nice post apne bahut achi post daali hai. apki post se kafi logo ko ye pta chal hai ki scam ky hai or isse kese bach sakte hai. mere sath bhi do teen baar scam ho chuka hai. lekin pichle teen char saal se market me rahne k karan muje iski knowledge ho chuki h. ab me koi bhi kaam krta hu to kafi soch samaj ke dekh parkh kr ke kaam ko krta hai. me is post ko padhne wale k ek bolna chahunga ki koi bhi kaam kro to soch samaj ke kro. or khud ka faisla lo dusre ki baato m mat aao.
१३ वैशाख, काठमाडौं । आज बिहीबार, राजधानीबाट प्रकाशित राष्ट्रिय दैनिक पत्रिकाहरुको पहिलो प्राथमिकतामा आर्थिक विषय परेको छ । तथ्यांक विभागले सार्वजनिक गरेको आर्थिक तथ्यांकलाई आधार बनाउँदै देशको अर्थतन्त्रको समीक्षा गरेका छन् । पत्रपत्रिकाका अनुसार, प्रतिव्यक्ति आय १ लाख नाघेको छ । मुलुकको कुल ग्रार्हस्थ उत्पादन ३० खर्ब रुपैयाँमाथि पुगेपछि प्रतिव्यक्ति आम्दानी पनि त्यसैअनुसार बढेको हो ।
Bahut hi asa post dhali hei apne. Mere ku sas mei basa liya jeise hua hei. Kiuki me bhi captcha writing mei join kia tha.mei anjan tha isliye meine join kia. Meine signe kia photo bheja aur address prove ke leye driving license veja photo marke. Bad mei mere se sign liya sign online kor dia. Uske bad ju hua mere pasina sut geya. Mere sign sahit mere photo 100rupeye dalil mei agreement kia hua bhej dia. Me dor goyi kiuki mere pass peise nahi thi. Mere ku 4800 bharana huga jodi mei 10din mei captcha 10000sahi complete na kar saku. Meine nahi kia… Abhi mere ku advocate phone mei notice bhej raha he mei kia koru.. Ap ek upai dijiye… I like your blogs very much
तस्करीका मुख्य योजनाकार गोरे भनेर चिनिने चूडामणि उप्रेती हुन् । आफ्नो सुन हराएपछि उनले बनलाई नियन्त्रणमा लिएर धापासीस्थित थ्री मोटर्स ग्यारेजमा लगे । अनेक यातना पाएर ड्युटीमा फर्किएका बन अचानक २२ माघमा विमानस्थलभित्रै दुर्घटनामा मारिए । सिसिटिभी फुटेज भन्छ, ‘उताबाट उच्चगतिमा आइरहेको इन्धन ट्याङकरमुनि छिरेका बनले आत्महत्या गरेका हुन ।’ तर अनौठो, यो विषयमा विमानस्थल प्रशासन र प्रहरी संगठनले यो विषयमा गम्भीर अनुसन्धान गरेन । उनको मृत्युलाई सामान्य दुर्घटनाका रुपमा प्रहरी बुलेटिनबाट प्रचार गरियो ।

केंद्रीय कृषि मंत्री ने बताया कि उद्यम विकास का मार्ग प्रशस्त करने के लिए आरकेवीवाई के दिशा निर्देशों में परिवर्तन किया जा रहा है। कृषि, सहकारिता एवं किसान कल्याण विभाग ने 2017-18 तक 24 मिलियन टन दलहन उत्पादन करने की कार्य योजना तैयार कर ली है। प्रति बूंद अधिक फसल का लक्ष्य प्राप्त करने के लिए नाबार्ड ने 5000 करोड़ रुपये की प्रारंभिक धनराशि के साथ एक समर्पित सूक्ष्म सिंचाई कोष बनाया गया है।


तुरंत के इन फ़ैसलों के बाद आपको शेयर बाज़ार में अपने निवेश के तरीक़ों में बदलाव करना चाहिए. यह कुछ वक़्त के बाद भी किया जा सकता है. जैसे शेयर बाज़ार के ज़्यादा जोखिम वाले माहौल से पैसे निकालकर आप कम जोखिम वाले में निवेश कर सकते हैं. जैसे डेट फ़ंड या पेंशन फ़ंड या फिर सरकारी बॉन्ड्स में निवेश किया जा सकता है. इन पर बाज़ार की गिरावट का असर कम पड़ता है.
