वालिबॉल और सेपकटकरा जैसे खेलों में भारत का खराब प्रदर्शन जारी रहा। स्क्वैश में भारतीय महिला टीम को ग्रुप-बी के महत्वपूर्ण मुकाबले में हॉन्ग कॉन्ग के खिलाफ 1-2 से शिकस्त का सामना करना पड़ा जिससे सेमीफाइनल में उसे गत चैंपियन मलयेशिया के रूप में कड़े प्रतिद्वंद्वी से भिड़ना होगा। सीनियर खिलाड़ियों दीपिका पल्लीकल कार्तिक और जोशना चिनप्पा को जोए चेन और एनी एयू के खिलाफ क्रमश: 1-3 और 0-3 से हार का सामना करना पड़ा।
Amazon का एक प्रोग्राम है जिसका नाम है Amazon Affiliate Program , इस प्रोग्राम के तहत आप अमेज़न का प्रोडक्ट बिकवाकर कमीशन कमा सकते हैं। इसके लिए आपको एक वेबसाइट बनाना होगा और उसके बाद amazon affiliate account के लिए अप्लाई करना होगा। Account approve होने के बाद आप कोई भी प्रोडक्ट का link बना कर अपने website में लगा सकते हैं। जोभी आपके उस link से वो product खरीदेगा तो उसका commission amount आपको मिलेगा। हर product का अलग अलग कमीशन होता है। बहुत सारे लोग अमेज़न से घर बैठे Online पैसा कमा रहे हैं।
Hi friends : आज में आप लोगो को इस Post के माध्यम से घर बैठे Online पैसे कमाने का सबसे आसान तरीका बताने जा रहा हूँ | जिससे आप इस Technology की दुनिया में Internet द्वारा Online पैसे कमा सकते है | जैसाकि आप ये जानते ही होंगे | कि आज के समय में internet का उपयोग कितना बढता जा रहा है | और आज कल हमारे सभी काम Internet से ही होते है | जैसे Net Banking से हम Mobile Recharge, Online Shopping आदि जैसे और भी बहुत सारे काम कर सकते हैं |
केवल 500 वर्ग फुट एरिया में शुरू हो जाता है यह बिजनेस, जानें पूरी A,B,C,D यूरोप का एक गरीब देश कैसे बन गया वाइन का सुपरपावर, यहां है पुतिन और मार्केल का वाइन कलेक्शन तितली तूफान से 2800 करोड़ का नुकसान, संपत्ति से लेकर बागवानी तक को ले उड़ा 5 से 24 लाख में खरीदें घर या प्लॉट, बैंक कर रहे हैं नीलामी 30 की उम्र तय करती है आपका फ्यूचर, ऐसे उठाएं फायदा 100 रुपए का एक नोट बिक रहा है 181 रुपए में, 786 नंबर वाले एक नोट की कीमत 665 रुपए कोलकाता के दुर्गापूजा में 'बुलेट' ट्रेन, मात्र 70,000 में बनी है 68,500 शिक्षकों की होगी नई भर्ती, 11 दिसंबर से कर सकेंगे अप्लाई 2.25 करोड़ की इटली की ग्रैन तूरिज्मो स्पोर्ट कार लॉन्च, खरीद सकते हैं नवरात्र में दुर्घटना से बचने के लिए जरूरी है ये सेफ्टी फीचर, बाइक खरीदते वक्त रखें ध्यान सिग्नेचर ग्लोबल ने डिलीवर किया अफोर्डेबल हाउसिंग प्रोजेक्ट, दो की डिलीवरी जल्द इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन ने दिया झटका, रिटेल महंगाई मामूली बढ़कर 3.77% हुई बंद होने जा रहे हैं 90 करोड़ डेबिट और क्रेडिट कार्ड, सिर्फ तीन दिनों का मौका, हो जाएं अलर्ट सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं तो मिलेंगे नौकरी के ज्यादा मौके Q2 Results: HUL का प्रॉफिट 19.5% बढ़कर 1525 करोड़, 9 रु/शेयर डिविडेंड देने का ऐलान

