यह एक और सबसे अच्छा ऑनलाइन व्यवसाय है जो किसी को भी शुरू कर सकते है. वहाँ की तरह कई स्वतंत्र साइटों रहे हैं Upwork, Fiverr, फ्रीलांसर जहां आप एक स्वतंत्र और बोली परियोजनाओं के रूप में शामिल हो सकते हैं. लेकिन अगर आप एक क्षेत्र पर कुछ विशेष कौशल की आवश्यकता है. सबसे फ्रीलांसरों और अधिक परियोजनाओं को पाने के लिए इतने सारे कौशल का उल्लेख है, लेकिन इस तरह से वे ठेके ढीला. बस क्या तुम नहीं, अपने प्रासंगिक sills में विशेषज्ञता रहे हैं उल्लेख.
11. ऑनलाइन बिक्रीः ऐसे कई लोग हैं जो अपने प्रॉडक्ट को ईबे, अमेजन, फ्लिपकार्ट जैसी बड़ी शॉपिंग वेबसाइट्स पर बेचकर लाखों कमा रहे हैं. आपको सिर्फ एक अच्छा प्रॉडक्ट चाहिए, इसके बाद ऐसी किसी भी साइट पर साइनअप करें, अपने प्रॉडक्ट को प्राइस के साथ लिस्ट करें और बेचना शुरू कर दें. आपको किसी से बात करने की भी जरूरत नहीं. आपको ऑर्डर मेलबॉक्स के जरिए मिल जाएगा और कुरियर कंपनी के जरिए उसे डिलिवर कर दें, बस.
मित्रों मै जानता हूँ कि ये लेख कूछ अधिक लम्बा हो गया है और इसमें लिखी गयी सभी बातों को आप भी जानते होंगे, किन्तु फिर भी इन सब बातों को एक साथ पिरो कर आपके सामने लाना जरूरी था क्यों कि कूछ राष्ट्र विरोधी शक्तियां चर्चा के समय बहुत से ऊट पटांग सवाल कर सकती हैं, तथ्यों की मांग उनकी तरफ से होती रहती है, जहाँ तक हो सकता था मैंने बहुत कूछ लिख देने की कोशिश की है, इस लिये मैंने पूरा इतिहास ही लिख डाला। अब भी यदि किसी तथ्य की आवश्यकता है तो हम पुराने समय में नहीं जा सकते कि सब कूछ आप को सीधा प्रसारण दिखा सकें। आशा करता हूँ कि सभी प्रश्नों के उत्तर आपको मिल जाएंगे और फिर भी कूछ रह जाए तो मै उत्तर देने के लिये प्रस्तुत हूँ।
अगर आप crorepati बनना चाहते है तोह ऑनलाइन बिज़नेस आपके लिए बहुत ही ज्यादा फायदेमंद सावित हो सकता है,आप अपना नेटवर्क पूरी दुनिया में फेला सकते हो,आप अपने प्रोडक्ट को पूरी दुनिया में बेच सकते हो,या फिर मेरे पास एक बहुत ही अच्छा रास्ता है,आप ऑनलाइन पर अपनी वेबसाइट बनाकर article लिखकर बहुत अच्छा पैसा कमा सकते है,और अपनी वेबसाइट में advertisement डालकर कुछ सालो में crorepati बन सकते है,में जल्द ही इसकी पूरी जानकारी आपको देने के लिए अपनी वेबसाइट में पोस्ट डालने वाला हु.
