लेख में बताये तथ्य को सभी जानते हैं लेकिन बहुत कम लोग हैं जो सोचते भी हैं| लेकिन सोचने वालों की संख्या इतनी कम है कि जैसे बड़े से बर्तन में पाँव भर दूध उबल उबल कर जल जाये नष्ट हो जाये और किसी को मालुम ही न हो| मेरे विचार में जवाहरलाल नेहरु के प्रयोगात्मक समाजवाद से उत्पन्न अभाव से बचने के लिए स्वतन्त्र भारत की पहली पढ़ी-लिखी पेशेवर युवा पीढ़ी ने १९७० दशक से भारत छोड़ अमरीका और दूसरे पाश्चिम देशों में जा बसने का जो बीज बोया था वह वास्तविकता में संपूर्ण आज़ादी थी—अंग्रेजों के बनाये कानूनी चक्रव्यूह से और समाजवाद से| और आज आपका लेख पढ़ ऐसा प्रतीत होता है कि तथाकथिक स्वतंत्रता के तिरेसठ वर्षों बाद आज की युवा-पीढ़ी इन काले अंग्रेजों की सत्ता को उखाड फैंक यथार्थ स्वतंत्रता प्राप्त करेगी| आपका लेख सभी हिंदी-भाषी व प्रांतीय भाषों में प्रकाशित पत्रिकाओं में प्रस्तुत होना चाहिए|

यह एक और सबसे अच्छा ऑनलाइन व्यवसाय है जो किसी को भी शुरू कर सकते है. वहाँ की तरह कई स्वतंत्र साइटों रहे हैं Upwork, Fiverr, फ्रीलांसर जहां आप एक स्वतंत्र और बोली परियोजनाओं के रूप में शामिल हो सकते हैं. लेकिन अगर आप एक क्षेत्र पर कुछ विशेष कौशल की आवश्यकता है. सबसे फ्रीलांसरों और अधिक परियोजनाओं को पाने के लिए इतने सारे कौशल का उल्लेख है, लेकिन इस तरह से वे ठेके ढीला. बस क्या तुम नहीं, अपने प्रासंगिक sills में विशेषज्ञता रहे हैं उल्लेख.
यदि आप एक अच्छे विडियो क्रिएटर बन जाते हैं, तो एक आप एक अच्छी इनकम कर सकते हैं. यूट्यूब येसा ही ऑनलाइन प्लेटफार्म प्रदान करता है, जहां से आप अपने वीडियो को क्रिएट कर अपलोड कर सकते हैं. यदि आपके विडियो के उपर एक अच्छा ट्रैफिक आने लगता है, तो यूट्यूब आपके चैनल को मोनेटाइजेशन कर देता है, यानि आपकी वीडियो पर यूट्यूब उस पर विज्ञापन दिखाना शुरु कर देता है.
अगर आप नहीं जानते ब्लॉग बनाने के लिए क्या चाहिए तो आप ये पोस्ट पढ़े वेबसाइट या ब्लॉग बनाने के लिए क्या क्या चाहिएजैसे ही आप अपने ब्लॉग बना लेते है इसके बाद आपको रोजाना पोस्ट यानि आर्टिकल लिखना है किसी भी टॉपिक पर जिसके बारे में आपको अच्छे से ज्ञान हो जैसे ही आपके ब्लॉग पे रोजाना अच्छा खासा ट्रैफिक आने लगे यानि लोग आपके ब्लॉग को पढने लगे तो इसके बाद आप अपने ब्लॉग पर एडवरटाइजिंग (Advertising) दिखा कर पैसे (Paise) कमा सकते है तो इसके लिए आप गूगल ऐडसेंस का इस्तेमाल कर सकते है इसके अलावा आप अफ्फीलियेट मार्केटिंग (affiliate marketing) या फिर स्पोंसर कंटेंट लिख कर भी ब्लॉग से पैसे कमा सकते है लेकिन ब्लॉग में आप एकदम से पैसे नहीं कमा सकते है इसके लिए कुछ समय लगता है और साथ में आपको हार्ड वर्क भी करना होगा.
×