Times bull India Leading Hindi News portal brings you News in Hindi, न्यूज़ इन हिन्दी, Latest News, Current News in hindi, National News, International News, Sports News, Bollywood News in hindi, News in Hindi, State News, Religion News,Hindi News, Political News, Top News in hindi, Local News in hindi, News Today, Weird news, Astrology news, business news, sports news, lifestyle news
दोस्तों आप जो भी नौकरी या फिर कोई काम कर रहे हो उसको कभी मत छोड़ो उसके साथ-साथ कुछ और करने की हिम्मत रखो दोस्तों अगर आप अपने काम के साथ-साथ 1 से 2 घंटे कोई और काम करते हैं तो आपको बहुत ज्यादा बचत होगी वह काम क्या होंगे मैं आपको बताऊंगा दोस्तों मान लीजिए आप दिन में 8 घंटे ड्यूटी करते हैं जैसे कि अगर आप सुबह 8:00 बजे ड्यूटी पर जाते हैं शाम 5:00 बजे घर वापस आते हैं
पद्मावत चित्रपट प्रदर्शनास विरोध पाहता नागरिकांची गर्दी उसळण्याची शक्यता आहे. वाहनांच्या वर्दळीमुळे वाहतुकीची कोंडी होण्याची शक्यता आहे. त्यादृष्टीने शांतता व सुव्यवस्था राखण्याच्या दृष्टीने व नागरिकांच्या सुरक्षेच्या दृष्टीने २५ जानेवारी रोजी संबंधित चित्रपटगृहासमोरील मार्गावरील वाहतुकीत गरजेनुसार बदल करण्यात येणार आहे. त्यामुळे नागरिकांनी सहकार्य करावे, असे आवाहन वाहतूक शाखेचे पीआयअर्जुन ठोसरे यांनी केले.
ऑनलाइन रिसर्च: युवा अपना अधिकतर समय इंटरनेट पर बिताते हैं, ऐसे में क्यों न इसे अपना काम की चीज ही बना लें। हालांकि ऑनलाइन रिसर्च का काम सुनने में बड़ा बोरिंग लगता है लेकिन इससे आपको अच्छी कमाई के साथ कई विषयों के बारे में जानकारी पाने का अवसर भी मिलता है। आप इसके लिए बिजनेस या मीडिया हाउसेस या फिर किसी कंपनी में काम कर सकते हैं। अधिकतर समय यह काम घर से भी किया जा सकता है।
यह एप आपको ऑनलाइन दुनिया से ऑफलाइन दुनिया में ले जाता है. यह एप आपको उन रेस्टोरेंट्स और स्पा में जाने को कहता है जो इस एप के साथ साझेदार हैं. जब आप उनके द्वारा कहे जगह पर खाना खाने, शॉपिंग करने, मूवी देखने जाते हैं तो आपको अपने बिल की फोटो अपलोड करना होता है जिससे आपको कैशबैक मिलता है. जैसे ही आप बिल अपलोड करेंगे तब आपको कुछ कैशबैक मिलेगा जिसका उपयोग कर आप नई मूवी देखने या ऑनलाइन शॉपिंग में कर सकते हैं.
Internet में आपको ऐसे बहुत सारे websites मिल जायेंगे, जहाँ लोग अपना online course लेते हैं. Udemy एक बेहतर platform है आपके knowledge को share करने का. यहाँ register करके आप अपने complete course video और documents के जरिये upload कर सकते है. फिर आपको उस cource की एक price set करना पड़ेगा. जो कोई भी आपका cource लेना चाहेगा, वो Udemy के जरिये payment करके जब और जहाँ चाहे उसे पढ़ पायेगा. Udemy कुछ commission रखके आपको आपका payment दे देता है.