बहुत-से लोग तो यह तक दावा करते हैं कि सफलता की सीढ़ी चढ़ने के लिए बेईमानी करना ज़रूरी है। एक अनुभवी बिज़नेसमैन कहता है: “लोग एक-दूसरे से आगे निकलना चाहते हैं इसलिए कहते हैं, ‘काम पूरा करने के लिए मैं कुछ भी करने को तैयार हूँ, किसी भी हद तक जाने को तैयार हूँ।’” लेकिन क्या यह सोच सही है? या फिर जो बेईमानी को जायज़ ठहराते हैं, वे ‘झूठी दलीलों से खुद को धोखा दे रहे हैं’? (याकूब 1:22) आइए देखें कि ईमानदारी दिखाने के क्या फायदे होते हैं। (g12-E 01)

अच्छी तरह से संरक्षित शहर एक चट्टानी रिज पर बैठता है। इसकी छः किलोमीटर की दीवार की दीवार के भीतर सुंदर लाल बलुआ पत्थर से बने विस्तृत नक्काशीदार संरचनाओं का एक कॉर्नुकोपिया है। इनमें भारत की सबसे बड़ी मस्जिदों में से एक, तीन महल और अन्य प्रारंभिक मुगल संरचनाएं शामिल हैं, जो मुस्लिम और हिंदू वास्तुकला दोनों प्रभावों का प्रदर्शन करती हैं। यह त्याग किया हुआ शहर अभी भी अपने महलों और अदालतों की वायुमंडलीय सुंदरता के कारण कई आगंतुकों को आकर्षित करता है।
मित्रों आज़ादी के बाद भारत में भ्रष्टाचार तो इतना बढ़ा कि मधु कौड़ा जैसे मुख्यमंत्री ने झारखंड का मुख्यमंत्री बनकर केवल दो साल में ५६०० करोड़ की संपत्ति स्विस बैंक में जमा करवा दी। जब मधु कौड़ा जैसा मुख्यमंत्री केवल दो साल में ५६०० करोड़ रुपये भारत के एक गरीब राज्य से लूट सकता है तो ६३ सालों से सत्ता में बैठे काले अंग्रेजों ने इस अमीर देश से कितना लूटा होगा? ऐसे ही थोड़े ही राजीव गांधी ने कहा था कि जब मै एक रूपया देश की जनता को देता हूँ तो जनता तक केवल १५ पैसे पहुँचते हैं। कूछ समय पहले उत्तर प्रदेश के एक आईएएस अधिकारी अखंड प्रताप सिंह के घर जब इन्कम टैक्स का छापा पड़ा तो उनके घर से ४८० करोड़ रुपये मिले। पूछताछ में अखंड प्रताप सिंह ने बताया कि ऐसे मेरे १९ घर और हैं। और इस प्रकार से ये पैसा पहुंचता है स्विस बैंक।

7 इसलिए, खुद को परमेश्‍वर के अधीन करो, मगर शैतान* का सामना करो और वह तुम्हारे पास से भाग जाएगा। 8 परमेश्‍वर के करीब आओ और वह तुम्हारे करीब आएगा। अरे पापियो, अपने हाथ धोओ, अरे दुचित्ते लोगो, अपने दिलों को शुद्ध करो। 9 अपनी दुर्दशा पर मातम करो और रोओ। तुम्हारी हँसी मातम में और तुम्हारी खुशी उदासी में बदल जाए। 10 यहोवा की नज़रों में खुद को नम्र करो और वह तुम्हें ऊँचा करेगा।
और आज इन्ही काले अंग्रेजों की संताने आज हम पर शाशन कर रही हैं। वरना क्या वजह है कि मध्य प्रदेश के इंदौर शहर में नयी दुनिया नामक एक अखबार की पुस्तक का विमोचन करने पहुंचे चिताम्बरम ने यह कहा कि भारत तो हज़ारों वर्षों से भयंकर गरीब देश है। और इन्ही काले अंग्रेजों की एक और संतान हमारे प्रधान मंत्री जी हैं। जब ये प्रधान मंत्री बनने के बाद पहली बार ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय गए तो वहां उन्हà ��ंने कहा कि भारत तो सदियों से गरीब देश रहा है, ये तो भला हो अंग्रेजों का जिन्होंने आकर हमें अँधेरे से बाहर निकाला, हमारे देश में ज्ञान का सूरज लेकर आये, हमारे देश का विकास किया आदि आदि। अगले दिन लन्दन के सभी बड़े बड़े अखबारों में हैडलाइन छपी थी की भारत शायद आज भी मानसिक रूप से हमारा गुलाम है। और ये वही काले अंग्रेज