तो मित्रो इसका उत्तर यहाँ से मिलता है। उस समय अफ्रीका और लैटिन अमरीका तक व्यापार का काम दो देशों चीन और भारत से होता था। आप सब जानते ही होंगे कि अफ्रीका दुनिया का सबसे बड़ा स्वर्ण उत्पादक क्षेत्र रहा है और आज भी है। इसके अलावा अफ्रीका की चिकित्सा पद्धति भी अद्भुत रही है। सबसे ज्यादा स्वर्ण उत्पादन के कारण अफ्रीका भी एक बहुत अमीर देश रहा है। अंग्रेजों द्वारा दी गयी ४५० साल की गुलामी भी इस देश से वह गुण नहीं छीन पायी जो गुण प्रकृति ने अफ्रीका को दिया। अंग्रेजों ने अफ्रीका को न केवल लूटा बल्कि बर्बरता से उसका दोहन किया। भारत और अफ्रीका का करीब ३००० साल से व्यापारिक सम्बन्ध रहा है। भौगोलिक दृष्टि से समुद्र के रास्ते दक्षिण एशिया से अफ्रीका या लैटिन अमरीका जाने के लिये इंग्लैण्ड के पास से निकलना पड़ता था। तब इंग्लैण्ड वासियों की नज़र इन जहाज़ों पर पड़ गयी। और आप जानते होंगे कि इंग्लैण्ड में कूछ नही था, लोगों का काम लूटना और मार के खाना ही था, ऐसे में जब इन्होने देखा कि माल और सोने भरे जहाज़ भारत जा रहे हैं तो इन्होने जहाज़ों को लूटना शुरू किया। किन्तु अब उन्होंने सोचा कि क्यों न भारत जा कर उसे लूटा जाए।।। तब कूछ लोगों ने मिल कर एक संगठन खड़ा किया और वे इंग्लैण्ड के राजा रानी से मिले और उनसे कहा कि हम भारत में व्यापार करना चाहते हैं हमें लाइसेंस की आवश् यकता है। अब राज परिवार ने कहा कि भारत से कमाया गया धन राज परिवार, मंत्रिमंडल, संसद और अधीकारियों में भी बंटेगा। इस समझौते के साथ सन १७५० में थॉमस रो ईस्ट इण्डिया कम्पनी के नाम से जहांगीर के दरबार में पहुंचा और व्यापार करने की आज्ञा मांगी। और तब से १९४७ तक क्या हुआ है वह तो आप भी जानते है।
YouTube के बारे में कौन नहिं जानता. फिर भी जानकारी केलिए बता देता हूँ के ये world का 3rd most popular website है, जहाँ हर रोज millions views होते है. जो ये नहिं जानते में उन्हें बताना चाहूँगा के YouTube एक बेहतर जरिया है पैसे कमाने का. Content लिखने को Blogging कहते है और Video के जरिये पैसे कमाने को Vlogging कहते है. Vlogging यानि video blogging. मैंने पहले भी Blogging vs Vlogging के बारे में एक post लिखा था, आप चाहे तो उसे पढ़ सकते हैं. इसमें भी आपके पास दो चीजों का होना बहुत जरुरी है.
इसमें कोई शक नहीं सॉफ्टवेयर उद्योग दिन-ब-दिन बढ़ रही है. आप एक डेवलपर हैं तो आप आवेदन कार्यक्रमों बना सकते हैं और विभिन्न चैनलों पर बेच सकते हैं. आप जावा प्रोग्रामिंग ज्ञान पर पता करने की जरूरत, .जाल, सी # आदि. आप व्यापार के लिए Android अनुप्रयोगों को विकसित कर सकते हैं, शिक्षा, सांख्यिकी, ज्योतिष. आप Android अनुप्रयोगों और सॉफ्टवेयर उपकरण बना सकते हैं.