तस्करीका मुख्य योजनाकार गोरे भनेर चिनिने चूडामणि उप्रेती हुन् । आफ्नो सुन हराएपछि उनले बनलाई नियन्त्रणमा लिएर धापासीस्थित थ्री मोटर्स ग्यारेजमा लगे । अनेक यातना पाएर ड्युटीमा फर्किएका बन अचानक २२ माघमा विमानस्थलभित्रै दुर्घटनामा मारिए । सिसिटिभी फुटेज भन्छ, ‘उताबाट उच्चगतिमा आइरहेको इन्धन ट्याङकरमुनि छिरेका बनले आत्महत्या गरेका हुन ।’ तर अनौठो, यो विषयमा विमानस्थल प्रशासन र प्रहरी संगठनले यो विषयमा गम्भीर अनुसन्धान गरेन । उनको मृत्युलाई सामान्य दुर्घटनाका रुपमा प्रहरी बुलेटिनबाट प्रचार गरियो ।
केवल 500 वर्ग फुट एरिया में शुरू हो जाता है यह बिजनेस, जानें पूरी A,B,C,D यूरोप का एक गरीब देश कैसे बन गया वाइन का सुपरपावर, यहां है पुतिन और मार्केल का वाइन कलेक्शन तितली तूफान से 2800 करोड़ का नुकसान, संपत्ति से लेकर बागवानी तक को ले उड़ा 5 से 24 लाख में खरीदें घर या प्लॉट, बैंक कर रहे हैं नीलामी 30 की उम्र तय करती है आपका फ्यूचर, ऐसे उठाएं फायदा 100 रुपए का एक नोट बिक रहा है 181 रुपए में, 786 नंबर वाले एक नोट की कीमत 665 रुपए कोलकाता के दुर्गापूजा में 'बुलेट' ट्रेन, मात्र 70,000 में बनी है 68,500 शिक्षकों की होगी नई भर्ती, 11 दिसंबर से कर सकेंगे अप्लाई 2.25 करोड़ की इटली की ग्रैन तूरिज्मो स्पोर्ट कार लॉन्च, खरीद सकते हैं नवरात्र में दुर्घटना से बचने के लिए जरूरी है ये सेफ्टी फीचर, बाइक खरीदते वक्त रखें ध्यान सिग्नेचर ग्लोबल ने डिलीवर किया अफोर्डेबल हाउसिंग प्रोजेक्ट, दो की डिलीवरी जल्द इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन ने दिया झटका, रिटेल महंगाई मामूली बढ़कर 3.77% हुई बंद होने जा रहे हैं 90 करोड़ डेबिट और क्रेडिट कार्ड, सिर्फ तीन दिनों का मौका, हो जाएं अलर्ट सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं तो मिलेंगे नौकरी के ज्यादा मौके Q2 Results: HUL का प्रॉफिट 19.5% बढ़कर 1525 करोड़, 9 रु/शेयर डिविडेंड देने का ऐलान
साथ ही जानिये कि किस तरह निवेश को डाइवर्सिफाई करके निवेश के रिस्क को कम किया जा सकता है. निवेश के लिए कंपनी कैसे चुन सकते हैं. किस तरीके से निवेश को डाइवर्सिफाई कर सकते हैं. लार्ज कैप, मिड कैप और स्माल कैप कम्पनियों में निवेश का क्या नजरिया होना चाहिए. हेजिंग क्या है और इससे शेयर बाजार में निवेश के रिस्क को कैसे कम किया जाता है. फ्यूचर और ऑप्शन्स क्या हैं यह भी समझने की कोशिश करेंगे.
मित्रों भारत को विश्व में सोने की चिड़िया कहा गया किन्तु एक बात सोचने वाली है कि यहाँ तो कोई सोने की खाने नहीं हैं फिर यहाँ विश्व का सबसे बड़ा सोने का भण्डार बना कैसे? यहाँ प्रश्न जरूर पैदा होते हैं किन्तु एक उत्तर यह मिलता है कि हम हमेशा से गरीब नहीं थे। अब जब भारत में सोना नहीं होता तो साफ़ है कि भारत में सोना आया विदेशों से। किन्तु हमने तो कभी किसी देश को नहीं लूटा। इतिहास में ऐसा कोई भी साक्ष्य नहीं है जिससे भारत पर ऐसा आरोप लगाया जा सके कि भारत ने अमुक देश को लूटा, भारत ने अमुक देश को गुलाम बनाया, न ही भारत ने आज कि तरह किसी देश से कोई क़र्ज़ लिया फिर यह सोना आया कहाँ से? तो यहाँ जानकारी लेने पर आपको कूछ ऐसे सबूत मिलेंगे जिससे पता चलता है कि कालान्तर में भारत का निर्यात विश्व का ३३% था। अर्थात विश्व भर में होने वाले कुल निर्यात का ३३% निर्यात भारत से होता था। हम ३५०० वर्षों तक