नियन्त्रणमा परेका चारै जना गोरेको सहयोगी र भरियाको रुपमा विगतमा काम गरिसकेका थिए । सुन कहाँ छ भन्दै उनीहरुलाई यातना दिन थालियो । करेन्टको झड्का सहन नसकेर सनमको ज्यान गयो । अब गोरेलाई सुन खोज्ने मात्र होइन, सनमको शब ठेगान लगाउने जिम्मा पनि आइलाग्यो । यो बीचमा गोरे र महानगरीय प्रहरी अपराध अनुसन्धान महाशाखाका सई बालकृष्ण सञ्जलेबीच संवाद भइरहेको थियो । शव ठेगान लगाउने, सुन खोज्ने र यसवापत सइ सन्जेलले रकम पाउने सहमति भयो ।

ऐसा जरूरी नहीं है कि 8 घंटे की ऑफिस जॉब ही एक मात्र पैसे कमाने का तरीका है. अगर आपको लिखने का शौक है (ज्यादातर इंग्लिश) तो फ्रीलांस राइटिंग कर सकती हैं. आप मैगजीन और न्यूजपेपर आदि के लिए आर्टिकल लिख सकती हैं. मान लें कि आपको एक लेख के 200 रुपये मिलते है और आप एक दिन में 3 आर्टिकल लिख लेती हैं जो छपें, तो इस तरह आप 18,000 रुपये प्रति माह आराम से कमा सकती हैं.

यूट्यूब को इन्टरनेट की दुनिया में कोन नहीं जानता ये एक ऐसा प्लेटफार्म है जहा पर आप किसी भी तरह की जानकारी ले सकते हो विडियो की मदद से और वीडियोस को शेयर कर सकते हो अगर आपके पास कोई टैलेंट है जैसे सिंगिंग डांसिंग , कुछ भी टैलेंट हो तो आप यूट्यूब पे शेयर करके कर सकते है और लोगो तक अपने टैलेंट को आसानी से पोहचा सकते है इसके अलावा आप यूट्यूब पे ऑनलाइन पैसे (online paise) भी कमा सकते है विडियो को मोनेटाइज कर के.