हैं जो खुद तो देश का पैसा स्विस बैंक में जमा करते गए किन्तु गुजरात जैसे प्रदेश में भी विकास करने वाले नरेन्द्र भाई मोदी पर पता नहीं क्या क्या घटिया आरोप लगाते रहे। मानसिक गुलामी की बाढ़ इतनी आगे बढी कि हमारा मीडिया भी उसमे गोते खाने लगा। देश पर २०० साल तक राज़ करने वाली ईस्ट इण्डिया कम्पनी को एक भारतीय उद्योगपति संजीव मेहता ने १५० लाख डॉलर मूल्य देकर खरीद लिया, जिस कम्पनी ने भारत को २०० साल गुलाम बनाया वह कम्पनी आज एक भारतीय की गुलाम हो गयी है, किन्तु देश के किसी भी चैनल पर इसे नहीं देखा गया क्यों कि हमारा टीआरपी पसाद मीडिया तो उस समय सानिया शोएब की कथित प्रेम कहानी को कवर करने में बिजी था न, उस समय देश से ज्यादा शायद ये दो प्रेम के पंछी मीडिया के लिये जरूरी थे।
आज के समय में एफिलिएट मार्केटिंग (Affiliate Marketing) काफी ज्यादा पोपुलर हो रहा है लोग इससे काफी अच्छा पैसा कमा रहे है अगर आप किसी के प्रोडक्ट को बेचते है ऑनलाइन तो इसके लिए आपको काफी अच्छा कमिसन मिल जाता है अगर आपका कोई वेबसाइट है या ब्लॉग है तो आप उनके प्रोडक्ट को ऑनलाइन सेल करके काफी अच्छा पैसा कमा सकते है लेकिन इसके लिए आपके ब्लॉग  वेबसाइट या यूट्यूब चैनल होना जरुरी है जिसे पर रोजाना हजारो लोग आये आपके दुवारा प्रमोट किये गए प्रोडक्ट को ख़रीदे तभी आपको उस पर कमिसन मिलेगा
फ्रीलांसिंग वर्क ऐसा कार्य है जिसमे काम करने की पूरी आजादी होती हैं | ना कोई ऑफिस न कोई समय सीमा ना ही कोई वर्क प्रेशर | आप जब चाहें, जैसा चाहें, जहाँ चाहें और जितना चाहें काम करें आपको उसके हिसाब से पैसा मिलता हैं |  अगर आप कहीं नौकरी कर रहें है तो भी पार्टटाइम यह काम कर सकते हैं या अगर आप कहीं नौकरी नहीं भी कर रहें है तो फुल टाइम काम करके इससे पैसा कमा सकते हैं |
ऑनलाइन वर्क को लेकर जालसाजों की संख्या बढ़ती जा रही है। ये जालसाज पैसे देने का वादा कर ऑनलाइन काम तो करा लेते हैं, लेकिन पैसे नहीं देते हैं। ऐसे जालसाजों से सावधान रहने की नसीहत देते हुए आपको ऑनलाइन वर्क करके कमाई करन बता रह है। www.odesk.com और www.elance.com . जैसी साइट ऑनलाइन कमाई के मामले में दुनिया भर में फेमस साइटों में भी शामिल है। इन दोनों साइटों में सबसे पहले आपको टेस्ट देकर खुद को साइट के लिए यूजफुल साबित करना होता है। एक बार रजिस्टर होने के बाद आप साइट अलग-अलग काम के लिए मेंबर्स को कॉन्ट्रेक्ट और फ्रीलांसर के रूप में हायर करती है। काम पूरा होने पर प्रति घंटा या अन्य तरीकों से पैसा देती है। दुनिया भर में कई वेबसाइट ऐसा करती हैं।
इन रिकॉर्ड्स में मेडिकल हिस्ट्री व फिजिकल रिपोर्ट, क्लिनिक रिपोर्ट, ऑफिस नोट्स, ऑपरेटिव नोट्स, कंसल्टेशन नोट्स, डिस्चार्ज समरी, मनोचिकित्सक आकलन, पैथोलॉजी-लैब रिपोर्ट व एक्सरे रिपोर्ट(Medical History, Physical Report, Clinical Report, Office Notes, Operative Notes, Consultation Notes, Discharge Summary, Psychiatrist Assessment, Pathological and Lab Reports and X-Ray Reports) इत्यादि शामिल हैं।