दुनिया में कपडा निर्यात करते रहे क्यों की भारत में उत्तम कोटी का कपास पैदा होता था। तो दुनिता को सबसे पहले कपडा पहनाने वाला देश भारत ही रहा है। कपडे के बाद खान पान की अनेक वस्तुएं भारत दुनिया में निर्यात करता था क्यों कि खेती का सबसे पहले जन्म भारत में ही हुआ है। खान पान के बाद भारत में करीब ९० अलग अलग प्रकार के खनीज भारत भूमी से निकलते है जिनमे लोहा, ताम्बा, अभ्रक, जस्ता, बौक् साईट, एल्यूमीनियम और न जाने क्या क्या होता था। भारत में सबसे पहले इस्पात बनाया और इतना उत्तम कोटी का बनाया कि उससे बने जहाज सैकड़ों वर्षों तक पानी पर तैरते रहते किन्तु जंग नहीं खाते थे। क्यों की भारत में पैदा होने वाला लौह अयस्क इतनी उत्तम कोटी का था कि उससे उत्तम कोटी का इस्पात बनाया गया। लोहे को गलाने के लिये भट्टी लगानी पड़ती है और करीब १५०० डिग्री ताप की जरूरत पड़ती है और उस समय केवल लकड़ी ही एक मात्र माध्यम थी जिसे जलाया जा सके। और लकड़ी अधिकतम ७०० डिग्री ताप दे सकती है फिर हम १५०० डिग्री तापमान कहा से लाते थे वो भी बिना बिजली के? तो पता चलता है कि भारत वासी उस समय कूछ विशिष्ट रसायनों का उपयोग करते थे अर्थात रसायन शास्त्र की खोज भी भारत ने ही की। खनीज के बाद चिकत्सा के क्षेत्र में भी भारत का ही सिक्का चलता था क्यों कि भारत की औषधियां पूरी दुनिया खाती थी। और इन सब वस्तुओं के बदले अफ्रीका जैसे स्वर्ण उत्पादक देश भारत को सोना देते थे। तराजू के एक पलड़े में सोना होता था और दूसरे में कपडा। इस प्रकार भारत में सोने का भण्डार बना। एक ऐसा देश जहाँ गाँव गाँव में दैनिक जीवन की लगभग सभी वस्तुएं लोगों को अपने ही आस पास मिल जाती थी केवल एक नमक के लिये उन्हें भारत के बंदरगाहों की तरफ जाना पड़ता था क्यों कि नमक केवल समुद्र से ही पैदा होता है। तो विश्व का एक इ तना स्वावलंबी देश भारत रहा है और हज़ारों वर्षों से रहा है और आज भी भारत की प्रकृती इतनी ही दयालु है, इतनी ही अमीर है और अब तो भारत में राजस्थान में बाड़मेर, जैसलमेर, बीकानेर में पेट्रोलियम भी मिल गया है तो आज भारत गरीब क्यों है और प्रकृति की कोई दया नहीं होने के बाद यूरोप इतना अमीर क्यों?

 आजकल बहुत से ऑनलाइन  फ्रॉड होते हैं ऐसे में हो सकता है कि आप भी किसीफ्रॉड में फस जाए इससे पहले आप यह खबर जरूर पढ़ें यदि आपके बच्चे हैं कोई फैमिली मेंबर व्हाट्सएप फेसबुक या और कोई चैटिंग साइट यूज करता है तो उसे सावधानी बरतने को कहे क्योंकि पिछले कुछ दिनों में 'ओलिविया होक्स' नाम का वॉट्सऐप फ्रॉड चर्चा में आया है, जिसे लेकर ओडिशा पुलिस की क्राइम ब्रांच ने चेतावनी जारी करते हुए सावधान रहने की हिदायत दी है।

ऑनलाइन रिसर्च: युवा अपना अधिकतर समय इंटरनेट पर बिताते हैं, ऐसे में क्यों न इसे अपना काम की चीज ही बना लें। हालांकि ऑनलाइन रिसर्च का काम सुनने में बड़ा बोरिंग लगता है लेकिन इससे आपको अच्छी कमाई के साथ कई विषयों के बारे में जानकारी पाने का अवसर भी मिलता है। आप इसके लिए बिजनेस या मीडिया हाउसेस या फिर किसी कंपनी में काम कर सकते हैं। अधिकतर समय यह काम घर से भी किया जा सकता है।