मित्रों भारत को विश्व में सोने की चिड़िया कहा गया किन्तु एक बात सोचने वाली है कि यहाँ तो कोई सोने की खाने नहीं हैं फिर यहाँ विश्व का सबसे बड़ा सोने का भण्डार बना कैसे? यहाँ प्रश्न जरूर पैदा होते हैं किन्तु एक उत्तर यह मिलता है कि हम हमेशा से गरीब नहीं थे। अब जब भारत में सोना नहीं होता तो साफ़ है कि भारत में सोना आया विदेशों से। किन्तु हमने तो कभी किसी देश को नहीं लूटा। इतिहास में ऐसा कोई भी साक्ष्य नहीं है जिससे भारत पर ऐसा आरोप लगाया जा सके कि भारत ने अमुक देश को लूटा, भारत ने अमुक देश को गुलाम बनाया, न ही भारत ने आज कि तरह किसी देश से कोई क़र्ज़ लिया फिर यह सोना आया कहाँ से? तो यहाँ जानकारी लेने पर आपको कूछ ऐसे सबूत मिलेंगे जिससे पता चलता है कि कालान्तर में भारत का निर्यात विश्व का ३३% था। अर्थात विश्व भर में होने वाले कुल निर्यात का ३३% निर्यात भारत से होता था। हम ३५०० वर्षों तक दुनिया में कपडा निर्यात करते रहे क्यों की भारत में उत्तम कोटी का कपास पैदा होता था। तो दुनिता को सबसे पहले कपडा पहनाने वाला देश भारत ही रहा है। कपडे के बाद खान पान की अनेक वस्तुएं भारत दुनिया में निर्यात करता था क्यों कि खेती का सबसे पहले जन्म भारत में ही हुआ है। खान पान के बाद भारत में करीब ९० अलग अलग प्रकार के खनीज भारत भूमी से निकलते है जिनमे लोहा, ताम्बा, अभ्रक, जस्ता, बौक् साईट, एल्यूमीनियम और न जाने क्या क्या होता था। भारत में सबसे पहले इस्पात बनाया और इतना उत्तम कोटी का बनाया कि उससे बने जहाज सैकड़ों वर्षों तक पानी पर तैरते रहते किन्तु जंग नहीं खाते थे। क्यों की भारत में पैदा होने वाला लौह अयस्क इतनी उत्तम कोटी का था कि उससे उत्तम कोटी का इस्पात बनाया गया। लोहे को गलाने के लिये भट्टी लगानी पड़ती है और करीब १५०० डिग्री ताप की जरूरत पड़ती है और उस समय केवल लकड़ी ही एक मात्र माध्यम थी जिसे जलाया जा सके। और लकड़ी अधिकतम ७०० डिग्री ताप दे सकती है फिर हम १५०० डिग्री तापमान कहा से लाते थे वो भी बिना बिजली के? तो पता चलता है कि भारत वासी उस समय कूछ विशिष्ट रसायनों का उपयोग करते थे अर्थात रसायन शास्त्र की खोज भी भारत ने ही की। खनीज के बाद चिकत्सा के क्षेत्र में भी भारत का ही सिक्का चलता था क्यों कि भारत की औषधियां पूरी दुनिया खाती थी। और इन सब वस्तुओं के बदले अफ्रीका जैसे स्वर्ण उत्पादक देश भारत को सोना देते थे। तराजू के एक पलड़े में सोना होता था और दूसरे में कपडा। इस प्रकार भारत में सोने का भण्डार बना। एक ऐसा देश जहाँ गाँव गाँव में दैनिक जीवन की लगभग सभी वस्तुएं लोगों को अपने ही आस पास मिल जाती थी केवल एक नमक के लिये उन्हें भारत के बंदरगाहों की तरफ जाना पड़ता था क्यों कि नमक केवल समुद्र से ही पैदा होता है। तो विश्व का एक इ तना स्वावलंबी देश भारत रहा है और हज़ारों वर्षों से रहा है और आज भी भारत की प्रकृती इतनी ही दयालु है, इतनी ही अमीर है और अब तो भारत में राजस्थान में बाड़मेर, जैसलमेर, बीकानेर में पेट्रोलियम भी मिल गया है तो आज भारत गरीब क्यों है और प्रकृति की कोई दया नहीं होने के बाद यूरोप इतना अमीर क्यों?
नई दिल्ली (जेएनएन)। आजकल कई ऐसे लोग हैं जो नौकरी के साथ-साथ घर बैठे पार्ट टाइम काम भी करना चाहते हैं। इससे उन्हें ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ती और कहीं आना-जाना भी नहीं पड़ता। इसी के चलते घर बैठे ऑनलाइन पैसे कमाने का तरीका काफी पॉपुलर हो रहा है। इंटरनेट पर आज कई ऐसे तरीके मौजूद हैं जो किसी को भी पैसे कमाने का मौकै देते हैं। आंकड़ों पर गौर किया जाए तो भारत और दूसरे देशों में 65,000 से ज्यादा लोग हर महीने ऑनलाइन जॉब के जरिए 10,000 से 40,000 रुपये तक कमा रहे हैं। ऐसे में हम आपको 9 ऐसे तरीके बताने जा रहे है जिसके जरिए आप घर बैठे कमाई कर सकते हैं।