टाटा स्टाइल में आप पैसे से पैसा तो कमा सकते हैं, लेकिन 2 को 4 ही कर सकते हैं। अगर आपको अपना पैसा 2 से 10 करना है और वह भी फटाफट, तो आपको अंबानी स्टाइल में काम करना होगा। पहले स्टाइल में पैसा कमाना जरूरी तो होता है, लेकिन थोड़...ी ईमानदारी के साथ। अब तक टाटा का नाम सिर्फ माओवादियों को लेवी देने के लिए खराब हुआ है। जबकि दूसरे स्टाइल की खासियत यह है कि बस पैसा आना चाहिए। कैसे आ रहा है, यह नहीं देखा जाता! इस थ्योरी में माना जाता है कि पैसा कमाने के रास्ते में आने वाली बाधाओं को पैसे से ही साफ किया जा सकता है और ऐसा करने में कोई बुराई भी नहीं है। शायद यही वजह है कि टाटा आज भी टाटा ही हैं, जबकि अंबानी दुनिया के धन्ना सेठों की लिस्ट में बिल गेट्स को टक्कर देते हैं।
हेलो दोस्तों, मेरा नाम Umair habib है. मुझे Online marketing के बारे में पढ़ना और लोगो को बताना पसंद है. किसी knowledge का सबसे अच्छा इस्तेमाल यही है की उसे सीखो और दुसरो तक पंहुचा दो. हम यह यही करेंगे अब जैसे जैसे internet का इस्तेमाल बढ़ रहा है वैसे ही India भी digital होता जा रहा है. तो हम भी कुछ सीखेंगे कुछ सिखाएगे, India को थोड़ा और Digital बनायगे.
अपनी वेबसाइट बनाने में मदद के लिए ऑनलाइन पर्याप्त सामग्री उपलब्ध है. इसमें आपकी वेबसाइट के लिए डोमेन, टेम्पलेट्स और डिजाइन चुनना शामिल है. जब आप बेवसाइट बना लेते हैं तो आपकी बेवसाइट पर आने वाले ग्राहक गूगल एडसेंस पर जैसे ही साइन अप करते हैं तो आपकी वेबसाइट पर दिखाई देने वाले विज्ञापन पर क्लिक किए जाने से आपको पैसे कमाने में मदद मिलती है. आपकी वेबसाइट पर जितना अधिक ट्रैफिक मिलता है, उतना अधिक कमाई की संभावना अधिक होगी.
बनको ज्यान गयो, तर गोरेको सुन भेटिएन । बनको मृत्यु दुर्घटनामा दर्ज भएकोले गोरेलाई आफ्नो सुन खोज्न समय र सुविधा भयो । उप्रेतीले आफ्ना पूर्वलेखा सहयोगी सनम शाक्यले सुन लगेको शंका गरे । आफूसँग काम गरेर तीन महिनाअघि अलग्गिएका शाक्यले षड्यन्त्रपुर्वक सुन गायब बनाएका हुन सक्छन् भनेर उनलाई नियन्त्रणमा लिइयो । सनमसँगै टेकराज मल्ल, कृष्ण भनिने नरेन्द्र कार्की र मोहन काफ्लेलाई नियन्त्रणमा लिएर काठमाडौंबाट मोरङ पुर्याइयो । गाडिमा उनीहरुलाई त्यति टाढा पुर्याइँदा पनि पनि प्रहरीबाट कुनै हस्तक्षेप भएन ।