मित्रों भारत को विश्व में सोने की चिड़िया कहा गया किन्तु एक बात सोचने वाली है कि यहाँ तो कोई सोने की खाने नहीं हैं फिर यहाँ विश्व का सबसे बड़ा सोने का भण्डार बना कैसे? यहाँ प्रश्न जरूर पैदा होते हैं किन्तु एक उत्तर यह मिलता है कि हम हमेशा से गरीब नहीं थे। अब जब भारत में सोना नहीं होता तो साफ़ है कि भारत में सोना आया विदेशों से। किन्तु हमने तो कभी किसी देश को नहीं लूटा। इतिहास में ऐसा कोई भी साक्ष्य नहीं है जिससे भारत पर ऐसा आरोप लगाया जा सके कि भारत ने अमुक देश को लूटा, भारत ने अमुक देश को गुलाम बनाया, न ही भारत ने आज कि तरह किसी देश से कोई क़र्ज़ लिया फिर यह सोना आया कहाँ से? तो यहाँ जानकारी लेने पर आपको कूछ ऐसे सबूत मिलेंगे जिससे पता चलता है कि कालान्तर में भारत का निर्यात विश्व का ३३% था। अर्थात विश्व भर में होने वाले कुल निर्यात का ३३% निर्यात भारत से होता था। हम ३५०० वर्षों तक दुनिया में कपडा निर्यात करते रहे क्यों की भारत में उत्तम कोटी का कपास पैदा होता था। तो दुनिता को सबसे पहले कपडा पहनाने वाला देश भारत ही रहा है। कपडे के बाद खान पान की अनेक वस्तुएं भारत दुनिया में निर्यात करता था क्यों कि खेती का सबसे पहले जन्म भारत में ही हुआ है। खान पान के बाद भारत में करीब ९० अलग अलग प्रकार के खनीज भारत भूमी से निकलते है जिनमे लोहा, ताम्बा, अभ्रक, जस्ता, बौक् साईट, एल्यूमीनियम और न जाने क्या क्या होता था। भारत में सबसे पहले इस्पात बनाया और इतना उत्तम कोटी का बनाया कि उससे बने जहाज सैकड़ों वर्षों तक पानी पर तैरते रहते किन्तु जंग नहीं खाते थे। क्यों की भारत में पैदा होने वाला लौह अयस्क इतनी उत्तम कोटी का था कि उससे उत्तम कोटी का इस्पात बनाया गया। लोहे को गलाने के लिये भट्टी लगानी पड़ती है और करीब १५०० डिग्री ताप की जरूरत पड़ती है और उस समय केवल लकड़ी ही एक मात्र माध्यम थी जिसे जलाया जा सके। और लकड़ी अधिकतम ७०० डिग्री ताप दे सकती है फिर हम १५०० डिग्री तापमान कहा से लाते थे वो भी बिना बिजली के? तो पता चलता है कि भारत वासी उस समय कूछ विशिष्ट रसायनों का उपयोग करते थे अर्थात रसायन शास्त्र की खोज भी भारत ने ही की। खनीज के बाद चिकत्सा के क्षेत्र में भी भारत का ही सिक्का चलता था क्यों कि भारत की औषधियां पूरी दुनिया खाती थी। और इन सब वस्तुओं के बदले अफ्रीका जैसे स्वर्ण उत्पादक देश भारत को सोना देते थे। तराजू के एक पलड़े में सोना होता था और दूसरे में कपडा। इस प्रकार भारत में सोने का भण्डार बना। एक ऐसा देश जहाँ गाँव गाँव में दैनिक जीवन की लगभग सभी वस्तुएं लोगों को अपने ही आस पास मिल जाती थी केवल एक नमक के लिये उन्हें भारत के बंदरगाहों की तरफ जाना पड़ता था क्यों कि नमक केवल समुद्र से ही पैदा होता है। तो विश्व का एक इ तना स्वावलंबी देश भारत रहा है और हज़ारों वर्षों से रहा है और आज भी भारत की प्रकृती इतनी ही दयालु है, इतनी ही अमीर है और अब तो भारत में राजस्थान में बाड़मेर, जैसलमेर, बीकानेर में पेट्रोलियम भी मिल गया है तो आज भारत गरीब क्यों है और प्रकृति की कोई दया नहीं होने के बाद यूरोप इतना अमीर क्यों?
यूट्यूब को इन्टरनेट की दुनिया में कोन नहीं जानता ये एक ऐसा प्लेटफार्म है जहा पर आप किसी भी तरह की जानकारी ले सकते हो विडियो की मदद से और वीडियोस को शेयर कर सकते हो अगर आपके पास कोई टैलेंट है जैसे सिंगिंग डांसिंग , कुछ भी टैलेंट हो तो आप यूट्यूब पे शेयर करके कर सकते है और लोगो तक अपने टैलेंट को आसानी से पोहचा सकते है इसके अलावा आप यूट्यूब पे ऑनलाइन पैसे (online paise) भी कमा सकते है विडियो को मोनेटाइज कर के.
×