दीपिका की रिश्ते की बहन सुनयना कुरुविल्ला ने दूसरे एकल में जे लोक हो को हराकर भारत को मुकाबले में बनाए रखा था। खेलों में पदार्पण कर रही सुनयना मैच में पहले दो गेम गंवा चुकी थी और फिर पांचवें और निर्णायक गेम में भी 7-10 से पीछे थी लेकिन रैफरी के कुछ विवादास्पद फैसलों के बावजूद उन्होंने हार नहीं मानी। सुनयना ने अंतिम अंक तक संघर्ष करते हुए जे लोक हो को 5-11, 13-15, 11-6, 11-9, 14-12 से हराकर अपने करियर की सबसे बड़ी जीत दर्ज की। टेबल टेनिस में कॉमनवेल्थ गेम्स के गोल्ड मेडल विजेता अचंत शतर कमल और मनिका बत्रा ने एकल स्पर्धाओं के प्री-क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई। दोनों ने कल मिश्रित युगल में ऐतिहासिक गोल्ड मेडल जीता था।
Make Money in Hindi : यह आसानी से हो जाता है। जीवनयापन की खातिर आपको नौकरी की ज़रूरत होती है; हम सबको होती है। नौकरी आपका बहुत सारा वक्त तथा ऊर्जा खा जाती है। आपके पास यह सोचने की फुरसत या शक्ति ही नहीं बचती है कि आप ज़्यादा पैसे कमाने के लिए इससे अलग या बेहतर क्या कर सकते हैं। हममें से ज़्यादातर लोग अपने वित्तीय मामलों को भूलने के दोषी हैं। सच कहा जाए तो हमारे पास जो ख़ाली समय होता है, उसे हम बहुत क़ीमती मानते है। हमें लगता है कि उस बेशक़ीमती वक्त में अपनी वित्तीय स्थिति का विश्लेषण करने या जीवन/कैरियर परिवर्तन की योजना बनाने के बजाय (जो हमें बहुत पहले ही कर लेना चाहिए था) हम ज़्यादा रोचक और रोमांचक काम कर सकते हैं।
उत्पादों की बिक्री पिछले एक सरल और आसान ऑनलाइन व्यापार विचार है. आप अपने उत्पादों के साथ ही अन्य लोगों को बेच सकते हैं. बस आप थोक विक्रेताओं के साथ अच्छा कनेक्शन की आवश्यकता है. आप सस्ती कीमत के साथ बहुत में खरीदने के लिए और ईबे की तरह अलग अलग साइटों पर बेच सकते हैं, वीरांगना, एक उच्च मूल्य के साथ स्नैपडील. आप इस के लिए अपनी खुद की वेबसाइट की जरूरत नहीं. इस तरह, आप अंतरराष्ट्रीय बाजार में उत्पादों को बेचने और दुनिया भर के ग्राहकों के साथ संबंध बना सकते हैं.

3 मेरे भाइयो, हम में से बहुत लोग शिक्षक न बनें, क्योंकि हम जानते हैं कि हम और भी कठोर दंड पाएँगे। 2 इसलिए कि हम सब कई बार गलती करते हैं।* अगर कोई बोलने में गलती नहीं करता, तो वह सिद्ध इंसान है और अपने पूरे शरीर को भी काबू में रख सकता है।* 3 हम घोड़े के मुँह में लगाम लगाते हैं ताकि वह हमारा कहना माने और इससे हम उसके पूरे शरीर को भी काबू में कर पाते हैं। 4 ध्यान दो! पानी के जहाज़ भी हालाँकि इतने बड़े होते हैं और तेज़ हवाओं से चलाए जाते हैं, फिर भी एक छोटी-सी पतवार के ज़रिए नाविक अपनी मरज़ी के मुताबिक जहाँ चाहे वहाँ उन्हें ले जा सकता है।


सन १८३४ में अंग्रेज अधिकारी मैकॉले का भारत में आगमन हुआ। उसने अपनी डायरी में लिखा है कि ”भारत भ्रमण करते हुए मैंने भारत में एक भी भिखारी और एक भी चोर नहीं देखा। क्यों कि भारत के लोग आज भी इतने अमीर हैं कि उन्हें भीख मांगने और चोरी करने की जरूरत नहीं है और ये भारत वासी आज भी अपना घर खुला छोड़ कर कहीं भी चले जाते हैं इन्हें तालों की भी जरूरत नहीं है।” तब उसने इंग्लैण्ड जा कर कहा कि भार त को तो हम लूट ही रहे हैं किन्तु अब हमें कानूनन भारत को लूटने की नीति बनानी होगी और फिर मैकॉले के सुझाव पर भारत में टैक्स सिस्टम अंग्रेजों द्वारा लगाया गया। सबसे पहले उत्पादन पर ३५०%, फिर उसे बेचने पर ९०% । और जब और कूछ नहीं बचा तो मुनाफे पर भी टैक्स लगाया गया। इस प्रकार अंग्रजों ने भारत पर २३ प्रकार के टैक्स लगाए।