दस्तूर। कुछ जगहों में बिज़नेस करते वक्‍त एक-दूसरे को तोहफे देने का दस्तूर होता है। तोहफा जितना महँगा होता है और जिस मतलब से दिया जाता है, यह बताना उतना ही मुश्‍किल होता है कि यह वाकई एक तोहफा है या रिश्‍वत। बहुत-से देशों में भ्रष्ट अधिकारी तब तक काम नहीं करते जब तक उनकी जेब गरम न की जाए। और किसी का काम जल्दी करवाने के लिए वे खुशी-खुशी चढ़ावा लेते हैं।
4 अरे बदचलनी करनेवालियो,* क्या तुम नहीं जानतीं कि दुनिया के साथ दोस्ती करने का मतलब परमेश्‍वर से दुश्‍मनी करना है? इसलिए, जो कोई इस दुनिया का दोस्त बनना चाहता है वह खुद को परमेश्‍वर का दुश्‍मन बनाता है। 5 या क्या तुम्हें लगता है कि शास्त्रवचन बिना वजह ही कहता है: “ईर्ष्या करने की जो फितरत हमारे अंदर समायी हुई है, वह लगातार अलग-अलग बातों की चाह करती रहती है”? 6 मगर, परमेश्‍वर जो महा-कृपा हमें देता है वह हमारी इस फितरत से कहीं महान है। इसलिए यह वचन कहता है: “परमेश्‍वर घमंडियों का सामना करता है, मगर नम्र लोगों को अपनी महा-कृपा देता है।”

हर कोई कार्यालय में अनन्त घंटे बिताए बिना ऑनलाइन पैसा कमाने के लिए चाहता है, लेकिन दुर्भाग्य से हर कोई जानता है कि इस सपने को वास्तविकता में बदलने के लिए कैसे। ज्यादातर लोगों का मानना ​​है कि कोई दैनिक दफ्तरों के बिना अमीर बन सकता है वे पारिवारिक समारोहों को खोने, हर डॉलर बचाने और आशा करते हैं कि कुछ दिन चीजें बदलेगी। यदि हम आपको बताते हैं कि हम आज आपके लिए चीजें बदल सकते हैं, तो क्या होगा?
तो मित्रों अब मुझे समझ आया कि भारत इतना गरीब कैसे हुआ, किन्तु एक प्रश्न अभी भी सामने है कि स्वीटजरलैंड जैसा देश आज इतना अमीर कैसे है जो आज भी किसी भी प्रकार का कार्य न करने पर भी मज़े कर रहा है। तो मित्रों यहाँ आप जानते होंगे कि स्वीटजरलैंड में स्विस बैंक नामक संस्था है, केवल यही एक काम है जो स्वीटजरलैंड को सबसे अमीर देश बनाए बैठा है। स्विस बैंक एक ऐसा बैंक है जो किसी भी व्यक्ति का कित ना भी पैसा कभी भी किसी भी समय जमा कर लेता है। रात के दो बजे भी यहाँ काम चलता मिलेगा। आपसे पूछा भी नहीं जाएगा कि यह पैसा आपके पास कहाँ से आया? और उसपर आपको एक रुपये का भी ब्याज नहीं मिलेगा। और ये बैंक आपसे पैसा लेकर भारी ब्याज पर लोगों को क़र्ज़ देता है। खाताधारी यदि अपना पैसा निकालने से पहले यदि मर जाए तो उस पैसा का मालिक स्विस बैंक होगा, क्यों कि यहाँ उत्तराधिकार जैसी कोई परम्परा नहीं है। और स्वीटजरलैंड अकेला नहीं है, ऐसे ७० देश और हैं जहाँ काला धन जमा होता है इनमे पनामा और टोबैको जैसे देश हैं।
मैंने श्री राजिव दीक्षित जी के दु:खद निधन के बारे में प्रवकता.कॉम की ओर से प्रस्तुत कोई लेख को देखने की अभिलाषा से वेबसाईट को खोजा| ऐसा कोई मृतविवरण तो नहीं मिला, संभवतः ठीक प्रकार से खोज न की हो लेकिन आपका लेख अवश्य देखने और पढ़ने को मिला| आपके लेख में बताये तथ्य को सभी जानते हैं लेकिन बहुत कम लोग हैं जो सोचते भी हैं| लेकिन सोचने वालों की संख्या इतनी कम है कि जैसे बड़े से बर्तन में पाँव भर दूध उबल उबल कर जल जाये नष्ट हो जाये और किसी को मालुम ही न हो| मेरे विचार में जवाहरलाल नेहरु के प्रयोगात्मक समाजवाद से उत्पन्न अभाव से बचने के लिए स्वतन्त्र भारत की पहली