शंकर जी हमारे देश में राहुल गांधी कोई अकेला नेता नहीं है जो हमें उसी पर निर्भर होना पड़े| हमें राहुल गांधी की जरुरत नहीं है, हमें तो जरुरत है आप जैसे देश भक्तों की जो देश के लिये समर्पण का भाव रखते हैं, जो देश के इतिहास पर गर्व करते हैं, उसकी संस्कृती पर गर्व करते हैं, उसकी शक्ति पर गर्व करते हैं| केवल राहुल ही एक अकेला रास्ता नहीं है, यह देश इतना शक्तिशाली है कि खुद अपने लिये नए और उपयुक्त रास्ते बना सकता है| सबसे बड़ी शक्ति आवाम की है, आवाम खुद इतनी बड़ी शक्ति है कि बड़ी से बड़ी सत्ता को उखाड़ कर फेंक सकती है, बड़ी से बड़ी व्यवस्था को बदल सकती है| दुःख है तो बस इस बात का कि यह शक्ति बिखरी हुई है| जिस दिन यह शक्ति संगठित हो जाएगी तो जिस तरह अंग्रेज भागे थे हमारा देश छोड़ कर इन काले अंग्रेजो को भी हम देश से निकाल कर बाहर फेंक देंगे| जरुरत बस एक होने की है| आप और हम राष्ट्र आराधन करते रहें तो यह भी संभव है|
Internet से पैसे कमाने के लिए मैं जितने भी ऊपर Website बताई है | वह सब Real Payment करेगीं | अगर fake Website होती तो वह ज्यादा दिन तक नही चलती | और यह सब कई सालो से चलती आ रही है | Fraud Website 1-2 के अन्दर बंद हो जाती है | बाकी आप इन Website के terms पढ़कर उसके बारे में पता लगा सकते है, कि यह site कब से काम कर रही है | By The Way अगर आपको पोस्ट पसंद आये, तो जरुर share करें |
आयकर विभाग ने नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई)से जुड़े दो ब्रोकरों के ठिकाने पर छापे मारे। यह कार्रवाई एनएसई के सर्वर में कथित तौर पर प्राथमिकता पाने (को-लोकेशन) से जुड़े बहुचर्चित मामले में कुछ इकाइयों और लोगों के खिलाफ कर चोरी के सिलसिले में की गई है। अधिकारियों ने गुरुवार को बताया कि यह छापेमारी दिल्ली और मुंबई में बुधवार से जारी हैं। अभी तक विभाग ने इस कार्रवाई में कई दस्तावेज और कंप्यूटर सामग्री जब्त की है। ओपीजी सिक्युरिटीज के संजय गुप्ता के अलावा एनएसई के पूर्व एमडी रवि नारायण, चित्रा रामकृष्ण और सुप्रभात लाला के ठिकानों पर भी छापेमारी की कार्रवाई हुई । हालांकि, नारायण ने इससे इनकार किया है। 
सामान बेचने के लिए आपको थोडा Marketing Skill सीखना पड़ेगा (जिससे आप अपने items को औरों से अच्छा बता सकते हैं). इसके विषय में आपको internet से जानकारी प्राप्त हो सकती है. यहाँ पर आपको दुसरे seller को थोडा study करना होगा की वो किस प्रकार से अपने चीज़ों के विषय में लिखते हैं, क्या price रखते हैं और कैसे उन चीज़ों का promotion करते हैं. इससे आप अपने brand की value को भी बढ़ा सकते हैं. इस काम में आप अपने friends और relatives की भी सहायता ले सकते हैं और उनसे पुरानी चीज़ें collect कर सकते हैं.
इनमें से जो सबसे ज्यादा Famous हैं वो हैं Blogging और दूसरा है Youtube से पैसे कमाना उसे Monitize कर के. क्या आपने कभी ये सोचा की Youtube के Personalities क्यूँ अपने channel को Full Time Job की तरह Treat करते हैं? इसके जवाब बिलकुल आसान है क्यूंकि वो अपने Youtube Channel से अच्छा पैसे कमाते हैं. तो अब आप सोच रहे होंगे की आखिर कैसे वो ऐसा कर पाते हैं जो घबराये नहीं क्यूंकि आज में आप लोगों को यूट्यूब से पैसे कैसे कमाए के बारे में बताने वाला हूँ जिससे की आप भी Online अच्छा पैसा कमा सकते हैं. तो फिर देरी किस बात की चलिए शुरू करते हैं और जानते हैं की Youtube से पैसे कमाने का तरीका in Hindi.
2) Affiliate Marketing: ये होता है, दुशरो को चीजों को sell करने में मदद करना. जब आप online बिकने वाला कोई product को sell करने में मदद करते है, तो वो seller आपको commission देता है. आप बड़े बड़े e-commerce websites जैसे Flipkart, Amazon या फिर कोई hosting company के product को sell करवा के अच्छा खासा income कर सकते है. आप affilate marketing में Advertising से ज्यादा पैसे कमा सकते है.

श्री दिवस दिनेश गौड़ जी को बहुत बहुत बधाई. आपने कुछ पराग्राफो में पूरा इतिहास (सच्चा इतिहास) लिख दिया है. यह वास्तविक सत्य है की हमारे देश में सच्चा इतिहास कभी पढाया नहीं जाता है. जो इतिहास पढाया जाता है वोह अंग्रजो द्वारा approved है. कहते है — दूध का जला —— —–. जब हमारे देश के लोगो को इतिहास नहीं पता होगा तो उनके खून में उबाल कहाँ से आएगा. फिर से गौड़ जी को धन्यवाद.

क्यूबर न केवल एक तेज रिचार्ज ऐप है बल्कि यह आपको अपने दोस्तों को इसे संदर्भित करके पक्ष में कमाता है। क्यूबर एक समृद्ध समुदाय बन जाता है जो आपको जीवनकाल में रॉयल्टी कमाता है, तब भी जब आप सक्रिय रूप से इसका उपयोग नहीं कर रहे हैं। यह सबसे बड़ा फायदा है और सरल है – ऐप को अपने मित्रों को देखें और कमाएं एक पूर्व निर्धारित नकद बैक दर संरचना के अनुसार, आपके मित्रों द्वारा किए जाने वाले किसी भी लेन-देन के लिए, आपको उस लेन-देन पर नकद वापस राशि मिलती है। यह दर 14 स्तर तक तय की जाती है, अर्थात् 14 वीं स्तर तक रेफरल के लिए, आप क्यूबर वॉलेट पैसे कमा सकते हैं। क्यूबर केवल रिचार्ज, यूटिलिटी बिल और शॉपिंग और कैशबैक सुविधाओं के साथ कैशबैक ऐप को देखें और कमाएं
×