अगर हम Blogging mein AdSense approval की बात करें तो इसे पाने में अधिकतर Bloggers को 4 से 5 महीने लग जाते हैं वहीँ YouTube में AdSense approval पाना बहुत ही आसान सी बात है. हाँ यहाँ एक बात समझने वाली है की YouTube में AdSense Account “AdSense for content hosts” होता हैं जो की Traditional ads जो की blogs में दिखाते हैं उससे काफी अलग है और differently काम करता है.
हेलो दोस्तों हर किसी के मन में एक यही सवाल चलता रहता है क्या अमीर कैसे बने हां तो दोस्तों आज मैं आपको बताऊंगा अमीर बनने के कुछ ऐसे तरीके जो फिर आप किसी से नहीं बोलोगे क्या अमीर कैसे बने अगर दोस्तों मेरे बताए हुए यह 3 नियम और 3 तरीके आजमाते हो तो आपको कोई भी अमीर बनने से नहीं रोक सकता दोस्तों अब आपको यह पूरा पोस्ट विस्तार से पढ़ना है ताकि आपके समझ में सब कुछ आ जाए
यदि आपके पास भी कोई ऐसा टैलेंट है या आपके पास ऐसी कोई प्रतिभा है जिसे आप दुनिया को दिखाना चाहते हैं और आपकी प्रतिभा लोगों के काम को आसान बनाती है तो आप एक YouTube चैनल बना सकते हैं जब आप अपनी वीडियो यूट्यूब पर अपलोड करेंगे तो लोगों को वह पसंद आनी चाहिए. जब आपकी वीडियो पर बहुत सारे व्यूज आने लगेंगे तो आप वीडियो को Google Adsense से कनेक्ट करके YouTube से पैसे कमा सकते है.
अगर आप नहीं जानते ब्लॉग बनाने के लिए क्या चाहिए तो आप ये पोस्ट पढ़े वेबसाइट या ब्लॉग बनाने के लिए क्या क्या चाहिएजैसे ही आप अपने ब्लॉग बना लेते है इसके बाद आपको रोजाना पोस्ट यानि आर्टिकल लिखना है किसी भी टॉपिक पर जिसके बारे में आपको अच्छे से ज्ञान हो जैसे ही आपके ब्लॉग पे रोजाना अच्छा खासा ट्रैफिक आने लगे यानि लोग आपके ब्लॉग को पढने लगे तो इसके बाद आप अपने ब्लॉग पर एडवरटाइजिंग (Advertising) दिखा कर पैसे (Paise) कमा सकते है तो इसके लिए आप गूगल ऐडसेंस का इस्तेमाल कर सकते है इसके अलावा आप अफ्फीलियेट मार्केटिंग (affiliate marketing) या फिर स्पोंसर कंटेंट लिख कर भी ब्लॉग से पैसे कमा सकते है लेकिन ब्लॉग में आप एकदम से पैसे नहीं कमा सकते है इसके लिए कुछ समय लगता है और साथ में आपको हार्ड वर्क भी करना होगा.
In March 2017, SpaceX saw the successful test flight and landing of a Falcon 9 rocket made from reusable parts, a development that opened the door for more affordable space travel. A setback came in November 2017, when an explosion occurred during a test of the company's new Block 5 Merlin engine. SpaceX reported that no one was hurt, and that the issue would not hamper its planned rollout of a future generation of Falcon 9 rockets.

यूट्यूब को इन्टरनेट की दुनिया में कोन नहीं जानता ये एक ऐसा प्लेटफार्म है जहा पर आप किसी भी तरह की जानकारी ले सकते हो विडियो की मदद से और वीडियोस को शेयर कर सकते हो अगर आपके पास कोई टैलेंट है जैसे सिंगिंग डांसिंग , कुछ भी टैलेंट हो तो आप यूट्यूब पे शेयर करके कर सकते है और लोगो तक अपने टैलेंट को आसानी से पोहचा सकते है इसके अलावा आप यूट्यूब पे ऑनलाइन पैसे (online paise) भी कमा सकते है विडियो को मोनेटाइज कर के.