पढ़ी-लिखी पेशेवर युवा पीढ़ी ने १९७० दशक से भारत छोड़ अमरीका और दूसरे पाश्चिम देशों में जा बसने का जो बीज बोया था वह वास्तविकता में संपूर्ण आज़ादी थी—अंग्रेजों के बनाये कानूनी चक्रव्यूह से और समाजवाद से| और आज आपका लेख पढ़ ऐसा प्रतीत होता है कि तथाकथिक स्वतंत्रता के तिरेसठ वर्षों बाद आज की युवा-पीढ़ी इन काले अंग्रेजों की सत्ता को उखाड फैंक यथार्थ स्वतंत्रता प्राप्त करेगी| आपका लेख सभी हिंदी-भाषी व प्रांतीय भाषों में प्रकाशित पत्रिकाओं में प्रस्तुत होना चाहिए|
दोस्तों आप जो भी नौकरी या फिर कोई काम कर रहे हो उसको कभी मत छोड़ो उसके साथ-साथ कुछ और करने की हिम्मत रखो दोस्तों अगर आप अपने काम के साथ-साथ 1 से 2 घंटे कोई और काम करते हैं तो आपको बहुत ज्यादा बचत होगी वह काम क्या होंगे मैं आपको बताऊंगा दोस्तों मान लीजिए आप दिन में 8 घंटे ड्यूटी करते हैं जैसे कि अगर आप सुबह 8:00 बजे ड्यूटी पर जाते हैं शाम 5:00 बजे घर वापस आते हैं
Make Money in Hindi : बहुत सारे लोग जीवनयापन की ख़ातिर नौकरी करते हैं – और ऐसे लोगों के बिना अमीर लोग ज़्यादा अमीर नहीं बन सकते। इसका यह मतलब नहीं है कि कर्मचारियों का शोषण या इस्तेमाल हो रहा है। जब तक लोग हम्माल बनने का चुनाव करेंगे और तनख़्वाह के लिए अपना सारा वक्त तथा ऊर्जा लगा देंगे, तब तक ऐसे दूसरे लोग हमेशा रहेंगे, जो अवसर को तत्काल ताड़ लेंगे और समृद्ध बन जाएँगे। इसका कारण सिर्फ़ यह है कि वे मुँडेर के ऊपर सिर उठाकर आगे तक देख सकते हैं।
5 इसलिए अगर तुममें से किसी को बुद्धि की कमी हो तो वह परमेश्‍वर से माँगता रहे+ और वह उसे दी जाएगी,+ क्योंकि परमेश्‍वर सबको उदारता से और बिना डाँटे-फटकारे* देता है।+ 6 लेकिन वह विश्‍वास के साथ माँगता रहे+ और ज़रा भी शक न करे,+ क्योंकि जो शक करता है वह समुंदर की लहरों जैसा होता है जो हवा से यहाँ-वहाँ उछलती रहती हैं। 7 दरअसल ऐसा इंसान यह उम्मीद न करे कि वह यहोवा* से कुछ पाएगा। 8 ऐसा इंसान उलझन में रहता है*+ और सारी बातों में डाँवाँडोल होता है।
अगर आप ऐसी जॉब के बारें में सोच रहे है। जिसमें बॉस की कोई टेंशन न हो। जब आपको अच्छा लगे, तब काम करें। जिस कंपनी या क्लांइट के साथ काम करने का मन हो उसके साथ करें। तो आप ऑनलाइन फ्रीलांसिंग कंपनियों को ज्वाइन कर सकते हैं। अगर आप इन कंपनियों को रोज 3 से 4 घंटे भी देते हैं तो आप 10 से 15 हजार आराम से घर बैठें कमा सकते हैं। आजकल ऐसा ही देखा जा रहा है कि लोग अपने करियर ग्रोथ के लिए पार्ट टाइम जॉब्स का सहारा ले रहे हैं। इससे वह कंपनी से दूर खुद की एक पहचान भी बना रहे हैं और साथ में पैसा भी कमा रहे हैं। अगर आप भी इस तरह की टेंशन फ्री जॉब करना चाहते हैं तो यहां ऐसी वेबसाइट्स के बारें में जानकारी दी जा रही है।
क्यूबर आपको ऑनलाइन शॉपिंग पर कैशबैक का उल्लेख करने और अर्जित करने देता है जो आप करते हैं। आपको बस उस वेबसाइट का चयन करना है, जिसके माध्यम से आप क्यूबर आवेदन से खरीदारी करना चाहते हैं और आपको उस वेबसाइट पर पुनर्निर्देशित किया जाएगा या एक आवेदन जहां आप अपनी पसंद के उत्पाद खरीद सकते हैं। उसी के लिए कैशबैक जल्द ही आपके क्यूबर वॉलेट में जमा कर दिया जाएगा।
×