तो मित्रों अब यदि इन काले अंग्रेजों से आज़ादी चाहिए तो फिर से कोई स्वतंत्रता संग्राम छेड़ना होगा, कोई क्रान्ति को जन्म देना होगा। फिर से किसी को मंगल पण्डे बनना होगा, किसी को भगत सिंह तो किसी को सुभाष चन्द्र बोस बनना होगा। क्यों कि जीवन जीने के केवल दो हे तरीके इस देश में बचे हैं कि या तो जो हो रहा है उसे सहते रहो, शान्ति के नाम पर यथास्थिति बनाए रखो, और सब कूछ सहते सहते मर जाओ या फिर खड़े हो जाओ एक संकल्प के साथ और आवाज़ उठाओ अन्याय के विरुद्ध, फिर से खड़ी करो एक क्रान्ति, और केवल मै और मेरा पारिवार की विचारधारा से भार आकर मेरा राष्ट्र की विचारधारा को अपनाओ। किन्तु आज इस देश में यथास्थिति वाले लोग अधिक है। उन्ही से पूछना चाहूँगा कि क्या ये दिन देखने के लिये ही तुम्हारे पूर्वजों ने जीवन का बलिदान दिया था, क्या उनका त्याग व्यर्थ जाएगा, क्या आज तुम्हारे पूर्वजों को तुम प र गर्व होगा, क्या आने वाली पीढी को तुम पर गर्व होगा, क्या अपनी आने वाली पीढ़ी के लिये विरासत में तुम इन काले अंग्रेजों को छोड़ के जाओगे? आचार्य विष्णु गुप्त (चाणक्य) ने कहा था कि जितनी हानि इस राष्ट्र को दुर्जनों कि दुर्जनता से हुई है उससे कहीं अधिक हानि इस राष्ट्र को सज्जनों कि निष्क्रियता से हुई है। क्या आप सज्जन हमेशा निष्क्रीय ही बने रहेंगे? अब कोई भी यह पूछ सकता है कि हम क्या करें? मित्रों करने को बहुत कूछ है करने की इच्छा शक्ति होनी चाहिए। यदि आप में इच्छा शक्ति है, यदि आप में ज्ञान है तो आप खुद अपने लिये राह बना सकते हैं। चाणक्य ने मगध सम्राट धननंद के दरबार में उसे ही ललकारते हुए कहा था कि मेरे ज्ञान में अगर शक्ति है तो मै अपना पोषण कर सकने वाले सम्राटों का निर्माण स्वयं कर लूँगा।
वैसे तो आपको इन्टरनेट पे हजारो वेबसाइट मिल जायेंगे जहा पे आप फ्रीलान्स कंटेंट राइटर बन सकते है जैसे की कंटेंट मार्ट (ContentMart) और ट्रूलांसर (Truelancer) इत्यादि वेबसाइट है जहा पर आप एक कंटेंट राइटर की तरह काम कर सकते है आप किसी भी टॉपिक पर कंटेंट लिख सकते है इसके आप इन्टरनेट का भी सहारा ले सकते रिसर्च कर सकते है और जितना लम्बा कंटेंट लिखेंगे आपको उसी हिसाब से पैसे मिलेंगे तो ये भी एक तरीका है ऑनलाइन इंटरनेट से पैसे कमाने का.
कुछ वेबसाइट्स इसके लिए आपको अपने कौशल के विवरण के साथ पर्सनल लिस्टिंग करती हैं ताकि फ्रीलांसिंग का काम देने वाले आपके सीधे संपर्क कर सकें. Outfiverr.com, upwork.com,freelancer.com worknhire.com फ्रीलांसिंग जॉब का मौका दे रही हैं. इन बेवसाइट्स के जरिये घर बैठे आप 5 डॉलर से 100 डॉलर रोजाना तक कमा सकते हैं. अगर क्लाइट्स को आपका काम पंसद आ गया तो वह आपके खाते में पैसे भेज देते हैं. कुछ क्लाइंट्स PayPall खाता खोलने की भी सलाह देते हैं.