घर बैठकर कंपनी के काम को करना . ग्राहकों से बातचीत करना इसमें शामिल है. यह काम आभासी सहायक (वर्चुअल असिस्टेंट यानी वीए) करता है. वीए मूल रूप से अपने ग्राहकों के साथ ऑनलाइन वार्तालाप करते हैं और अपने व्यवसाय के पहलुओं का प्रबंधन करते हैं. जब आप आभासी सहायक के रूप में काम करते हैं, तो आप कर्मचारी के रूप में काम करना चुन सकते हैं या आप अपना खुद का व्यवसाय स्थापित कर सकते हैं.
श्री दिवस दिनेश गौड़ जी को बहुत बहुत बधाई. आपने कुछ पराग्राफो में पूरा इतिहास (सच्चा इतिहास) लिख दिया है. यह वास्तविक सत्य है की हमारे देश में सच्चा इतिहास कभी पढाया नहीं जाता है. जो इतिहास पढाया जाता है वोह अंग्रजो द्वारा approved है. कहते है — दूध का जला —— —–. जब हमारे देश के लोगो को इतिहास नहीं पता होगा तो उनके खून में उबाल कहाँ से आएगा. फिर से गौड़ जी को धन्यवाद.
आज कल ज्यादातर लोग offline से ज्यादा online course लेना पसंद कर रहे हैं. आखिर ये online course होता क्या है? ये एक platform है जहाँ लोग पैसे खर्च करके अपना मन पसंद skill सिख सकते है. मान लीजिये आपको Photography में interest है. तो ये सिखने केलिए आपको एक academy को join करना होगा. अब ये तो मुमकिन नहिं के आप जो पढ़ना या सीखना चाहते हैं वो आपके घर के पास हो; इसके लिए आपको बाहर भी जाना पड़ सकता है. पर online tution के जरिये कोई भी घर बैठे अपना मन चाहा course ले सकता है.
थॉमस रो ने सबसे पहले सूरत के एक महल नुमा घर को लूटा जो आज भी मौजूद है। फिर पड़ोस के गाँव में और फिर और आगे। खाली हाथ आये इन अंग्रजों के पास जब करोड़ों की संपत्ति आई तो इन्होने अपनी खुद की सेना बनायी। उसके बाद सन १७५७ में रोबर्ट क्लाइव बंगाल के रास्ते भारत आया उस समय बंगाल का राजा सिराजुद्योला था। उसने अंग्रेजों से संधि करने से मना कर दिया तो रोबर्ट क्लाइव ने युद्ध की धमकी दी और केवल ३५० अंग्रेज सैनिकों के साथ युद्ध के लिये गया। बदले में सिराजुद्योला ने १८००० की सेना भेजी और सेनापति बनाया मीर जाफर को। तब रोबर्ट क्लाइव ने मीर जाफर को पत्र भेज कर उसे बंगाल की राज गद्दी का लालच देकर उससे संधि कर ली। रोबर्ट क्लाइव ने अपनी डायरी में लिखा था कि बंगाल की राजधानी जाते हुए मै और मीर जाफर सबसे आगे, हमारे पीछे मेरी ३५० की अंग्रेज सेना और उनके पीछे बंगाल की १८००० की सेना। और रास्‍ते में जितने भी भारतीय हमें मिले उन्होंने हमारा कोई विरोध नहीं किया, उस समय यदि सभी भारतीयों ने मिल कर हमारा विरोध किया होता या हम पर पत्थर फैंके होते तो शायद हम कभी भारत में अपना साम्राज्य नहीं बना पाते। वो डायरी आज भी इंग्लैण्ड में है। मीर जाफर को राजा बनवाने के बाद धोखे से उसे मार कर मीर कासिम को राजा बनाया और फिर उसे मरवाकर खुद बंगाल का राजा बना। ६ साल लूटने के बाद उसका स्थानातरण इंग्लैण्ड हुआ और वहां जा कर जब उससे पूछा गया कि कितना माल लाये हो तो उसने कहा कि मै सोने के सिक्के, चांदी के सिक्के और बेश कीमती हीरे जवाहरात लाया हूँ। मैंने उन्हें गिना तो नहीं किन्तु इन्हें भारत से इंग्लैण्ड लाने के लिये मुझे ९०० पानी के जहाज़ किराये पर लेने पड़े। अब सोचो एक अकेला रोबर्ट क्लाइव ने इतना लूटा तो भारत में