हर कोई चाहता है की वो घर बेठ कर पैसे कमायें यदि आप भी ऐसा ही सोचते है तो ! आप घर पर बेठ कर काम करें और पैसे कमाना चाहें तो यह हो सकता है यदि आप स्टूडेंट है या हाउस वाइफ है या फिर अभी आप कोई काम करते नहीं और घर पर रहते है तो इस लेख के जरिये में आपको यही बताने जा रहा हूँ, की यदि आपके घर पर इन्टरनेट की सुविधा है तो आज आप एक बहुत अच्छा पैसा कमाने का तरीका मुझे से सिख के ही जायेंगे और इसमें सबसे अच्छी बात यह है की आपको इसमें कोई भी किसी भी प्रकार का पैसा नहीं लगाना पड़ेगा और न ही इसमें किसी प्रकार की तकनिकी जानकारी की जरुरत है बस  एक बार रोजाना कुछ समय निकाल के इन्टरनेट पर काम करना होगा और कुछ सरल कार्य करने होंगे इसमें आपको अंग्रेज़ी भाषा की अधिक जानकारी होना भी जरुरी नहीं है.
सुन तस्करीका घटना पछिल्लो समय वृद्धि हुँदै गएका छन् । यसमाथि सरकारले अनुसन्धान बढाउँदै लगेपछि नयाँ–नयाँ रहस्यहरु सतहमा आएका छन् । बढ्दो सुन तस्करीलाई आज कान्तिपुर दैनिक र नयाँ पत्रिकाले केलाएका छन् । ‘सुन तस्करीको लहरो’ शीर्षकको मूल समाचारमा कान्तिपुरले लेखेको छ– उच्च प्रहरी अधिकारीसहित २० जनालाई पक्राउ गरी अनुसन्धान गरिरहेको विशेष समितिले घटना खोतल्दै जाँदा संगठित जालो क्रमशः खुल्दै गइरहेको छ ।’
आपके पास थोड़ा ज्ञान होना चाहिए आप अपने आप इस जगह से सीखते चले जायेंगे और पैसे भी कमाते रहेंगे तो आज हम आपको internet se paise kamane ke tarike बताने जा रहे है जिनसे ज्यादा पैसा कमाया जा सकता है और इन तरीको को बहुत लोग इस्तेमाल कर रहे हैं. अगर आप किसी चीज में माहिर हो या थोड़ा बहुत भी ज्ञान है जैसे आप वेब डेवलपर हो, आपकी टाइपिंग स्पीड अच्छी, आप एक एक्टर या आप एक वोइस एक्टर हो, आप एनीमेशन बना सकते हो, आप लोगो डिजाइन कर सकते हो, आप पेंटिंग कर सकते हो, आप कुछ भी ऐसा कर सकते हो जो विशेष हो तो आपके लिए ऑनलाइन पैसा कमाने की वेबसाइट बताने जा रहे हैं जिनसे आप पैसे कमा सकते हैं.
Internet में आपको ऐसे बहुत सारे websites मिल जायेंगे, जहाँ लोग अपना online course लेते हैं. Udemy एक बेहतर platform है आपके knowledge को share करने का. यहाँ register करके आप अपने complete course video और documents के जरिये upload कर सकते है. फिर आपको उस cource की एक price set करना पड़ेगा. जो कोई भी आपका cource लेना चाहेगा, वो Udemy के जरिये payment करके जब और जहाँ चाहे उसे पढ़ पायेगा. Udemy कुछ commission रखके आपको आपका payment दे देता है.