मित्रों भारत को विश्व में सोने की चिड़िया कहा गया किन्तु एक बात सोचने वाली है कि यहाँ तो कोई सोने की खाने नहीं हैं फिर यहाँ विश्व का सबसे बड़ा सोने का भण्डार बना कैसे? यहाँ प्रश्न जरूर पैदा होते हैं किन्तु एक उत्तर यह मिलता है कि हम हमेशा से गरीब नहीं थे। अब जब भारत में सोना नहीं होता तो साफ़ है कि भारत में सोना आया विदेशों से। किन्तु हमने तो कभी किसी देश को नहीं लूटा। इतिहास में ऐसा कोई भी साक्ष्य नहीं है जिससे भारत पर ऐसा आरोप लगाया जा सके कि भारत ने अमुक देश को लूटा, भारत ने अमुक देश को गुलाम बनाया, न ही भारत ने आज कि तरह किसी देश से कोई क़र्ज़ लिया फिर यह सोना आया कहाँ से? तो यहाँ जानकारी लेने पर आपको कूछ ऐसे सबूत मिलेंगे जिससे पता चलता है कि कालान्तर में भारत का निर्यात विश्व का ३३% था। अर्थात विश्व भर में होने वाले कुल निर्यात का ३३% निर्यात भारत से होता था। हम ३५०० वर्षों तक दुनिया में कपडा निर्यात करते रहे क्यों की भारत में उत्तम कोटी का कपास पैदा होता था। तो दुनिता को सबसे पहले कपडा पहनाने वाला देश भारत ही रहा है। कपडे के बाद खान पान की अनेक वस्तुएं भारत दुनिया में निर्यात करता था क्यों कि खेती का सबसे पहले जन्म भारत में ही हुआ है। खान पान के बाद भारत में करीब ९० अलग अलग प्रकार के खनीज भारत भूमी से निकलते है जिनमे लोहा, ताम्बा, अभ्रक, जस्ता, बौक् साईट, एल्यूमीनियम और न जाने क्या क्या होता था। भारत में सबसे पहले इस्पात बनाया और इतना उत्तम कोटी का बनाया कि उससे बने जहाज सैकड़ों वर्षों तक पानी पर तैरते रहते किन्तु जंग नहीं खाते थे। क्यों की भारत में पैदा होने वाला लौह अयस्क इतनी उत्तम कोटी का था कि उससे उत्तम कोटी का इस्पात बनाया गया। लोहे को गलाने के लिये भट्टी लगानी पड़ती है और करीब १५०० डिग्री ताप की जरूरत पड़ती है और उस समय केवल लकड़ी ही एक मात्र माध्यम थी जिसे जलाया जा सके। और लकड़ी अधिकतम ७०० डिग्री ताप दे सकती है फिर हम १५०० डिग्री तापमान कहा से लाते थे वो भी बिना बिजली के? तो पता चलता है कि भारत वासी उस समय कूछ विशिष्ट रसायनों का उपयोग करते थे अर्थात रसायन शास्त्र की खोज भी भारत ने ही की। खनीज के बाद चिकत्सा के क्षेत्र में भी भारत का ही सिक्का चलता था क्यों कि भारत की औषधियां पूरी दुनिया खाती थी। और इन सब वस्तुओं के बदले अफ्रीका जैसे स्वर्ण उत्पादक देश भारत को सोना देते थे। तराजू के एक पलड़े में सोना होता था और दूसरे में कपडा। इस प्रकार भारत में सोने का भण्डार बना। एक ऐसा देश जहाँ गाँव गाँव में दैनिक जीवन की लगभग सभी वस्तुएं लोगों को अपने ही आस पास मिल जाती थी केवल एक नमक के लिये उन्हें भारत के बंदरगाहों की तरफ जाना पड़ता था क्यों कि नमक केवल समुद्र से ही पैदा होता है। तो विश्व का एक इ तना स्वावलंबी देश भारत रहा है और हज़ारों वर्षों से रहा है और आज भी भारत की प्रकृती इतनी ही दयालु है, इतनी ही अमीर है और अब तो भारत में राजस्थान में बाड़मेर, जैसलमेर, बीकानेर में पेट्रोलियम भी मिल गया है तो आज भारत गरीब क्यों है और प्रकृति की कोई दया नहीं होने के बाद यूरोप इतना अमीर क्यों?