उसके जैसे ८४ ब्रीटिश अधीकारी आये जिन्होंने भारत को लूटा। रोबर्ट क्लाइव के बाद वॉरेन हेस्टिंग्स नामक अंग्रेज अधीकारी आया उसने भी लूटा, उसके बाद विलियम पिट, उसके बाद कर्जन, लौरेंस, विलियम मेल्टिन और न जाने कौन कौन से लुटेरों ने लूटा। और इन सभी ने अपने अपने वाक्यों में भारत की जो व्याख्या की उनमे एक बात सबमे सामान है। सबने अपने अपने शब्दों में कहा कि भारत सोने की चिड़िया नहीं सोने का महासागर है। इनका लूटने का प्रारम्भिक तरीका यह था कि ये किसी धनवान व्यक्ति को एक चिट्ठी भेजते थे जिसमे एक करोड़, दो करोड़ या पांच करोड़ स्वर्ण मुद्राओं की मांग करते थे और न देने पर घर में घुस कर लूटने की धमकी देते थे। ऐसे में एक भारतीय सोचता कि अभी नहीं दिया तो घर से दस गुना लूट के ले जाएगा अत: वे उनकी मांग पूरी करते गए। धनवानों के बाद बारी आई देश के अन्य राज्यों के राजाओं की। वे अन्य राज परीवारों को भी ऐसे ही पत्र भेजते थे। कूछ राज परिवार जो कायर थे उनकी मांग मान लेते थे किन्तु कूछ साहसी लोग ऐसे भी थे जो उन्हें युद्ध के लिये ललकारते थे। फिर अंग्रेजों ने राजाओं से संधि करना शुरू कर दिया।

22 लेकिन वचन पर चलनेवाले बनो, न कि सिर्फ सुननेवाले जो झूठी दलीलों से खुद को धोखा देते हैं। 23 क्योंकि जो कोई वचन को सुनता है मगर उस पर चलता नहीं, वह उस इंसान के जैसा है जो आइने में अपना असली चेहरा देखता है। 24 वह अपनी सूरत देखता है और चला जाता है, और फौरन भूल जाता है कि वह किस किस्म का इंसान है। 25 मगर जो इंसान आज़ादी दिलानेवाले सिद्ध कानून की बहुत करीब से जाँच करता है और इसमें खोजबीन करता रहता है, वह ऐसा करने से खुशी पाएगा क्योंकि वह सुनकर भूलता नहीं मगर वचन पर चलनेवाला बनता है।
आलेख की विषय वस्तु भले ही सर्वज्ञात है किन्तु उसे प्रमाणिक स्वरूप देने का यह य्र्यास अच्छा है …भाषा प्रवाह में कतिपय धत्ता विधानों की कमी तथा पुनरावृति दोष से बचें ..आलेख -कुल मिलाकर देशभक्त पूर्ण है किन्तु मोदी जी को सम्मानित करने के फेर मेंअन्य अनेक गुमनाम वास्तविक .राष्ट्रवादियों की उपेक्षा अपने आप ही हो जाना स्वाभाविक है …दिवस दिनेश गौर का आलेख प्रकाशित कर प्रवक्ता .कॉम ने बेहतरीन देशभक्ति पूर्ण कार्य किया है ..साधुवाद …

हम सभी को ये बात तो पता ही है की हमारे देश में बेरोजगारी की समस्या बहुत है. लोगों को पढाई करने के बाद अच्छी नौकरी नहीं मिल पा रही है जिससे लोग पैसे कमाने के लिए crime जैसे घिनोने काम को करने के लिए भी पीछे नहीं हट रहे है और जिससे इसमें बढ़ोतरी नज़र आ रही है. ऐसे में लोग अलग अलग तरीकों से पैसे कमाने के बारे में सोच रहे है. जिसमे की लोग Offline के साथ साथ Online के तरफ भी अपनी इच्छा प्रकट कर रहे हैं.
क्यूबर अपनी तरह का एक प्रकार है और लाइफटाइम रॉयल्टी कमाई करने वाला ऐप है – त्वरित रिचार्ज से बिल पे को शॉप और कमाई से कई विशेषताएं हैं। इतना है कि आप इसके साथ कर सकते हैं! यह मोबाइल रिचार्ज, पोस्ट-पेड बिल भुगतान, गैस बिल, बिजली और डेटा कार्ड बिल, बीमा, बुकिंग बस टिकट और यहां तक ​​कि ऑनलाइन शॉपिंग के लिए एक भी आवेदन है। क्यूबर एक सामाजिक आर्थिक समुदाय के रूप में विकसित किया गया है, हर किसी के लिए एक मंच और सब कुछ
×