यदि आप वेबडिजाइनिंग, लोगो डिजाइनिंग और वर्डप्रेस वेबसाइट को डेवलप करना जानते हैं, तो ओ डेस्क से अच्छी-खासी कमाई कर सकते हैं। यह एक ऐसा प्लेटफॉर्म है, जहां से आप जितना चाहें उतना पैसा कमा सकते हैं। यह वेबसाइट छोटे-छोटे कारोबारियों के लिए व्यक्तिगत डेवलपर्स और फ्रीलांसर को जोडऩे का काम करती है। इस वेबसाइट पर जाकर लॉगइन कर आप जॉब एग्रीमेंट करके पैसा कमा सकते हैं।
हेलो दोस्तों हर किसी के मन में एक यही सवाल चलता रहता है क्या अमीर कैसे बने हां तो दोस्तों आज मैं आपको बताऊंगा अमीर बनने के कुछ ऐसे तरीके जो फिर आप किसी से नहीं बोलोगे क्या अमीर कैसे बने अगर दोस्तों मेरे बताए हुए यह 3 नियम और 3 तरीके आजमाते हो तो आपको कोई भी अमीर बनने से नहीं रोक सकता दोस्तों अब आपको यह पूरा पोस्ट विस्तार से पढ़ना है ताकि आपके समझ में सब कुछ आ जाए
भारत की उभरती अर्थव्यवस्था ने कई ऐसे लोगों के सितारे बुलन्द किए, जो पहली बार बिजनेस में उतर रहे थे. आन्या गुप्ता ने उनसे लंबी बातचीत कर उनकी जिंदगियों का 'फर्स्ट पर्सन' ब्यौरा लिया और 'कैप्टनशिप 'नाम से किताब लिखी. ये सीरीज उन आत्मकथाओं का संक्षिप्त रूपांतर है. चित्र अनीता बालचंद्रन के हैं और प्रकाशन ब्लूम्सबरी का. मूल हिंदी अनुवाद भावना पांडेय का है.
आपके हिसाब से fear मतलब डर का favorite food कोनसा है ? author की मुताबिक डर का favorite food टाइम है।  जितना ज्यादा टाइम आप डर को provide करोगे उतना ही जयदा डर powerful बनता ही जायेगा।  एक example से समझाने की कोशिश करता हु , सोचिये आपको बाइक चलना सीखने में डर लगता है।  अगर मेरा accident हो गया तो और ठीक से चला नही पाया तो गिर कर चोट लग जाएगी।  कोई जरुरत नहीं कुछ दिन बाद सिख लूंगा।  अब जितना दिन गुजरेगा उतना ज्यादा डर आपका बढ़ता जायेगा  क्यों की डर को उसका favorite food टाइम जितना ज्यादा मिलेगा वो उतना  ही ज्यादा ही powerful होता जायेगा और आपको ये उतना ही ज्यादा कमजोर करता रहेगा। 
किन्तु आज भी अंग्रेजों के बनाए सभी क़ानून यथावत चल रहे हैं अंग्रेजों की चिकित्सा पद्धति यथावत चल रही है। और कूछ काम तो हमारे देश के नेताओं ने अंग्रेजों से भी बढ़कर किये। अंग्रेजों ने भारत को लूटने के लिये २३ प्रकार के टैक्स लगाए किन्तु इन काले अंग्रेजों ने ६४ प्रकार के टैक्स हम भारत वासियों पर थोप दिए। और इसी टैक्स को बचाने के लिये देश के लोगों ने टैक्स की चोरी शुरू की जिससे काला बाजारी जैसी समस्या सामने आई। मंत्रियों ने इतने घोटाले किये कि देश की जनता भूखी मरने लगी। भारत की आज़ादी के बाद जब पहली बार संसद बैठी और चर्चा चल रही थी राष्ट्र निर्माण की तो कई सांसदों ने नेहरु से कहा कि वह इंग्लैण्ड से वह उधार की राशी मांगे जो द्वितीय विश्व युद्ध के समय अंग्रेजों ने भारत से उधार के तौर पर ली थी और उसे राष्ट्र निर्माण में लगाए। किन्तु नेहरु ने कहा कि अब वह राशि भूल जाओ। तब सांसदों का कहना था कि इन्होने जो २०० साल तक हम पर जो अत्याचार किया है क्या उसे भी भूल जाना चाहिए? तब नेहरु ने कहा कि हाँ भूलना पड़ेगा, क्यों कि अंतर्राष्ट्रीय संबंधों में सब कूछ भुलाना पड़ता है। और तब यही से शुरुआत हुई सता की लड़ाई की और राष्ट्र निर्माण तो बहुत पीछे छूट गया था।