सामान बेचने के लिए आपको थोडा Marketing Skill सीखना पड़ेगा (जिससे आप अपने items को औरों से अच्छा बता सकते हैं). इसके विषय में आपको internet से जानकारी प्राप्त हो सकती है. यहाँ पर आपको दुसरे seller को थोडा study करना होगा की वो किस प्रकार से अपने चीज़ों के विषय में लिखते हैं, क्या price रखते हैं और कैसे उन चीज़ों का promotion करते हैं. इससे आप अपने brand की value को भी बढ़ा सकते हैं. इस काम में आप अपने friends और relatives की भी सहायता ले सकते हैं और उनसे पुरानी चीज़ें collect कर सकते हैं.

12 सुखी है वह इंसान जो परीक्षा में धीरज धरे रहता है, क्योंकि परीक्षा में खरा उतरने पर वह जीवन का ताज पाएगा जिसका वादा यहोवा ने उनसे किया है जो उससे लगातार प्यार करते हैं। 13 जब किसी की परीक्षा हो रही हो तो वह यह न कहे: “परमेश्‍वर मेरी परीक्षा ले रहा है।” क्योंकि न तो बुरी बातों से परमेश्‍वर को परीक्षा में डाला जा सकता है, न ही वह खुद बुरी बातों से किसी की परीक्षा लेता है। 14 लेकिन हर कोई अपनी ही इच्छाओं से खिंचकर परीक्षाओं के जाल में फँसता है। 15 फिर इच्छा गर्भवती होती है और पाप को जन्म देती है, और जब पाप कर लिया जाता है तो यह मौत लाता है।
आयकर विभाग ने नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई)से जुड़े दो ब्रोकरों के ठिकाने पर छापे मारे। यह कार्रवाई एनएसई के सर्वर में कथित तौर पर प्राथमिकता पाने (को-लोकेशन) से जुड़े बहुचर्चित मामले में कुछ इकाइयों और लोगों के खिलाफ कर चोरी के सिलसिले में की गई है। अधिकारियों ने गुरुवार को बताया कि यह छापेमारी दिल्ली और मुंबई में बुधवार से जारी हैं। अभी तक विभाग ने इस कार्रवाई में कई दस्तावेज और कंप्यूटर सामग्री जब्त की है। ओपीजी सिक्युरिटीज के संजय गुप्ता के अलावा एनएसई के पूर्व एमडी रवि नारायण, चित्रा रामकृष्ण और सुप्रभात लाला के ठिकानों पर भी छापेमारी की कार्रवाई हुई । हालांकि, नारायण ने इससे इनकार किया है। 
Filed Under: Make Money Online Tagged With: earn money online free, earn money online from home, earn money online without investment, how to make money online without investment data entry, make money online, make money online free, make money online without investment, make money online without investment easy way, make money online without investment in hindi, ऑनलाइन पैसे कमाने का तरीका, घर बैठे पैसे कमाने के उपाय, घर बैठे बिजनेस, घर बैठे रोजगार, पैसा कमाने के आसान तरीके, पैसा कमाने के सरल उपाय
Mega Typers Website से घर बैठे-बैठे Online पैसा Income कैसे करें? यह भी एक Online Earn Money Website में से एक है | इस Website में आप घर बैठे-बैठे Online Typing Job कर सकते है | यह किसी भी प्रकार की fees नही लेती है | और ना ही कोई investment करना पड़ता है | Without Investment Online Earn Money Earn कर सकते है | इस site के अन्दर भी Captcha code solve किया जाता है | Mega Typers site से top Earning की बात करें, तो Per Month $100(Rs.6,000) To $250(Rs.15,000) तक Earn कर लेते है | New customer(user) को starting में $0.45 per 1000 Word Image Type` करने के मिलेगे | बाद में धीरे-धीरे उस उससे भी ज्यादा Earning मिलने लग जाती है | Earning Start करने के लिए Mega Typers Sign up करें
×