और इसी लूट मार से परेशान भारतीयों ने पहली बार एकत्र होकर सब १८५७ में अंग्रेजों के विरुद्ध क्रांति छेड़ दी। इस क्रांती की शुरुआत करने वाले सबसे पहले वीर मंगल पाण्डे थे और अंग्रेजों से भारत की स्वतंत्रता के लिये शहीद होने वाले सबसे पहले शहीद भी मंगल पांडे ही थे। देखते ही देखते इस क्रान्ति ने एक विशाल रूप धारण किया। और इस समय भारत में करीब ३ लाख २५ हज़ार अंग्रेज़ थे जिनमे से ९०% इस क्रांति में मारे गए। किन्तु इस बार भी कूछ कायरों ने ही इस क्रान्ति को विफल किया और अंग्रेजों द्वारा सहायता मांगने पर उन्होंने फिर से अपने बंधुओं पर प्रहार किया।
तो मित्रों अब यदि इन काले अंग्रेजों से आज़ादी चाहिए तो फिर से कोई स्वतंत्रता संग्राम छेड़ना होगा, कोई क्रान्ति को जन्म देना होगा। फिर से किसी को मंगल पण्डे बनना होगा, किसी को भगत सिंह तो किसी को सुभाष चन्द्र बोस बनना होगा। क्यों कि जीवन जीने के केवल दो हे तरीके इस देश में बचे हैं कि या तो जो हो रहा है उसे सहते रहो, शान्ति के नाम पर यथास्थिति बनाए रखो, और सब कूछ सहते सहते मर जाओ या फिर खड़े हो जाओ एक संकल्प के साथ और आवाज़ उठाओ अन्याय के विरुद्ध, फिर से खड़ी करो एक क्रान्ति, और केवल मै और मेरा पारिवार की विचारधारा से भार आकर मेरा राष्ट्र की विचारधारा को अपनाओ। किन्तु आज इस देश में यथास्थिति वाले लोग अधिक है। उन्ही से पूछना चाहूँगा कि क्या ये दिन देखने के लिये ही तुम्हारे पूर्वजों ने जीवन का बलिदान दिया था, क्या उनका त्याग व्यर्थ जाएगा, क्या आज तुम्हारे पूर्वजों को तुम प र गर्व होगा, क्या आने वाली पीढी को तुम पर गर्व होगा, क्या अपनी आने वाली पीढ़ी के लिये विरासत में तुम इन काले अंग्रेजों को छोड़ के जाओगे? आचार्य विष्णु गुप्त (चाणक्य) ने कहा था कि जितनी हानि इस राष्ट्र को दुर्जनों कि दुर्जनता से हुई है उससे कहीं अधिक हानि इस राष्ट्र को सज्जनों कि निष्क्रियता से हुई है। क्या आप सज्जन हमेशा निष्क्रीय ही बने रहेंगे? अब कोई भी यह पूछ सकता है कि हम क्या करें? मित्रों करने को बहुत कूछ है करने की इच्छा शक्ति होनी चाहिए। यदि आप में इच्छा शक्ति है, यदि आप में ज्ञान है तो आप खुद अपने लिये राह बना सकते हैं। चाणक्य ने मगध सम्राट धननंद के दरबार में उसे ही ललकारते हुए कहा था कि मेरे ज्ञान में अगर शक्ति है तो मै अपना पोषण कर सकने वाले सम्राटों का निर्माण स्वयं कर लूँगा।
वैसे तो आपको इन्टरनेट पे हजारो वेबसाइट मिल जायेंगे जहा पे आप फ्रीलान्स कंटेंट राइटर बन सकते है जैसे की कंटेंट मार्ट (ContentMart) और ट्रूलांसर (Truelancer) इत्यादि वेबसाइट है जहा पर आप एक कंटेंट राइटर की तरह काम कर सकते है आप किसी भी टॉपिक पर कंटेंट लिख सकते है इसके आप इन्टरनेट का भी सहारा ले सकते रिसर्च कर सकते है और जितना लम्बा कंटेंट लिखेंगे आपको उसी हिसाब से पैसे मिलेंगे तो ये भी एक तरीका है ऑनलाइन इंटरनेट से पैसे कमाने का.
×