तो मित्रो इसका उत्तर यहाँ से मिलता है। उस समय अफ्रीका और लैटिन अमरीका तक व्यापार का काम दो देशों चीन और भारत से होता था। आप सब जानते ही होंगे कि अफ्रीका दुनिया का सबसे बड़ा स्वर्ण उत्पादक क्षेत्र रहा है और आज भी है। इसके अलावा अफ्रीका की चिकित्सा पद्धति भी अद्भुत रही है। सबसे ज्यादा स्वर्ण उत्पादन के कारण अफ्रीका भी एक बहुत अमीर देश रहा है। अंग्रेजों द्वारा दी गयी ४५० साल की गुलामी भी इस देश से वह गुण नहीं छीन पायी जो गुण प्रकृति ने अफ्रीका को दिया। अंग्रेजों ने अफ्रीका को न केवल लूटा बल्कि बर्बरता से उसका दोहन किया। भारत और अफ्रीका का करीब ३००० साल से व्यापारिक सम्बन्ध रहा है। भौगोलिक दृष्टि से समुद्र के रास्ते दक्षिण एशिया से अफ्रीका या लैटिन अमरीका जाने के लिये इंग्लैण्ड के पास से निकलना पड़ता था। तब इंग्लैण्ड वासियों की नज़र इन जहाज़ों पर पड़ गयी। और आप जानते होंगे कि इंग्लैण्ड में कूछ नही था, लोगों का काम लूटना और मार के खाना ही था, ऐसे में जब इन्होने देखा कि माल और सोने भरे जहाज़ भारत जा रहे हैं तो इन्होने जहाज़ों को लूटना शुरू किया। किन्तु अब उन्होंने सोचा कि क्यों न भारत जा कर उसे लूटा जाए।।। तब कूछ लोगों ने मिल कर एक संगठन खड़ा किया और वे इंग्लैण्ड के राजा रानी से मिले और उनसे कहा कि हम भारत में व्यापार करना चाहते हैं हमें लाइसेंस की आवश् यकता है। अब राज परिवार ने कहा कि भारत से कमाया गया धन राज परिवार, मंत्रिमंडल, संसद और अधीकारियों में भी बंटेगा। इस समझौते के साथ सन १७५० में थॉमस रो ईस्ट इण्डिया कम्पनी के नाम से जहांगीर के दरबार में पहुंचा और व्यापार करने की आज्ञा मांगी। और तब से १९४७ तक क्या हुआ है वह तो आप भी जानते है।


क्यूबर न केवल एक तेज रिचार्ज ऐप है बल्कि यह आपको अपने दोस्तों को इसे संदर्भित करके पक्ष में कमाता है। क्यूबर एक समृद्ध समुदाय बन जाता है जो आपको जीवनकाल में रॉयल्टी कमाता है, तब भी जब आप सक्रिय रूप से इसका उपयोग नहीं कर रहे हैं। यह सबसे बड़ा फायदा है और सरल है – ऐप को अपने मित्रों को देखें और कमाएं एक पूर्व निर्धारित नकद बैक दर संरचना के अनुसार, आपके मित्रों द्वारा किए जाने वाले किसी भी लेन-देन के लिए, आपको उस लेन-देन पर नकद वापस राशि मिलती है। यह दर 14 स्तर तक तय की जाती है, अर्थात् 14 वीं स्तर तक रेफरल के लिए, आप क्यूबर वॉलेट पैसे कमा सकते हैं। क्यूबर केवल रिचार्ज, यूटिलिटी बिल और शॉपिंग और कैशबैक सुविधाओं के साथ कैशबैक ऐप को देखें और कमाएं
×